अफ़ग़ानिस्तान में राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी सभा में बम धमाका, 24 की मौत, दर्जनों घायल

धमाके के समय अशरफ गनी वहीं पर एक बिल्डिंग के भीतर मौजूद थे। मृतकों में अधिकतर आम नागरिक हैं। तालिबान और अमेरिका के बीच बातचीत ठप्प होने के कारण अफ़ग़ानिस्तान में चुनाव पर तालिबानी ख़तरा मँडरा रहा है।

अफ़ग़ानिस्तान में आतंकियों ने एक बार फिर से कहर बरपाया। राष्ट्रपति अशरफ गनी की रैली में हुए धमाके में 24 लोगों की जान चली गई और 30 से अधिक अभी भी घायल बताए जा रहे हैं। हालाँकि, अशरफ गनी सुरक्षित हैं और उन्हें किसी प्रकार की चोट नहीं पहुँची है। ये धमाका परवान प्रान्त की राजधानी चारिकार में हुए। तालिबान ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली है। तालिबान ने कहा है कि उसने सुरक्षा बलों को निशाना बनाया। हालाँकि, घायलों में कई बच्चे भी शामिल हैं, जिससे आशंका है कि पीड़ितों की संख्या बढ़ सकती है।

धमाके के समय अफ़ग़ान राष्ट्रपति घटनास्थल पर ही मौजूद थे। धमाका रैली स्थल के प्रवेश द्वार पर हुआ। अफ़ग़ानिस्तान में 28 सितम्बर को राष्ट्रपति चुनाव होने हैं और अधिकतर रैलियों में अशरफ गनी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही जनसभाओं को सम्बोधित किया है। लेकिन, इस बार उन्होंने ख़ुद रैली में उपस्थिति दर्ज कराने का निर्णय लिया था और वे चारिकार पहुँचे थे। बताया जा रहा है कि बम को एक मोटरसाइकिल में रखा गया था।

धमाके के समय अशरफ गनी वहीं पर एक बिल्डिंग के भीतर मौजूद थे। मृतकों में अधिकतर आम नागरिक हैं। तालिबान और अमेरिका के बीच बातचीत ठप्प होने के कारण अफ़ग़ानिस्तान में चुनाव पर तालिबानी ख़तरा मँडरा रहा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उधर काबुल के ग्रीन जोन में भी एक धमाका हुआ। यह धमाका नाटो मुख्यालय के क़रीब हुआ। तालिबान ने साफ़ कर दिया है कि वो जनता को राष्ट्रपति चुनाव में वोट नहीं डालने के लिए कहेगा। अफ़ग़ानिस्तान में चुनाव शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए देश भर में 70,000 से भी अधिक सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। कहा जा रहा है कि चुनाव के लिए 5000 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: