बडगाम में तकनीकी कारणों से भारतीय हेलिकॉप्टर क्रैश, पाक ने कहा उनका हाथ नहीं

कई लोगों को संदेह था कि भारतीय लड़ाकू विमान मिग-21 दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। बता दें कि यह मिग-21 लड़ाकू विमान नहीं बल्कि एमआई-17 नामक ट्रांसपोर्ट चॉपर है।

जम्मू-कश्मीर के बडगाम में भारतीय वायुसेना का ट्रांसपोर्ट हेलिकॉप्टर एमआई-17 तकनीकी कारणों से क्रैश हो गया। इस दुःखद हादसे में दोनों ही पायलट वीरगति को प्राप्त हो गए। ख़बरों के अनुसार, हैलीकॉप्टर अपने नियमित उड़ान पर निकला था जिसके बाद ये दुर्घटना हुई। इस बारे में विशेष जानकारी देते हुए बडगाम के एसएसपी ने कहा:

“भारतीय वायुसेना की तकनीकी टीम घटनास्थल पर पहुँच रही है। इसके बाद ही पूरी जानकारी मिलेगी। हमें दो शव मिले हैं। इस घटना में दो लोगों की मृत्यु हो गई। हेलीकॉप्टर बडगाम के गारेंद कलां गाँव के पास खुले मैदान में सुबह 10 बजकर पाँच मिनट पर दुर्घटनाग्रस्त हुआ।”

हेलिकॉप्टर दुर्घटना के दौरान दो हिस्सों में टूट गया और उसमे आग लग गई। आग के कारण इलाक़े में काला धुआँ छा गया। अभी तक दोनों मृतकों की पहचान नहीं हो सकी है। कई ख़बरों में इसे भारत और पाकिस्तान के बीच चल रहे चल रहे तनाव से जोड़ कर देखा जा रहा था लेकिन अब ख़ुद पाकिस्तान ने इस हादसे से किसी भी प्रकार का वास्ता होने की ख़बरों को नकार दिया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

हादसे के बाद पाकिस्तान के इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशन के डायरेक्टर जनरल (DG ISPR) मेजर जनरल आसिफ़ गफ़ूर ने कहा कि उन्हें भारतीय चॉपर के बडगाम में क्रैश होने की ख़बर मिली है और पाकिस्तान का इस से कोई वास्ता नहीं है।

बता दें कि पाकिस्तान के कुछ पत्रकारों ने अफवाह उड़ाना शुरू कर दिया था कि इस हैलीकॉप्टर दुर्घटना के पीछे पाकिस्तानी सेना का हाथ है। आसिफ़ गफ़ूर के बयान के बाद सोशल मीडिया में लोगों ने ऐसी अफवाह उड़ाने वालों को जम कर लताड़ लगाई।

कई लोगों को संदेह था कि भारतीय लड़ाकू विमान मिग-21 दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। बता दें कि यह मिग-21 लड़ाकू विमान नहीं बल्कि एमआई-17 नामक ट्रांसपोर्ट चॉपर है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: