Tuesday, January 26, 2021
Home बड़ी ख़बर भाजपा कार्यकर्ता बनाम गुण्डे, गुर्गे, गुलाम और वंशदास

भाजपा कार्यकर्ता बनाम गुण्डे, गुर्गे, गुलाम और वंशदास

क्षेत्रीय दलों के साथ यह सकारात्मक पक्ष है कि वे जो भी लूट-मार करेंगे, देश में ही करेंगे और देश में समर्पित भी कर देंगे, लेकिन वामपंथियों के साथ यह विडम्बना है कि वे जो कुछ भी करते हैं वह कार्ल मार्क्स, लेनिन और माओ नामक विदेशियों की प्रेरणा से, उनका ही साम्राज्य स्थापित करने के लिए करते हैं।

भारत में केवल भाजपा ही वह एकमात्र राजनीतिक दल है, जिसमें ‘कार्यकर्ता’ होते हैं, वरना जितनी भी अन्य राजनीतिक पार्टियाँ हैं, वहाँ कार्यकर्ताओं के स्थान पर सिर्फ गुण्डे, गुर्गे, गुलाम और वंशदास ही होते हैं।

इसकी वजह है कि भाजपा एक ‘विचार’ आधारित पार्टी है। वह विचार है भारत भूमि को ‘माँ’ मानने का, वह विचार है ‘हिंदुत्व’ का, वह विचार है ‘राष्ट्रवाद’ का, वह विचार है ‘सनातन’ का, वह विचार है ‘विश्व बंधुत्व’ और ‘जगत कल्याण’ का।

लेकिन इसके बरक्स आप कॉन्ग्रेस से लेकर सपा, बसपा, राजद, जदयू, बीजद, टीडीपी, द्रमुक, तृणमूल, अन्नाद्रमुक, आम आदमी पार्टी और यहाँ तक कि वाम दलों को भी देख लीजिए; इन दलों में आपको कार्यकर्ता के नाम पर एक परिवार, व्यक्ति और स्वार्थ विशेष को साधने के लिए जुटे हुए लोग ही मिलेंगे।

देश, समाज और राष्ट्र से इनको कोई मतलब नहीं हैं, इनकी महफ़िलों में ऐसी कोई बातें भी नहीं होती हैं। इनको नहीं मतलब है कि सूरत बदले, इनकी पुरजोर कोशिश है कि हंगामा होना चाहिए। हंगामा हो धर्म, जाति, वर्ग की राजनीति करने के लिए, हंगामा हो ठेकेदारी, टेंडर और सरकारी सम्पत्ति में लूट-खसोट के लिए।

वरना आप इनमें से किसी भी पार्टी के कार्यकर्ता बल्कि उनके मुखिया से पूछ लीजिये कि क्या मतलब है उनकी पार्टी के नाम का और क्या उद्देश्य है उनकी राजनीति का?

क्या राहुल गाँधी और उनकी बहनजी बता सकती हैं, कि कॉन्ग्रेस पार्टी क्यों है इस देश में? यह कैसी पार्टी और कैसा विचार है, जो 70 साल से एक ही परिवार के इर्द-गिर्द घूम रहा है? जब यह परिवार संकट में होता है, तो यह पार्टी भी संकट में आ जाती है? और, जब यह परिवार सत्ता में आ जाता है, तो पार्टी की भी मौज हो जाती है?

क्या अखिलेश यादव बता सकेंगे कि समाजवाद क्या है? इस समाजवाद के तहत वे किस प्रकार के समाज की स्थापना करना चाहते हैं? यह कैसा समाजवाद है कि नगर पालिका से लेकर के प्रदेश के मुख्यमंत्री तक के सभी पद और संसाधन एक ही परिवार और जाति के लिए रिजर्व रहते हैं?

आप पूछ सकेंगे सुश्री मायावती से कि वे किस बहुजन की राजनीति करती हैं? हज़ारों-हजार करोड़ रुपए खुद और अपने चुनाव चिह्न की मूर्तियों पर बहाकर, अतिशय विलासिता और वैभव पूर्ण जीवन जीकर वे किस बहुजन का भला कर रही हैं, जहाँ छापे में उनके पूर्व निजी सचिव के यहाँ से 50 लाख रुपए का पैन बरामद होता है तो सोचिये कि वह कौन सा ‘विचार’ है जो देश की सत्ता और संसाधनों का ऐसा निर्मम दोहन कर सकता है?

बीजू जनता दल, जिसकी स्थापना ही एक नेता के नाम से कर दी गई और जिसकी बागडोर फिर उस नेता के पुत्र नवीन पटनायक ने संभाल ली, अब चूँकि उनके बाद उनका कोई वंश नहीं है, तो यह ‘विचारहीन’ दल भी खत्म हो जाएगा।

पश्चिम बंगाल में तृणमूल कॉन्ग्रेस, जिसकी शुरुआत राज्य से वामपंथियों के कुशासन के खात्मे के लिए हुई थी, वह पार्टी विचार के नाम पर एक कोढ़ और कलंक बन चुकी हैं, जहाँ ‘ममता पूजा’ की हाइट देखिए कि बीते दिनों जब ममता की पार्टी में नम्बर दो उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी का जन्मदिन था, तो तृणमूल के सभी सांसद दिल्ली में संसद सत्र को बीच में छोड़कर कोलकाता अपनी अटेंडेंस लगाने के लिए पहुँच गए थे।

ऐसी ही एक पार्टी का रजिस्ट्रेशन शरद पवार साहब ने भी करवाया हुआ है, जिसका नाम उन्होंने ‘राष्ट्रवादी कॉन्ग्रेस पार्टी’ रखा है, लेकिन यहाँ भी सिर्फ एक ही विचार और उद्देश्य है, ‘परिवारवाद’ और ‘मिल-बाँटकर’ लूटो। बेटी, भाई, भतीजा, भतीजे के भी बच्चों को सेटल करना, इनका घोषणा पत्र है।

यही हाल महाराष्ट्र में दूसरी क्षेत्रीय पार्टी शिवसेना का है, जो राजनीति हिंदुत्व और मंदिर की करते हैं लेकिन अगर सत्ता में उनको अपना हिस्सा नहीं मिले तो वे हिंदुत्व का भी बाजा बजाने से परहेज नहीं करते, और यही वजह रही कि बीते पाँच सालों में जिस प्रकार से भाजपा पर शिवसेना ने हमले किए, वे मुख्य विपक्षी दल कॉन्ग्रेस से किसी भी मायने में कम नहीं थे।

अंत में औकात अनुसार जिक्र वामपंथियों का भी। जहाँ इनकी पार्टी को इस बात के लिए क्रेडिट तो देना पड़ेगा, कि ये लोग व्यक्ति पूजा से परहेज करते हैं, पर जहाँ तक कार्यकर्ता का सवाल है, तो उनका यहाँ इनका कोई काम ही नहीं है, बल्कि यहाँ अर्बन नक्सल होते हैं। बाकी क्षेत्रीय दलों के साथ यह सकारात्मक पक्ष है कि वे जो भी लूट-मार करेंगे, देश में ही करेंगे और देश में समर्पित भी कर देंगे, लेकिन वामपंथियों के साथ यह विडम्बना है कि वे जो कुछ भी करते हैं वह कार्ल मार्क्स, लेनिन और माओ नामक विदेशियों की प्रेरणा से, उनका ही साम्राज्य स्थापित करने के लिए करते हैं।

इसलिए अगर आप भारत में रह रहे हैं, भारतीयता में यकीन रखते हैं तो ‘भारतीय जनता पार्टी’ को लेकर सोचिये। जहाँ भारत पहले है, जनता बाद में और पार्टी सबसे अंत में। अगर हम संघ को ही इसका उद्गम स्थल मान लें, तो सोचिये वह कौन-सी व्यक्ति पूजा और परिवार पूजा है, जिसकी वजह से संघ, जनसंघ से होते हुए आज भाजपा तक का न केवल अस्तित्व कायम है, बल्कि आज वह दल अपनी दम पर देश की सत्ता चला रहा है।

वह क्या कारण है कि इन बीते लगभग सौ सालों में दुनिया में अनेकों धुरंधर लोग और उनके विचार दफ़न हो गए लेकिन 1925 का राष्ट्रवाद, हिंदुत्व, भारत और सनातन और विश्व बंधुत्व का विचार जस का तस कायम है?

संघ और भाजपा में शीर्ष पदों और ओहदों पर विराज चुके और विराजित लोगों के बारे में सोचिए कि वे वंशवाद की वजह से वहाँ पहुँचे या फिर एक विचार में अपनी आस्था, सेवा और समर्पण से? आप सोच कर भी नहीं सोच पाएँगे कि अमित शाह के बाद भाजपा का अध्यक्ष कौन बनेगा, मोदी के बाद भाजपा का पीएम कौन होगा या फिर यही देख लीजिये कि अटल जी और आडवानी जी की विरासत को कौन आगे बढ़ा रहा है?

लेकिन जब यही सवाल हम कांग्रेस, सपा, बसपा, तृणमूल, राजद, शिवसेना, नेशनल कांफ्रेंस, टीडीपी, जेडीएस, पीडीपी जैसे दलों के बारे में सोचते हैं, तो हमें दिमाग ही नहीं लगाना पड़ता है कि आगे क्या होगा। इसलिए मैं मानता हूँ और फिर से कह रहा हूँ, कि भाजपा में लोग गलत हो सकते हैं, लेकिन भाजपा गलत नहीं हो सकती, क्योंकि यह गलत उद्देश्य के लिए स्थापित ही नहीं हुई है। इसलिए भाजपा एक ‘विचार’ के तौर पर हमेशा ‘पवित्र’ और ‘प्रासंगिक’ रहने वाली है।

इस आर्टिकल को वीडियो में यहाँ देखें


  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

 

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

गणतंत्र दिवस 2021: सुप्रीम कमांडर राष्ट्रपति के साथ खास पगड़ी में PM… और महिला कमांडर प्रीति – परेड की तस्वीरें

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जामनगर से एक विशेष पगड़ी पहनी। बलिदानी सैनिकों को दी श्रद्धांजलि।

3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक पर तनावपूर्ण माहौल

वीडियो में देख सकते हैं कि भारी तादाद में 'किसान' बैरीकेडिंग के पार खड़े होते हैं, फिर धीरे-धीरे उस पर चढ़ना शुरू कर देते हैं और...

झील जम गई… लेकिन तिरंगे के साथ कदम मिलते रहे: देखिए गणतंत्र दिवस 2021 की मजेदार तस्वीरें

यहाँ हम आपको गणतंत्र दिवस 2021 की देश भर की तस्वीरें दिखा रहे हैं, अलग-अलग कोने से। देश भर में कई जगहों पर तिरंगा फहराया गया।

जिन्होंने बाबरी मस्जिद के नीचे खोजा राम मंदिर, वैज्ञानिक तरीके से ढूँढा पांडवों का इंद्रप्रस्थ… मिला पद्म विभूषण सम्मान

जिन 7 लोगों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है, उनमें प्रोफेसर ब्रज बासी लाल (BB Lal) का नाम भी शामिल है।

आधी मूँछ में खेलने उतरेंगे अश्विन, पुजारा ने जो ऑस्ट्रेलिया में नहीं किया… अगर इंग्लैंड के खिलाफ कर देंगे तो!

पुजारा को अश्विन ने इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी स्पिनर पर क्रिज से निकल आगे बढ़ कर उड़ा कर शॉट खेलने का चैलेंज दिया है। चैलेंज खुद भी लिया है।

प्रचलित ख़बरें

12 साल की लड़की का स्तन दबाया, महिला जज ने कहा – ‘नहीं है यौन शोषण’: बॉम्बे HC का मामला

बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच ने शारीरिक संपर्क या ‘यौन शोषण के इरादे से किया गया शरीर से शरीर का स्पर्श’ (स्किन टू स्किन) के आधार पर...

राहुल गाँधी बोले- किसान मजबूत होते तो सेना की जरूरत नहीं होती… अनुवादक मोहम्मद इमरान बेहोश हो गए

इरोड में राहुल गाँधी के अंग्रेजी भाषण का तमिल में अनुवाद करने वाले प्रोफेसर मोहम्मद इमरान मंच पर ही बेहोश होकर गिर पड़े।

छठी बीवी ने सेक्स से किया इनकार तो 7वीं की खोज में निकला 63 साल का अयूब: कई बीमारियों से है पीड़ित, FIR दर्ज

गुजरात में अयूब देगिया की छठी बीवी ने उसके साथ सेक्स करने से इनकार कर दिया, जब उसे पता चला कि उसके शौहर की पहले से ही 5 बीवियाँ हैं।

15 साल छोटी हिन्दू से निकाह कर परवीन बनाया, अब ‘लव जिहाद’ विरोधी कानून को ‘तमाशा’ बता रहे नसीरुद्दीन शाह

नसरुद्दीन शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 'लव जिहाद' को लेकर तमाशा चल रहा है। कहा कि लोगों को 'जिहाद' का सही अर्थ ही नहीं पता है।

RSS को ‘निकरवाला’ बोला राहुल गाँधी ने, ‘लिकरवाला’ सुन जनता हुई ‘मस्त’: इस लेटेस्ट Video में है बहुत मजा

राहुल गाँधी जब बोलते हैं, बहुत मजा देते हैं। उनके मजे देने वाले वीडियो आप खोजेंगे 1 मिलेंगे 11... अब एक और वीडियो जुड़ गया है, एकदम लेटेस्ट।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।
- विज्ञापन -

 

दलित लड़की की हत्या, गुप्तांग पर प्रहार, नग्न लाश… माँ-बाप-भाई ने ही मुआवजा के लिए रची साजिश: UP पुलिस ने खोली पोल

बाराबंकी में दलित युवती की मौत के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया। पुलिस ने बताया कि पिता, माँ और भाई ने ही मिल कर युवती की हत्या कर दी।

दिल्ली में ‘किसानों’ ने किया कश्मीर वाला हाल: तलवार ले पुलिस को खदेड़ा, जगह-जगह तोड़फोड़, पुलिस वैन पर पथराव

दिल्ली में प्रदर्शनकारी पुलिस के वज्र वाहन पर चढ़ गए और वहाँ जम कर तोड़-फोड़ मचाई। 'किसानों' द्वारा तलवारें भी भाँजी गईं।

क्रीम-पाउडर बेचने वाली प्रियंका चोपड़ा को अब पछतावा, हॉलीवुड में पहचान बनाए रखने की मजबूरी या ‘दिवाली-सिगरेट’?

प्रियंका चोपड़ा एक बार फिर चर्चा में आई हैं। इस बार मुद्दा फेयरनेस क्रीम है। प्रियंका को पछतावा है कि उन्होंने भारत में फेयरनेस क्रीम के ऐड किए।

गणतंत्र दिवस 2021: सुप्रीम कमांडर राष्ट्रपति के साथ खास पगड़ी में PM… और महिला कमांडर प्रीति – परेड की तस्वीरें

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जामनगर से एक विशेष पगड़ी पहनी। बलिदानी सैनिकों को दी श्रद्धांजलि।

3 बॉर्डर पर बैरीकेडिंग तोड़ ‘किसान’ प्रदर्शनकारियों की भीड़ दिल्ली में घुसी, मुकरबा चौक पर तनावपूर्ण माहौल

वीडियो में देख सकते हैं कि भारी तादाद में 'किसान' बैरीकेडिंग के पार खड़े होते हैं, फिर धीरे-धीरे उस पर चढ़ना शुरू कर देते हैं और...

झील जम गई… लेकिन तिरंगे के साथ कदम मिलते रहे: देखिए गणतंत्र दिवस 2021 की मजेदार तस्वीरें

यहाँ हम आपको गणतंत्र दिवस 2021 की देश भर की तस्वीरें दिखा रहे हैं, अलग-अलग कोने से। देश भर में कई जगहों पर तिरंगा फहराया गया।

जिन्होंने बाबरी मस्जिद के नीचे खोजा राम मंदिर, वैज्ञानिक तरीके से ढूँढा पांडवों का इंद्रप्रस्थ… मिला पद्म विभूषण सम्मान

जिन 7 लोगों को देश के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए चुना गया है, उनमें प्रोफेसर ब्रज बासी लाल (BB Lal) का नाम भी शामिल है।

आधी मूँछ में खेलने उतरेंगे अश्विन, पुजारा ने जो ऑस्ट्रेलिया में नहीं किया… अगर इंग्लैंड के खिलाफ कर देंगे तो!

पुजारा को अश्विन ने इंग्लैंड के खिलाफ किसी भी स्पिनर पर क्रिज से निकल आगे बढ़ कर उड़ा कर शॉट खेलने का चैलेंज दिया है। चैलेंज खुद भी लिया है।

TikTok और UC Browser समेत 59 चाइनीज एप्स पर परमानेंट बैन, सरकार के सवालों का नहीं दे पाए जवाब!

केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MeitY) मंत्रालय ने TikTok व 58 अन्य चीनी एप्स को हमेशा के लिए प्रतिबंधित किया।

‘गजनवी फोर्स’ से जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर हमले की फिराक में पाकिस्तान, सैन्य प्रतिष्ठान भी आतंकी निशाने पर

जम्मू-कश्मीर के मंदिरों पर आतंकी हमलों की फिराक में हैं। सैन्य प्रतिष्ठान भी निशाने पर हैं।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,695FollowersFollow
386,000SubscribersSubscribe