Monday, August 2, 2021
Homeफ़ैक्ट चेकसोशल मीडिया फ़ैक्ट चेकक्या कोर्ट ने लियो टॉलस्टॉय की 'वॉर एंड पीस' पुस्तक को लेकर आपत्ति जताई?...

क्या कोर्ट ने लियो टॉलस्टॉय की ‘वॉर एंड पीस’ पुस्तक को लेकर आपत्ति जताई? जानिए सच

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो पुस्तक पढ़ रहे थे और अर्बन नक्सल गोंजाल्विस के घर में जो पुस्तक पड़ी थी, दोनों अलग-अलग हैं लेकिन दोनों के नाम कमोबेश समान हैं, जिसका फ़ायदा सोशल मीडिया के ठेकेदारों ने उठाया।

भीमा कोरेगाँव हिंसा मामले में सुनवाई करते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने अर्बन नक्सल वर्नोन गोंजाल्विस से पूछा कि उनके घर में पुस्तक ‘वॉर एंड पीस इन जंगल महल- पीपल, स्टेट एंड माओइस्ट्स‘ क्या कर रही थी? दरअसल, अदालत ने केवल इसी पुस्तक को लेकर उनसे सवाल नहीं पूछे बल्कि उनके पास कई अन्य आपत्तिजनक पुस्तकें और सीडी पड़ी हुई थीं, जिसे लेकर कोर्ट ने आपत्ति जताई। इनमें से एक सीडी तो ‘सरकार द्वारा किए जा रहे दमन का विरोध’ के बारे में था।

इसके बाद सोशल मीडिया पर दरबारी पत्रकारों व वामपंथी ठेकेदारों ने जज का ही मज़ाक बनाना शुरू कर दिया। न सिर्फ़ जज का मज़ाक बनाया गया बल्कि भीमा कोरेगाँव हिंसा जैसी गंभीर घटना के मामले में असंवेदनशीलता दिखाई गई। इतना ही नहीं, ठेकेदारों, दरबारियों और वामपंथियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक वीडिओ निकाल कर लाया, जिसमें दावा किया गया कि वह भी ‘वॉर एंड पीस‘ पुस्तक पढ़ते दिख रहे हैं। सवाल पूछे जाने लगे कि क्या नरेन्द्र मोदी भी अर्बन नक्सल हैं? क्या उनसे भी अदालत सवाल पूछेगी?

इसे लेकर भ्रामक चीजें फैलाई गई। आगे आपको हम ऐसी सच्चाई बताएँगे, जिसे जान कर आप इनके प्रोपेगंडा को समझ कर इन्हें लताड़ेंगे लेकिन उससे पहले जरा देख लीजिए कि किस तरह से झूठ फैलाया गया और कौन-कौन लोग इसमें शामिल हैं।

ऊपर आपने देखा कि कुछ लोग जहाँ जज के विवेक पर सवाल खड़े कर रहे हैं, वहीं कुछ अन्य लोग नरेन्द्र मोदी वाला विडियो शेयर कर पूछ रहे हैं कि क्या वह भी अर्बन नक्सल हैं? अब आपको सच्चाई बताते हैं।

यह पुस्तक लियो टॉलस्टॉय वाली नहीं है, अर्बन नक्सल गोंजाल्विस के घर में यही मिली थी

कोर्ट ने जिस पुस्तक को लेकर आपत्ति जताई, उसका नाम है- “वॉर एंड पीस इन जंगलमहल- पीपल, स्टेट्स एंड माओइस्ट्स” और यही पुस्तक अर्बन नक्सल गोंजाल्विस के पास मिली थी।

नरेन्द्र मोदी ये क्लासिक पुस्तक पढ़ रहे थे, कोर्ट ने इसे लेकर आपत्ति नहीं जताई

और नरेन्द्र मोदी जो ‘वॉर एंड पीस’ पुस्तक पढ़ रहे हैं, वह लियो टॉलस्टॉय की क्लासिक कृति है। दिमाग के अभाव में वामपंथियों ने समझ लिया कि अर्बन नक्सल गोंजाल्विस भी यही क्लासिक कृति अपने घर में रखे हुआ था और कोर्ट ने इसी को लेकर आपत्ति जताई है। लेकिन अफ़सोस, वह पुस्तक विश्वजीत रॉय द्वारा एडिटेड है। देखिए सच्चाई:

अब आप समझ गए होंगे कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जो पुस्तक पढ़ रहे थे और अर्बन नक्सल गोंजाल्विस के घर में जो पुस्तक पड़ी थी, दोनों अलग-अलग हैं लेकिन दोनों के नाम कमोबेश समान हैं, जिसका फ़ायदा सोशल मीडिया के ठेकेदारों ने उठाया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘एक गोल्ड मेडल अनवर सरदार को भी’: उधर टोक्यो ओलंपिक में इजरायल का राष्ट्रगान बजा, इधर सोशल मीडिया पर अनु मलिक की धुनाई

उधर टोक्यो ओलंपिक में इजरायल का राष्ट्रगान बजा, इधर सोशल मीडिया पर बॉलीवुड के बड़े संगीतकारों में से एक अनु मलिक की लोगों ने धुनाई चालू कर दी।

इंडिया जीता… लेकिन सब गोल पंजाबी खिलाड़ियों ने किया: CM अमरिंदर सिंह के ट्वीट में भारत-पंजाब अलग-अलग क्यों?

पंजाब मुख्यमंत्री ने ट्वीट में कहा, ”इस बात को जानकर खुश हूँ कि सभी 3 गोल पंजाब के खिलाड़ी दिलप्रीत सिंह, गुरजंत सिंह और हार्दिक सिंह ने किए।”

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe