बालाकोट: 170 आतंकी मारे गए, मदरसा अभी भी Pak सेना के कब्जे में, विदेशी पत्रकार फ्रांसेस्का का दावा

पहले भी भारतीय सेना ने इससे जुड़े कई सबूत मीडिया के सामने रखे थे। और अब एक विदेशी पत्रकार की पुष्टि ने भारतीय वायु सेना की कार्रवाई में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) आतंकवादी समूह के आतंकियों के मारे जाने का खुलासा किया है।

भारत द्वारा पाकिस्तान के बालाकोट में किए गए एयर स्ट्राइक पर नया खुलासा हुआ है जो भारतीय दावों को और भी पुष्ट करता है। भारतीय वायु सेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक पर विदेशी जर्नलिस्ट ने दावा किया है कि इस स्ट्राइक में जैश-ए-मोहम्मद के 130 से 170 आतंकियों के मारे गए हैं।

पत्रकार फ्रांसेस्का मैरिनो ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि स्थानीय सूत्रों का कहना है कि शिविर में अभी भी लगभग 45 आतंकियों का इलाज चल रहा है। ये भी दवा किया गया है कि लगभग 20 लोगों की मौत इलाज के दौरान हुई। हालाँकि, उस क्षेत्र को पाकिस्तानी सेना ने अभी भी सील किया हुआ है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि घायलों का अभी भी अस्पताल में इलाज नहीं हो रहा है। उन्हें एक अस्थायी सुविधा में रखा गया है।

पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय वायु सेना द्वारा 26 फरवरी 2019 को किए गए एयर स्ट्राइक पर भारत में राजनीतिक बहस जारी है। पहले भी भारतीय सेना ने इससे जुड़े कई सबूत मीडिया के सामने रखे थे। और अब एक विदेशी पत्रकार की पुष्टि ने भारतीय वायु सेना की कार्रवाई में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) आतंकवादी समूह के आतंकियों के मारे जाने का खुलासा किया है। हालाँकि, विदेशी पत्रकार ने 170 आतंकवादियों के मारे जाने को रिपोर्ट किया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि बालाकोट में IAF के हवाई हमले जम्मू-कश्मीर में घातक पुलवामा आत्मघाती हमले के कुछ दिनों बाद हुए, जिसमें केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के 40 जवान बलिदान हो गए थे। JeM ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति द्वारा जेइएम चीफ मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में सूचीबद्ध किए जाने के कुछ ही दिन बाद फ्रांसेस्का मैरिनो की यह रिपोर्ट आई है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"ज्ञानवापी मस्जिद पहले भगवान शिव का मंदिर था जिसे मुगल आक्रमणकारियों ने ध्वस्त कर मस्जिद बना दिया था, इसलिए हम हिंदुओं को उनके धार्मिक आस्था एवं राग भोग, पूजा-पाठ, दर्शन, परिक्रमा, इतिहास, अधिकारों को संरक्षित करने हेतु अनुमति दी जाए।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,743फैंसलाइक करें
42,954फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: