ISIS-अलकायदा से जुड़ा जिहादी धर्म प्रचारक मुल्ला क्रेकर गिरफ्तार

1991 से नार्वे में शरणार्थी के रूप में रहने वाले क्रेकर पर 'रावती शाक्स' संगठन चलाने का आरोप है। 'रावती शाक्स' के तार इस्लामिक स्टेट से जुड़े हैं और इस पर पश्चिमी देशों पर हमले की साजिश रचने का इल्जाम है।

इराक-कुर्द मूल के विवादित कट्टरपंथी धर्म प्रचारक मुल्ला फ़तेह क्रेकर को नॉर्वे ने गिरफ्तार कर लिया है। नॉर्वे ने उसे इतालवी अधिकारियों के अनुरोध पर गिरफ्तार किया है। इटली ने उसे आतंकी साजिश रचने का दोषी ठहराया है।

वर्ष 1991 से नार्वे में शरणार्थी के रूप में रहने वाले क्रेकर (63 साल) पर इटली ने ‘रावती शाक्स’ (Rawthi Shax) संगठन चलाने का आरोप लगाया है। ‘रावती शाक्स’ ऐसा नेटवर्क है, जिसके तार इस्लामिक स्टेट समूह (ISIS) से जुड़े हैं और इस पर पश्चिमी देशों पर हमले की साजिश रचने का भी इल्जाम है। क्रेकर के संगठन के सम्बन्ध अलकायदा के नेताओं के साथ भी हैं।   

नॉर्वे ने इराक-कुर्द मूल के विवादित कट्टरपंथी प्रचारक मुल्ला क्रेकर को गिरफ्तार किया है

क्रेकर का असली नाम नजामुद्दीन अहमद फराज है। उत्तरी इटली के बोल्ज़ानो में एक अदालत ने उसकी गैरमौजूदगी में सोमवार (जुलाई 15, 2019) को उसे आतंकवाद की साजिश के लिए 12 साल की सजा सुनाई। मुल्ला क्रेकर के पाँच अन्य साथियों को भी सजा सुनाई गई है। क्रेकर के अलावा, दो अन्य अपराधी नॉर्वे में रहते हैं, जबकि अन्य तीन इंग्लैंड में रह रहे हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: