हिंदुस्तान तुम्हारे बाप का है? CPM नेता ने रिटायर्ड मेजर जनरल से TV डिबेट में की अभद्रता

"बकवास बंद कीजिए और आर्टिकल 370 को फिर से लागू कीजिए। क्या हिंदुस्तान तुम्हारे बाप का है? पहली बार देशद्रोही लोगों ने ऐसा काम किया है।"

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 पर फैसले को लेकर सोशल मीडिया से लेकर समाचार चैनल्स में होने वाली डिबेट तक में बहस जारी है। इस बीच CPM के एक नेता ने रिटायर्ड मेजर जनरल के साथ लाइव बहस के दौरान अपनी सारी हदें लाँघ दी।

आज तक समाचार चैनल पर बहस के दौरान एक रिटायर्ड मेजर जनरल के साथ बहस में CPM के एक नेता ने रिटायर्ड मेजर जनरल से कहा कि क्या हिंदुस्तान तुम्हारे बाप का है? बहस का मुद्दा अनुच्छेद 370 को लेकर हो रहे विरोध था, जिसमें TV एंकर एक-एक कर सवाल कर रहीं थीं।

इस चर्चा में रिटायर्ड मेजर जनरल ने कहा- “हमारी राजनीतिक पार्टियाँ इस मुद्दे पर अपनी रोटियाँ ना सेकें। हमारा संविधान डायनमिक है यह सभी को पता है। पहले कुछ चीजों की जरूरत थी लेकिन अब इन चीजों की जरूरत नहीं है। वैश्विक और देश के दोनों के माहौल के हिसाब से यह काफी सही है। अब यहाँ से आगे बढ़ो। 1965 में किसी ने दिवाली नहीं मनाई। देश में जैसी परिस्थिति होती है, देश को उसी हिसाब से काम करना चाहिए।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

रिटायर्ड सेनाधिकारी ने कहा कि देश में जब तक सेना है, वो अपना पेट काटकर दे देगी लेकिन कश्मीर को भूखा नहीं रहने देगी। वहाँ कोई बीमारी से नहीं मर सकता, सेना मदद करती है। हम वहाँ कर्फ्यू के लिए भी हैं और अपने लोगों के लिए भी हैं। रिटायर्ड मेजर जनरल ने आगे कहा कि धारा 144 है, वो धीरे-धीरे खुलेगी और यह पहली बार नहीं लगी है। देश में हालात कहीं भी ऐसे होंगे तो सुरक्षाबल तैनात होंगे।

इस पर CPM के नेता सुनीत चोपड़ा भड़क गए और उन्होंने कहा कि पहली बार देशद्रोही लोगों ने ऐसा काम किया है। इसके बाद सुनीत चोपड़ा ने कहा- “आप बकवास बंद कीजिए और आर्टिकल 370 को फिर से लागू कीजिए। क्या हिंदुस्तान तुम्हारे बाप का है?”

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

अयोध्या राम मंदिर, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे
राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद उद्धव ने 24 नवंबर को अयोध्या जाने का ऐलान किया था। पिछले साल उन्होंने राम मंदिर के लिए 'चलो अयोध्या' आंदोलन की शुरुआत की थी। नारा दिया था- पहले मंदिर फिर सरकार।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,514फैंसलाइक करें
23,114फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: