Wednesday, July 17, 2024
Homeविविध विषयअन्यबारिश ने किरकिरा कर दिया मजा, अब क्या होगा IPL फाइनल का? यहाँ जान...

बारिश ने किरकिरा कर दिया मजा, अब क्या होगा IPL फाइनल का? यहाँ जान लीजिए सारे नियम-कानून, गुजरात की हो सकती है बल्ले-बल्ले

अगर रात के 11:56 से भी मैच शुरू हो जाता है तो 5-5 ओवर का खेल होगा। अगर ये भी संभव नहीं हो पाता है तो फिर IPL का फाइनल कल खेला जाएगा।

गुजरात के अहमदाबाद स्थित नरेंद्र मोदी स्टेडियम में CSK (चेन्नई सुपर किंग्स) और GT (गुजरात टाइटंस) के बीच फाइनल का मुकाबला होना था, लेकिन भारी बारिश के कारण मैच में देरी हो रही है। ऐसे में अब सवाल उठ रहा है कि अगर आज बारिश नहीं रूकती है तो फिर क्या होगा? दरअसल, अगर बारिश के कारण आज खेल संभव नहीं हो पाता है तो IPL फाइनल के लिए एक रिजर्व डे भी रखा गया है, यानी मैच एक दिन बाद होगा।

रविवार (28 अप्रैल, 2023) को शाम के 7 बजे टॉस होना था, लेकिन बारिश के कारण ये नहीं हो पाया। अगर मैच 9:35 बजे तक शुरू हो जाता है, फिर भी पूरे 20 ओवर का खेल होगा और वर्ष में कोई कमी नहीं की जाएगी। अगर बारिश तब भी नहीं रुकती है, तो भी और विकल्प हैं। अगर रात के 12:06 से भी मैच शुरू हो जाता है तो 5-5 ओवर का खेल होगा। अगर ये भी संभव नहीं हो पाता है तो फिर IPL का फाइनल कल खेला जाएगा।

आगे बढ़ने से पहले ये भी जान लीजिए कि अगर टॉस हो जाता है और आज एक गेंद भी फेंक दिया जाता है तो कल मैच फिर वहीं से शुरू होगा जहाँ आज खत्म हुआ था। ये व्यवस्था इसीलिए की गई है, ताकि मैच के बीच में बारिश शुरू हो जाए और आगे का मैच न हो सके तो फाइनल पूरा कराया जा सके। अगर टॉस हो जाता है और एक गेंद भी नहीं फेंका जाता, फिर कल दोबारा टॉस होगा। अंत में सुपर ओवर की भी व्यवस्था है।

अगर रिजर्व डे के दिन भी नियम के तहत 5 ओवर का भी मैच संभव नहीं हो पाता है तो फिर एक-एक ओवर का मैच कराया जाएगा, जिसे सुपर ओवर भी कहते हैं। लेकिन, अगर सोमवार को सुपर ओवर भी संभव नहीं हो पाएगा तो गुजरात टाइटंस के सिर जीत का सेहरा बँध जाएगा क्योंकि ग्रुप स्टेज की रैंकिंग टेबल में टीम नंबर वन पर थी और चेन्नई दूसरे स्थान पर। यानी, रिजर्व डे के दिन सुपर ओवर भी नहीं हो पाया तो ग्रुप स्टेज में जिस टीम की रैंकिंग ऊपर होगी वो ट्रॉफी ले जाएगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘228 किलो सोना चोरी होने का सबूत दें शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद, या जाएँ कोर्ट’: मंदिर समिति की दो टूक, पूछा – कॉन्ग्रेस के एजेंडे को...

अजेंद्र अजय ने कहा कि सीएम धामी से साधु-संतों और जनप्रतिनिधियों ने अनुरोध किया था, ऐसे में वो धार्मिक कार्यक्रम में सम्मिलित हुए, इसमें सरकारी पैसा नहीं लगा है ।

कर्नाटक में कॉन्ग्रेस सरकार के ‘लोकल कोटा’ पर उठे सवाल, उद्योगपति बोले- प्राइवेट सेक्टर में कन्नड़ भाषियों को रिजर्वेशन भेदभावपूर्ण, बिल रद्द करें

कर्नाटक में निजी नौकरियों में कन्नड़ लोगों को 50-75% आरक्षण देने का निर्णय कारोबारी समुदाय को रास नहीं आया है। उन्होंने इसकी आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -