‘जल्द आ रहे हैं, इंशाअल्लाह’: ISIS ने दी भारत और बांग्लादेश में हमले की धमकी

इन पोस्टर्स की अनदेखी करना घातक हो सकता है क्योंकि श्री लंका में भी आईएसआईएस से जुड़े एक अनजान संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) ने आतंकी हमले को अंजाम दिया था।

इस्लामिक स्टेट से जुड़े एक आतंकी संगठन ने भारत और बांग्लादेश में हमला करने की धमकी दी है। संगठन ने चेतावनी भरा पोस्टर जारी करते हुए कहा है कि बंगाल और हिंद में खलीफा के लड़ाकों की आवाज कभी बंद नहीं हो सकती। इन पोस्टर में लिखा है कि इनके बदले की प्यास कभी शांत नहीं होगी।

दैनिक जागरण की खबर के अनुसार खुफिया विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अल मुरसलत नाम के संगठन ने अबु-बंगाली को बांग्लादेश में अपना मुखिया बनाया है। अबु को हमले की योजना बनाने के साथ ही नए आतंकियों को संगठन में शामिल करने की जिम्मेदारी दी गई है।

इस पोस्टर को जारी करने से पहले आतंकी संगठन ने बांग्लादेश में एक हल्का धमाका भी कराया था। ये धमाका बांग्लादेश की राजधानी ढाका में गुलिस्तां थियटर के पास हुआ था। हालाँकि इसमें किसी की जान नहीं गई थी लेकिन कुछ पुलिसकर्मी घायल जरूर हुए थे।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

मीडिया खबरों की मानें तो भारत की खुफिया एजेंसियों को शक है कि आईएसआईएस इन छोटे संगठनों के साथ मिलकर बांग्लादेश में आतंकी हमला कर सकता है। जिसके कारण एजेंसियों की नजर बांग्लादेश में होने वाली हर छोटी-बड़ी गतिविधि पर बनी हुई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस आतंकी संगठन ने पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के कुछ इलाकों में पोस्टर भी बाँटे हैं और साथ ही अपने समर्थकों को एकजुट करने की कोशिश की है। बाँटे गए पोस्टर्स पर लिखा है, “जल्द आ रहे हैं, इंशाअल्लाह।”

गौरतलब है कि ये खबर उस समय सामने आई है जब आईएसआईएस के प्रमुख अबु बकर अल बगदादी का नाम एक बार फिर चर्चा में है। पाँच साल बाद बगदादी फिर एक वीडियो में नजर आया है। बगदादी ने इस वीडियो में श्री लंका में हुए ईस्टर के मौके पर आत्मघाती हमलों का जिक्र किया है। ऐसे में अंजान संगठन की ओर से जारी किए गए इन पोस्टर्स की अनदेखी करना घातक हो सकता है क्योंकि श्री लंका में भी आईएसआईएस से जुड़े एक अनजान संगठन नेशनल तौहीद जमात (एनटीजे) ने आतंकी हमले को अंजाम दिया था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: