‘इमरान खान नहीं पूरा कर पाएँगे अपना कार्यकाल, तंग आ गए हैं पाकिस्तानी इस कठपुतली सरकार से’

"पाकिस्तान में यहाँ-वहाँ सभी जगह प्रदर्शन ही प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति सरकार से किसी न किसी रूप में परेशान है, प्रताड़ित किया जा रहा है और पूर्णतः सरकार से नाराज़ है। हम कठपुतली सरकार से परेशान आ चुके हैं।"

पाकिस्तान में छपे डॉन अखबर के मुताबिक विपक्ष के नेता बिलावल भुट्टो ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान के कार्यकाल के सम्बन्ध में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी की सरकार पर निशाना साधते हुए घटक दलों के सरकार चला रही पार्टी से भी नाखुश होने के भी संकेत दिए।

बता दें कि रविवार को पाकिस्तान के विपक्षी नेता और पाकिस्तान पीपल्स पार्टी (पीपीपी) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो ने जिन्ना स्नातकोत्तर चिकित्सा केंद्र का दौरा किया था उस दौरान मीडिया को संबोधित करते हुए भुट्टो ने कहा था कि संघीय सरकार देश को सही दिशा में ले जाने के लिए सक्षम होती है।

डॉन अख़बार की खबर के मुताबिक बिलावल ने कहा कि देश को चलाने के लिए संघीय सरकार को सर्वोत्तम व्यवस्था बताया है। उन्होंने विस्तार से बात करते हुए बताया कि कैसे इमरान की तहरीक ए इंसाफ की सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। राजनीतिक दलों और जनता के नाखुश रवैये पर प्रकाश डालते हुए भुट्टो ने कहा कि पाकिस्तान में यहाँ-वहाँ सभी जगह प्रदर्शन ही प्रदर्शन हो रहे हैं। प्रत्येक व्यक्ति सरकार से किसी न किसी रूप में परेशान है, प्रताड़ित किया जा रहा है और पूर्णतः सरकार से नाराज़ है। बिलावल ने कहा कि हम कठपुतली सरकार से परेशान आ चुके हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मीडिया रिपोर्ट्स में बिलावल के हवाले से कहा गया है, “प्रत्येक राजनीतिक दल और व्यापारी, शिक्षक, डॉक्टर तथा मजदूर सहित सभी तबकों के लोग, सरकार की नीतियों से नाखुश हैं। इससे मुझे लगता है कि इमरान खान अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाएँगे।”

बता दें कि इमरान खान ने 17 अगस्त 2018 को पाकिस्तान के 22वें प्रधानमन्त्री के रूप में शपथ ली थी। 176 वोटों के साथ उन्होंने इस पद पर अपनी दावेदारी को जीत में तब्दील किया था मगर अब विपक्ष के बयान, जनता की हाय-हाय और सरकार में साथ दे रहे दलों से बढ़ते अविश्वास के बीच इमरान खान को अपनी सत्ता की कुर्सी हिलती दिख रही है। यही वजह हो कि पीओके से लेकर भारत के सम्बन्ध में इमरान आजकल खूब ऊट-पटांग बोल रहे हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"ज्ञानवापी मस्जिद पहले भगवान शिव का मंदिर था जिसे मुगल आक्रमणकारियों ने ध्वस्त कर मस्जिद बना दिया था, इसलिए हम हिंदुओं को उनके धार्मिक आस्था एवं राग भोग, पूजा-पाठ, दर्शन, परिक्रमा, इतिहास, अधिकारों को संरक्षित करने हेतु अनुमति दी जाए।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,743फैंसलाइक करें
42,954फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: