Wednesday, May 27, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे भीड़ की हर कार्रवाई को 'भगवा आतंक' से जोड़ती मीडिया: जब पुलिस का ही...

भीड़ की हर कार्रवाई को ‘भगवा आतंक’ से जोड़ती मीडिया: जब पुलिस का ही न्याय से उठ गया था भरोसा!

इसे समझने के लिए सबसे पहले तो राहुल देव के कुछ ही दिन पहले के ट्वीट पर टूट पड़े जेहादियों के झुंडों को देखिए। ये वही भूखे भेड़ियों के गिरोह हैं, जिन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया जैसे संस्थान की कार्रवाई पर चुप्पी साधी है। जब PCI ने एनडीटीवी और इंडियन एक्सप्रेस जैसों को हाल ही में ख़बरों के नाम पर अफवाह फैलाते रंगे हाथों धर लिया तो......

ये भी पढ़ें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

पचास साल पहले की बात है। 1979-80 में बिहार का भागलपुर जिला अचानक अख़बारों की सुर्ख़ियों में आ गया। ख़बरें बताती थीं कि वहाँ पुलिस ने 31 अपराधियों या अभियुक्तों को पकड़कर जबरन उनकी आँखों में तेजाब डाल दिया था। मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने छाती कूट कुहर्रम मचा दिया। वो सोशल मीडिया का ज़माना नहीं था, लेकिन परंपरागत पेड मीडिया ने इसे “अँखफोड़वा काण्ड” का नाम दे दिया था। इसपर लम्बे समय तक बहसें चली थी। हाल की एक फिल्म “गंगाजल” मोटे तौर पर इस काण्ड को दर्शाती है।

कुछ ख़ास आयातित विचारधारा के पैरोकारों को छोड़ दें तो आम लोग इस काण्ड के पुलिसकर्मियों को उतना दोषी नहीं मानेंगे। फिल्म का अंतिम दृश्य भी देखें तो मोटे तौर पर वो इस जघन्य कृत्य को जायज ठहराती दिखती है। सवाल ये है कि ये हुआ क्यों था? क्या पचास साल पहले ही न्याय व्यवस्था के लिए काम करने वालों का भरोसा न्याय व्यवस्था की लम्बी तारीखों और प्रक्रियाओं से इतना उठ चुका था कि वो क़ानून अपने हाथ में लेने को मजबूर हो गए? अगर पचास साल पहले ऐसी दशा थी, तो आज क्या स्थिति है?

इसे समझने के लिए सबसे पहले तो राहुल देव के कुछ ही दिन पहले के ट्वीट पर टूट पड़े जेहादियों के झुंडों को देखिए। ये वही भूखे भेड़ियों के गिरोह हैं, जिन्होंने प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया जैसे संस्थान की कार्रवाई पर चुप्पी साधी है। जब PCI (प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया) ने एनडीटीवी और इंडियन एक्सप्रेस जैसों को हाल ही में ख़बरों के नाम पर अफवाह फैलाते रंगे हाथों धर लिया तो इन सभी के मुँह में गोंद लग गया था। मिशनरी फण्ड से चलने वाली इनकी कलमों की स्याही सूख गयी थी। विरोध को विद्रोह तक पहुँचाने में इनका बहुत बड़ा योगदान है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उदाहरण के तौर पर आप मोबाइल फ़ोन को देख सकते हैं। पूरी संभावना है कि आपका ख़ुद का, या किसी क़रीबी का मोबाइल फ़ोन कभी न कभी, बस-ट्रेन में सफ़र करते या किसी सार्वजनिक स्थान से चोरी हुआ हो। क्या आपने उसकी एफआईआर दर्ज करवाई? नहीं, थाने में एक आवेदन देकर उसपर ठप्पा लगवा लेना एफआईआर नहीं होता। उसका बाकायदा एक नंबर होता है जिससे उसे बाद में भी ढूँढा जा सके। नहीं करवाने का कारण क्या था? क्या ये प्रक्रिया इतनी क्लिष्ट है कि नुकसान झेल लेना, और झंझट मोल लेने से बेहतर लगा! अब सोचिए कि आप पढ़े-लिखे होने पर जिस क़ानूनी प्रक्रिया से बचते हैं, उसमें एक कम पढ़े लिखे ग़रीब का क्या होगा? क्या वो अपनी चोरी हो गई गाय की रिपोर्ट दर्ज करवा पाएगा?

मवेशियों की चोरी या तस्करी जैसे मामले अगर अख़बारों में पढ़ें, जो कि स्थानीय पन्ने पर कहीं अन्दर छुपी होती है, तो एक और तथ्य भी नजर आएगा। पशु चोर या तस्कर, चोरी के क्रम में बीच में आने वालों को बख्शते नहीं है। तस्करी के पशु ले जा रही गाड़ी नाके पर किसी पुलिसकर्मी पर चढ़ा देना या चोरी के वक़्त मालिक के जाग जाने पर उसे गोली मार देने की घटनाएँ आसानी से नजर आ जाएँगी। ऐसे में जब ग्रामीण या कस्बे के लोग, किसी चोर को धर दबोचने में कामयाब होते हैं तो उसके साथ बिलकुल वही सलूक करते हैं, जो बच निकलने की कोशिश में वो उनके साथ करता।

भीड़ के पीट देने पर परंपरागत पेड मीडिया भी दोहरा रवैया अपनाती है। अगर पिट गया व्यक्ति किसी समुदाय विशेष का हो और पीटने वाले बहुसंख्यक माने जाने वाले समुदाय से तो अचानक कोहराम मच जाता है। हर संभव उपाय से उसे अल्पसंख्यकों पर हो रहे अत्याचार और ‘भगवा आतंकवाद’ से जोड़ने की कवायद होती है। तिकड़मी लोग कलम की बाजीगरी दिखाते हैं। वहीं जब हिन्दुओं में से कोई मारा जाए तो उसे अख़बार जगह तक नहीं देते। हर संभव तरीके से उसे कोई छिटपुट वारदात बताकर टाल देने की कोशिश होती है।

कई राजनैतिक दल भी इस कुकृत्य में परंपरागत पेड मीडिया के कंधे से कन्धा मिलाकर काम करते दिख जाते हैं। अगर मारे गए किसी “समुदाय विशेष” के परिवार को मिले सरकारी मुआवजे को देखें और उसकी तुलना भीड़ द्वारा मार दिए गए डॉ नारंग, रिक्शाचालक रविन्द्र जैसी दिल्ली में हुई घटनाओं से करें तो ये अंतर खुलकर सामने आ जाता है। ऐसे दोहरे मापदंडों पर विरोध न हो ऐसी कल्पना क्यों की जाती है, ये एक बड़ा सवाल है? आखिर एक पक्ष कब तक न्यायिक, कार्यपालक, विधायिका और पत्रकारिता, चारों ही तंत्रों का दबाव चुपचाप झेलता रहे?

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गाँधीजी के सिद्धांतों जैसा एक गाल पर थप्पड़ लगने पर दूसरा गाल वो कितने दिन आगे करेगा? जो हम देख रहे हैं उससे तो ऐसा लगता है कि शायद उसने भगत सिंह के वाक्य को अपना लिया है। ये बहरों को सुनाने वाली धमाकों की गूँज सी लगती है। या तो व्यवस्था में सुधार कीजिए या धमाके फिर, फिर और फिर सुनने की तैयारी कर लीजिए। फैसला आपके अपने ही हाथ में है!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

‘उत्तराखंड जल रहा है… जंगलों में फैल गई है आग’ – वायरल तस्वीरों की सच्चाई का Fact Check

क्या उत्तराखंड के जंगल इस साल की गर्मियों में वास्तव में आग में झुलस रहे हैं? जवाब है- नहीं।

ईद का जश्न मनाने के लिए दी विशेष छूट: उद्धव के तुष्टिकरण की शिवसेना के मुखपत्र सामना ने ही खोली पोल

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक मुंब्रा में समुदाय विशेष के लोगों को ईद मनाने के लिए विशेष रियायत दी गई थी।

वियतनाम: ASI को खुदाई में मिला 1100 साल पुराना शिवलिंग, बलुआ पत्थर से है निर्मित

ASI को एक संरक्षण परियोजना की खुदाई के दौरान 9वीं शताब्दी का शिवलिंग मिला है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है।

‘मोदी मंदिर’ बनाने की खबर फर्जी: MLA गणेश जोशी ने कॉन्ग्रेस को बताया ‘मोदीफोबिया’ से ग्रसित

"मोदी मंदिर' बनाने की खबर पूरी तरह फर्जी है। जबकि मोदी-आरती लिखने वाली डॉ. रेनू पंत का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है और वो सिर्फ..."

चुनाव से पहले फिर ‘विशेष राज्य’ के दर्जे का शिगूफा, आखिर इस राजनीतिक जुमले से कब बाहर निकलेगा बिहार

बिहार के नेता और राजनीतिक दल कब तक विशेष राज्य का दर्जा माँगते रहेंगे, जबकि वे जानते हैं कि यह मिलना नहीं है और इसके बिना भी विकास संभव है।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘राम मंदिर की जगह बौद्ध विहार, सुप्रीम कोर्ट ने माना’ – शुभ कार्य में विघ्न डालने को वामपंथन ने शेयर की पुरानी खबर

पहले ये कहते थे कि अयोध्या में मस्जिद था। अब कह रहे हैं कि बौद्ध विहार था। सुभाषिनी अली पुरानी ख़बर शेयर कर के राम मंदिर के खिलाफ...

38 लाख फॉलोवर वाले आमिर सिद्दीकी का TikTok अकॉउंट सस्पेंड, दे रहा था कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी

जब आमिर सिद्दीकी का अकॉउंट सस्पेंड हुआ, उस समय तक उसके 3.8 मिलियन फॉलोवर्स थे। आमिर पर ये कार्रवाई कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी...

हमसे जुड़ें

207,939FansLike
60,325FollowersFollow
242,000SubscribersSubscribe
Advertisements