Tuesday, September 28, 2021
Homeबड़ी ख़बरट्विटर ने संसदीय समिति को भी किया दरकिनार, 48 घंटे का समय मिलने पर...

ट्विटर ने संसदीय समिति को भी किया दरकिनार, 48 घंटे का समय मिलने पर भी नहीं दिया जवाब: IT मंत्री का हैंडल किया था ब्लॉक

कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर की अध्यक्षता में आईटी के संसदीय पैनल ने सचिवालय को निर्देश दिया था कि वह आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और शशि थरूर के अकाउंट को बंद करने के संबंध में ट्विटर से लिखित में स्पष्टीकरण माँगे।

ट्विटर इंडिया, सूचना और प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति द्वारा भेजे गए नोटिस का जवाब देने में विफल रही। न्यूज 18 ने इसकी जानकारी दी। माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट को आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और कॉन्ग्रेस नेता शशि थरूर के अकाउंट को लॉक करने के बारे में लिखित में जवाब देने के लिए 48 घंटे की अवधि दी गई थी। 

ट्विटर ने रविशंकर प्रसाद को किया था ब्लॉक

25 जून को, माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर केंद्रीय कानून और न्याय, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को संयुक्त राज्य अमेरिका के कॉपीराइट अधिनियम का उल्लंघन करने की बात कहते हुए ब्लॉक करने के लिए  फिर से जाँच के घेरे में आ गया था। उनके खिलाफ कार्रवाई एक वीडियो के संबंध में की गई थी जिसे उन्होंने 2017 में विजय दिवस पर पोस्ट किया था और कथित तौर पर कॉपीराइट संगीत ‘माँ तुझे सलाम’ का इस्तेमाल किया था।

16 दिसंबर 2017 को जब भारत विजय दिवस मना रहा था तब रविशंकर प्रसाद ने एक वीडियो पोस्ट किया था जो 1971 के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वालों के लिए एक श्रद्धांजलि थी। इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को हराया और बांग्लादेश एक स्वतंत्र देश के रूप में अस्तित्व में आया था। उस वीडियो के बैकग्राउंड म्यूजिक में ‘माँ तुझे सलाम’ था जिसे एआर रहमान ने गाया था और सोनी म्यूजिक ने प्रोड्यूस किया था।

यह जानकारी तब सामने आई जब ट्विटर ने लुमेन डेटा प्रकाशित किया जहाँ यह स्पष्ट रूप से बताया गया कि इसी पोस्ट के कारण रविशंकर प्रसाद के ट्विटर हैंडल को ब्लॉक कर दिया गया था। रविशंकर प्रसाद की पोस्ट, जिसमें बैकग्राउंड म्यूजिक के रूप में माँ तुझे सलाम का इस्तेमाल किया गया था, को इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ फोनोग्राफिक इंडस्ट्री (आईएफपीआई) द्वारा कॉपीराइट उल्लंघन के रूप में चिह्नित किया गया था, जैसा कि डीएमसीए नोटिस पर ‘सेंडर’ की जानकारी से देखा जा सकता है।

संसदीय समिति ने ट्विटर की खिंचाई की

कॉन्ग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर की अध्यक्षता में आईटी के संसदीय पैनल ने सचिवालय को निर्देश दिया था कि वह आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद और शशि थरूर के अकाउंट को बंद करने के संबंध में ट्विटर से लिखित में स्पष्टीकरण माँगे। ट्विटर को दो दिनों के भीतर स्पष्टीकरण देने को कहा गया। ट्विटर से संतोषजनक जवाब न मिलने पर समिति कंपनी के किसी अधिकारी को तलब कर सकती है।

शशि थरूर ने कहा, “सूचना प्रौद्योगिकी पर संसदीय स्थायी समिति के अध्यक्ष के रूप में, मैं कह सकता हूँ कि हम @TwitterIndia से @rsprasads और मेरे अकाउंट को बंद करने और भारत में संचालन के दौरान उनके द्वारा पालन किए जाने वाले नियमों और प्रक्रियाओं के लिए स्पष्टीकरण माँगेंगे। ” सूचना प्रौद्योगिकी नियम 2021 के पारित होने के बाद से ट्विटर एक कठिन समय से गुजर रहा है। भारतीय कानूनों का पालन करने से इनकार करने के बाद, इसने अपनी मध्यस्थ स्थिति खो दी है। इसके बाद प्लेटफॉर्म के खिलाफ कई एफआईआर दर्ज की गई हैं।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जानिए ‘राजपूत सम्राट मिहिर भोज’ को लेकर क्या कहता है इतिहास: जाति नहीं, क्षेत्र था गुर्जर?

सम्राट मिहिर भोज के क्षत्रिय होने के पीछे कौन से तथ्य व सबूत हैं, जिसके आधार पर उन्हें 'राजपूत' कहा जा सकता है, 'गुर्जर' नहीं? आइए, देखते हैं।

‘पूरी दुनिया में अल्लाह की निजामियत कायम करनी है’: IAS इफ्तिखारुद्दीन पर धर्मांतरण को बढ़ावा देने के आरोप, 3 वीडियो वायरल

उत्तर प्रदेश स्थित कानपुर के वरिष्ठ IAS इफ्तिखारुद्दीन के वीडियोज वायरल हुए, जिसमें वो कथित रूप से इस्लामी धर्मांतरण को बढ़ावा देते दिख रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,837FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe