यूथ कॉन्ग्रेस प्रमुख ने मोदी सरकार के बिहार पैकेज पर फैलाई फर्जी सूचना, BJP अध्यक्ष के बयान में घुसाई अपनी गणित

श्रीनिवास बीवी (बाएँ), जेपी नड्डा (दाएँ), (साभार: News 18 and DNA)

बिहार चुनाव से पहले, कॉन्ग्रेस पार्टी ने एनडीए सरकार को निशाना बनाने के लिए फर्जी खबर और गलत सूचनाओं का सहारा लेना शुरू कर दिया है। ऐसा लगता है जैसे चुनावों में भारी नजर आ रही भाजपा के खिलाफ महागठबंधन के पास किसी तरह की कोई राजनीतिक बयानबाजी न होने के कारण उनके पास तथ्यों को तोड़-मरोड़कर पेश करना ही आखिरी विकल्प रह गया है।

बुधवार (अक्टूबर 21, 2020) को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने बिहार के मोतिहारी में एक जनसभा को संबोधित किया। अपने 30 मिनट के लंबे भाषण के दौरान, जेपी नड्डा ने मोदी सरकार द्वारा पिछले 5 वर्षों के दौरान स्वीकृत पैकेज पर प्रकाश डाला। जेपी नड्डा के इस भाषण पर यूथ कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने निशाना साधा

यूथ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने फर्जी खबरों के साथ भाजपा पर निशाना साधा

उन्होंने भाजपा के आधिकारिक हैंडल से एक ट्वीट को रीट्वीट किया, जिसमें जेपी नड्डा के भाषण के सिर्फ एक छोटे हिस्से पर प्रकाश डाला गया था। बीजेपी ने ट्वीट किया था, ‘5 साल पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि बिहार राज्य में कुल 1,25,000 करोड़ रुपए खर्च किए जाएँगे। उस समय लालू यादव (राजद सुप्रीमो) ने इसे चुनावी जुमला करार दिया था। पिछले 5 वर्षों में पीएम मोदी ने किसानों के लिए 3,904 करोड़ रुपए, शिक्षा के लिए 1,000 करोड़ रुपए और स्वास्थ्य के लिए 600 करोड़ रुपए भेजे थे।”

इस धारणा के तहत कि बिहार में मोदी सरकार द्वारा किया गया यह एकमात्र खर्च था, यूथ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने यह आरोप लगाने की कोशिश की कि भाजपा ने लोगों से किए गए वादों में से एक चौथाई धन भी खर्च नहीं किया है। उन्होंने दावा किया, “लगता है शाखा में पढ़ाई गई गणित के हिसाब से 3,904 करोड़ रुपए+ 1,000 करोड़ रुपए+ 600 करोड़ = 1, 25,000 करोड़ रुपए होता है। जैसा चौपट राजा (पीएम मोदी) वैसा ही सेनापति।”

Screengrab of the tweet by Srinivas BV

सच क्या है?

हालाँकि जेपी नड्डा ने केंद्र सरकार द्वारा स्वीकृत बिहार पैकेज के पूरे ब्रेकडाउन को सूचीबद्ध किया था, मगर यूथ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने भाषण के केवल एक छोटे से हिस्से का इस्तेमाल करते हुए उन्हें और भाजपा को निशाना बनाने की कोशिश की। भाजपा द्वारा पोस्ट किए गए बाद के ट्वीट में बिहार के कल्याण के लिए मोदी सरकार द्वारा किए गए अन्य खर्चों को इंगित किया गया था।

ट्वीट में कहा गया था, “बिजली के लिए 16,130 करोड़ रुपए, सड़कों के लिए 13,820 करोड़ रुपए, हाइवे पर 54,713 करोड़ रुपए, एयरपोर्ट के लिए 2,700 करोड़ रुपए, पेट्रोलियम और गैस लाइन के लिए 21, 476 करोड़ रुपए और अमृत की 22 जगहों के लिए 1,400 करोड़ रुपए दिए हैं।”

भाजपा के ट्विटर हैंडल ने बिहार पैकेज के प्रत्येक विवरण को सूचीबद्ध किया है। ट्विटर पर कैरेक्टर लिमिटेशन होने की वजह से इसका विवरण कई ट्वीट्स में दिया गया है। स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, पेट्रोलियम, बिजली, सड़क और राजमार्ग निर्माण आदि पर खर्च की गई राशि को जोड़ने पर कुल खर्च 1,25,000 करोड़ के करीब है।

हालाँकि, यूथ कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष ने मोदी सरकार द्वारा स्वीकृत कुल पैकेज के रूप में स्वास्थ्य, शिक्षा और किसानों पर होने वाले खर्च को झूठा मानते हुए आरएसएस की शाखाओं पर कटाक्ष करने की कोशिश की। उन्होंने दावा किया कि भाजपा में गणित की समझ का अभाव है, इससे स्पष्ट होता है कि श्रीनिवास बीवी में निश्चित रूप से गणित और अन्य विषयों की मूलभूत समझ की कमी है।

ऑपइंडिया स्टाफ़: कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया