कुटाई की खबरों के बाद लौटा ‘आत्ममुग्ध बौना’, लोगों ने ‘जग्गा जासूस’ बनकर तलाशे घूँसों के निशान

अभी तक भी अरविन्द केजरीवाल के साथ हुई इस कथित मार-कुटाई की घोषणा नहीं हुई है लेकिन, मीडिया और चर्चा से अचानक से उनके गायब हो जाने की वजह से उनके समर्थकों को उनकी चिंता जरूर थी।

आम आदमी पार्टी अध्यक्ष अरविन्द केजरीवाल काफी दिनों से गायब चलने के बाद आज लोकसभा चुनाव 2019 के लिए आम आदमी पार्टी का घोषणापत्र रिलीज करते हुए नजर आए। अरविन्द केजरीवाल कुछ दिनों से गायब चल रहे थे, यहाँ तक कि वो अपने ही पार्टी के नेताओं के नामांकन के दौरान भी नदारद रहे।

2 दिन पहले ही सोशल मीडिया पर आम आदमी पार्टी के बागी विधायक द्वारा यह खबर भी वायरल की गई थी कि आम आदमी पार्टी के विधायकों ने अपनी पार्टी अध्यक्ष अरविन्द केजरीवाल का लप्पड़ और घूँसों से मार-मारकर मोर बना डाला।

हालाँकि, इस दावे की वास्तविकता की अभी तक पुष्टि नहीं हो पाई है, फिर भी ट्विटर यूज़र्स ने ये जिम्मेदारी अपने कन्धों पर लेते हुए खुद जानने की कोशिश की है कि अरविन्द केजरीवाल के चेहरे पर मार-पीट के निशान हैं या नहीं? सोशल मीडिया यूज़र्स ने लिखा है कि केजरीवाल की नाक पकौड़े जैसी फूली-फूली लग रही है और सूजी हुई नजर आ रही है, इसका मतलब है कि सच में उन्हें तबीयत से कूटा गया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एक अन्य ट्विटर यूज़र ने केजरीवाल की ‘पहले और बाद’ (Before and After Images) की तस्वीरों के माध्यम से यह समझाने का प्रयास किया है कि जब अरविन्द केजरीवाल गायब हुए, उस दिन वो कैसे दिख रहे थे और वापस दोबारा नजर आने पर वो कैसे दिख रहे हैं।

ट्विटर यूज़र्स इतने पर ही नहीं रुके, एक कदम आगे जाते हुए उन्होंने आम आदमी पार्टी अध्यक्ष अरविन्द केजरीवाल के चश्मे तक की समीक्षा कर डाली और बताया कि उनके चश्मे का फ्रेम बदला-बदला नजर आ रहा है। इसके साथ उन्होंने आशंका जताई कि शायद चेहरे पर मुक्का पड़ने के कारण उनका चश्मा टूटा हो, जैसा कि AAP विधायक कपिल शर्मा ने दावा किया था।

वहीं कुछ ऐसे भी लोग हैं, जिन्होंने अरविन्द केजरीवाल जी के वापस सकुशल नजर आने पर ख़ुशी प्रकट की है। अभी तक भी अरविन्द केजरीवाल के साथ हुई इस कथित मार-कुटाई की घोषणा नहीं हुई है लेकिन, मीडिया और चर्चा से अचानक से उनके गायब हो जाने की वजह से उनके समर्थकों को उनकी चिंता जरूर थी।

स्पष्टीकरण होना अभी बाकी है लेकिन, इस प्रकार की मारपीट की घटनाओं को मजाक के तौर पर नहीं लिया जाना चाहिए। भले ही सच्चाई यह है कि सोशल मीडिया पर हर दूसरी खबर लोगों के बीच Fun और मनोरंजन का जरिया बन जाती है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

देखना न भूलें! एग्जिट पोल के सभी नतीजे

2019 लोक सभा चुनाव की सभी Exit Polls का लेखा जोखा पढ़िए हिंदी में

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ट्रोल प्रोपेगंडाबाज़ ध्रुव राठी

ध्रुव राठी के धैर्य का बाँध टूटा, बोले राहुल गाँधी ने 1 ही झूठ किया रिपीट, हमारा प्रोपेगैंडा पड़ा हल्का

जिस प्रकार से राहुल गाँधी लगातार मोदी सरकार को घोटालों में घिरा हुआ साबित करने के लिए झूठे डाक्यूमेंट्स और बयानों का सहारा लेते रहे, शायद ध्रुव राठी उन्हीं से अपनी निराशा व्यक्त कर रहे थे। ऐसे समय में उन्हें अपने झुंड के साथ रहना चाहिए।
इनका दुःख... सच में दुःखद...

एग्जिट पोल देख लिबरल गिरोह छोड़ रहा विष-फुंकार, गर्मी में निकल रहा झाग

जैसे-जैसे Exit Polls के नतीजे जारी हो रहे हैं, पत्रकारिता के समुदाय विशेष और फ़ेक-लिबरलों-अर्बन-नक्सलियों के सर पर ‘गर्मी चढ़नी’ शुरू हो गई है।
साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, कन्हैया, राहुल गाँधी, स्मृति ईरानी

भोपाल से प्रज्ञा की जीत, बेगूसराय से कन्हैया की हार और अमेठी में स्थिति संदिग्ध: एग्जिट पोल्स

'हिन्दू टेरर' के कलंक से कलंकित और कॉन्ग्रेस की तुष्टीकरण एवम् साम्प्रदायिक नीतियों का शिकार बनी साध्वी प्रज्ञा के भोपाल से प्रत्याशी बनने, कन्हैया का बेगूसराय से लड़ने और राहुल-स्मृति ईरानी की कड़ी टक्कर इस चुनाव की हेडलाइन बने।
रवीश कुमार

साला ये दुःख काहे खतम नहीं होता है बे!

जो लोग रवीश की पिछले पाँच साल की पत्रकारिता टीवी और सोशल मीडिया पर देख रहे हैं, वो भी यह बात आसानी से मान लेंगे कि रवीश जी को पत्रकारिता के कॉलेजों को सिलेबस में केस स्टडी के तौर पर पढ़ाया जाना चाहिए।
तपस्या करते हुए कुलपति

Exit Poll के रुझान देखकर मीडिया गिरोह ने जताई 5 साल के लिए गुफा में तपस्या करने की प्रबल इच्छा

अगले 5 साल गुफा में बिताने की चॉइस रखने वालों की अर्जी में एक नाम बेहद चौंकाने वाला था। यह नाम एक मशहूर व्हाट्सएप्प यूनिवर्सिटी के कुलपति का था। अपने विवरण में इस कुलपति ने स्पष्ट किया है कि पिछले 5 साल वो दर्शकों से TV ना देखने की अपील करते करते थक चुके हैं और अब अगले 5 साल भी वही काम दोबारा नहीं कर पाएँगे।
स्वरा भास्कर

प्रचार के लिए ब्लाउज़ सिलवाई, 20 साड़ियाँ खरीदी, ताकि बड़े मुद्दों पर बात कर सकूँ: स्वरा भास्कर

स्वरा भास्कर ने स्वीकार करते हुए बताया कि उन्हें प्रचार के लिए बुलाया गया क्योंकि वो हीरोइन हैं और इस वजह से ही उन्हें एक इमेज बनाना आवश्यक था। इसी छवि को बनाने के लिए उन्होंने 20 साड़ियाँ खरीदीं और और कुछ जूलरी खरीदी ताकि ‘बड़े मुद्दों पर’ बात की जा सके।

वहाँ मोदी नहीं, सनातन आस्था अपनी रीढ़ सीधी कर रही है, इसीलिए कुछ को दिक्कत हो रही है

इंटेलेक्चु‌ल लेजिटिमेसी और फेसबुक पर प्रासंगिक बने रहने, ज्ञानी कहलाने और एक खास गिरोह के लोगो में स्वीकार्यता पाने के लिए आप भले ही मोदी की हर बात पर लेख लिखिए, लेकिन ध्यान रहे कुतर्कों, ठिठोलियों और मीम्स की उम्र छोटी होती है।
नरेंद्र मोदी आध्यात्मिक दौरा

लंगोट पहन पेड़ से उलटा लटक पत्तियाँ क्यों नहीं चबा रहे PM मोदी? मीडिया गिरोह के ‘मन की बात’

पद की भी कुछ मर्यादाएँ होती हैं और कुछ चीजें व्यक्तिगत सोच पर निर्भर करती है, यही तो हिन्दू धर्म की विशेषता है। वरना, कल होकर यह भी पूछा जा सकता है कि जब तक मोदी ख़ुद को बेल्ट से पीटते हुए नहीं घूमेंगे, उनका आध्यात्मिक दौरा अधूरा रहेगा।
राहुल गाँधी

सरकार तो मोदी की ही बनेगी… कॉन्ग्रेस ने ऑफिशली मान ली अपनी हार

कॉन्ग्रेस ने 23 तारीख को चुनाव नतीजे आने तक का भी इंतजार करना जरूरी नहीं समझा। समझे भी कैसे! देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कॉन्ग्रेस भी उमर अबदुल्ला के ट्वीट से सहमत होकर...
योगी आदित्यनाथ और ओमप्रकाश राजभर

‘गालीबाज’ ओमप्रकाश राजभर सहित 8 नेता तत्काल प्रभाव से बर्खास्त: एक्शन में CM योगी

ये वही राजभर हैं, जिन्होंने रैली में मंच से दी थी BJP नेताओं-कार्यकर्ताओं को माँ की गाली। ये वही हैं जो पहले अफसरों की सिफारिश न सुनने पर हंगामा करते हैं और बाद में अपने बेटों को पद दिलाने पर अड़ जाते हैं।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

40,677फैंसलाइक करें
7,818फॉलोवर्सफॉलो करें
63,163सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: