Sunday, August 14, 2022
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेक₹6000 इनाम दे रहा भारतीय रेलवे... देना होगा सिर्फ 4 सवालों का जवाब: वायरल...

₹6000 इनाम दे रहा भारतीय रेलवे… देना होगा सिर्फ 4 सवालों का जवाब: वायरल है यह मैसेज, जानें सच्चाई

साथ में एक तस्वीर लगी है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक ट्रेन को हरी झंडी दिखा रहे हैं। चार सवालों में से पहला सवाल है...

सोशल मीडिया पर भारतीय रेलवे को लेकर कुछ दावे वायरल हो रहे हैं, जिसे लेकर आधिकारिक रूप से सफाई दी गई है। दरअसल, लोगों को एक वेबसाइट से इनाम जीतने के मैसेज आ रहे हैं, जो देखने में भारतीय रेलवे की ही वेबसाइट लगती है। इसमें भारतीय रेलवे का ही लोगों और टैगलाइन लगा हुआ है। साथ ही एक तरफ तारीख़ लिखी रहती है। ऊपर ‘इंडियन रेलवेज गवर्नमेंट ट्रांसपोर्ट सब्सिडी’ लिखा हुआ आ रहा है। व्हाट्सएप्प फॉरवर्ड में भी इस तरह की चीजें वायरल हो रही हैं।

साथ ही बड़े-बड़े अक्षरों में ‘Congratulations’ लिखा हुआ आ रहा है। इसमें बताया गया है कि कुछ प्रश्नों के सही-सही जवाब देने के बाद आपके पास 6000 रुपए जीतने का मौका होगा। साथ में एक तस्वीर लगी है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक ट्रेन को हरी झंडी दिखा रहे हैं। चार सवालों में से पहला सवाल है – “क्या आप भारतोय रेलवे को जानते हैं?” साथ ही ‘Yes’ और ‘No’ के विकल्प दिए गए हैं। आइए, आपको बताते हैं इसकी सच्चाई क्या है। हमारे कुछ पाठकों ने ही इसके विवरण भेज कर हमसे इसकी सच्चाई जानने की कोशिश की, जिसके बाद हमने इसकी पड़ताल की।

दरअसल, भारतीय रेलवे ने खुद इसका स्क्रीनशॉट शेयर कर के बताया है कि ये एकदम फेक है। भारतीय रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट ‘https://indianrailways.gov.in‘ है और इसके अलावा ‘https://www.irctc.co.in‘ से टिकट की बुकिंग होती है। आधिकारिक या सरकारी वेबसाइट्स से जो भी चीजें आती हैं, केवल वही प्रमाणित हैं। इसीलिए, ऐसे मैसेज जिस साइट पर आ रहे हैं उन्हें अच्छे से चेक कर लें।

केंद्रीय रेल मंत्रालय ने कहा है कि लोग फेक वेबसाइटों से सतर्क और सावधान रहें। मंत्रालय ने कहा, “इन कपटपूर्ण वेबसाइटों से सावधान रहें, जो भारतीय रेलवे की तरफ से सब्सिडी और इनाम में रुपए ऑफर कर रहे हैं। पुष्ट जानकारी केवल हमारी आधिकारिक वेबसाइट से ही मिलेगी।” बता दें कि अक्सर व्हाट्सएप्प वगैरह के जरिए इस तरह के सन्देश वायरल होते रहते हैं। PIB ने भी इसे फेक लॉटरी मैसेज बताते हुए स्कैम करार दिया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

एक हिंदू ने लिखा था पाकिस्तान का पहला कौमी तराना ‘ऐ सरजमीने पाक’… लेकिन भारत में बची जिंदगी: कट्टरपंथियों ने बदल डाला ‘काफिर का...

पाकिस्तान के बँटवारे से पहले जिन्ना ने लाहौर के हिंदू और उर्दू के विद्वान जगन्नाथ आजाद से कौमी तराना लिखवाया, जो 18 महीने बाद बदल गया।

बायकॉट से ही बॉक्स ऑफिस पर डूबा ‘लाल सिंह चड्ढा’: बोले तरण आदर्श- हकीकत से मुँह न मोड़ो, कबूलो इसका असर

सोशल मीडिया पर लाल सिंह चड्ढा के बहिष्कार का आह्वान सिनेमाघरों पर असर दिखा रहा है। ऐसे में तरण आदर्श ने कहा है कि बॉयकॉट को कभी हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,617FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe