2014 में SAARC, 2019 में BIMSTEC नेताओं को मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के लिए आमंत्रण

बिम्सटेक राष्ट्रों के समूह में बांग्लादेश, म्यांमार, श्री लंका, थाईलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान आते हैं। 2014 में नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सार्क नेताओं ने...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह का औपचारिक समय 30 मई को शाम 7 बजे तय किया गया है। इस बार SAARC नेताओं की जगह BIMSTEC (Bay of Bengal Initiative for Multi-Sectoral Technical and Economic Cooperation) में शामिल देशों को इस समारोह में आमंत्रित किया गया है। बता दें कि 2014 में नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में सार्क नेताओं ने शिरकत की थी, जिनमें पाकिस्तान के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ भी शामिल थे। इस बार बिम्सटेक नेताओं को आमंत्रित किया गया है। बिम्सटेक राष्ट्रों के समूह में बांग्लादेश, म्यांमार, श्री लंका, थाईलैंड, म्यांमार, नेपाल और भूटान आते हैं।

भारत सरकार ने नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के लिए विदेशी नेताओं को भेजे गए निमंत्रण के सम्बन्ध में जवाब देते हुए कहा, “भारत सरकार ने बिम्सटेक समूह में शामिल राष्ट्रों के नेताओं को इस शपथ ग्रहण समारोह में सम्मिलित होने के लिए निमंत्रित किया है। ये सरकार की ”पड़ोसी सर्वप्रथम” वाली नीतियों के अनुरूप है। ‘संघाई कोऑपरेशन आर्गेनाईजेशन’ के अध्यक्ष किर्गिस्तान के राष्ट्रपति को भी आमंत्रित किया गया है। इसके अलावा बीते प्रवासी भारतीय दिवस पर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत करने वाले मॉरीशस के प्रधानमंत्री को भी निमंत्रण भेजा गया है। बाकि विवरण जैसे ही आएँगे, मीडिया को उनसे अवगत कराया जाएगा।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को पिछले शपथ ग्रहण समारोह में भी आमंत्रित किया गया था लेकिन वह विदेशी दौरों पर होने के कारण नहीं आ पाईं थीं। इस बार भी उनके आने के आसार कम हैं क्योंकि वह तीन देशों के दौरे पर निकल रही हैं। उनके प्रतिनिधि के रूप में बांग्लादेश के लिबरेशन वॉर मंत्री मोज़म्मेल हक समारोह में शिरकत करेंगे। महामहिम रामनाथ कोविंद के प्रेस सचिव अशोक मलिक ने कहा कि राष्ट्रपति गुरुवार (मई 30, 2019) को शाम 7 बजे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व अन्य केंद्रीय मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाएँगे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अभी पाकिस्तान व अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्र प्रमुखों द्वारा इस समारोह में शिरकत करने को लेकर संशय बरकरार है, क्योंकि अभी तक उन्हें निमंत्रण नहीं भेजा गया है। कई मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया है कि तमिल सिनेमा के दोनों बड़े अभिनेताओं रजनीकांत व कमल हासन को भी समारोह में शिरकत करने के लिए आमंत्रित किया गया है, लेकिन अधिकारिक रूप से अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: