अमेरिका दौरा: गाँधी जयंती होगी संयुक्त राष्ट्र में, हफ्ते भर में 21 नेताओं से मिलेंगे मोदी, ‘Howdy Modi’ भी होगा

इसी दौरान मोदी संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी सदस्य संस्था संयुक्त राष्ट्र महासभा को भी सम्बोधित करेंगे। इसके पहले उन्होंने 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री निर्वाचित होने पर सभा को सम्बोधित किया था, जिसकी उस समय बहुत चर्चा हुई थी।

अपने आगामी अमेरिका दौरे के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक हफ़्ते में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के अलावा 20 अन्य नेताओं से मुलाक़ात करेंगे। मोदी के विदेश दौरे की घोषणा करते हुए विदेश सचिव विजय गोखले ने यह जानकारी दी। 21 सितंबर की दोपहर से 27 सितंबर तक चलने वाले इस दौरे में वह दो अमेरिकी शहरों न्यूयॉर्क और टेक्सास राज्य के ह्यूस्टन में मौजूद होंगे। इसी दौरे का अंग भारतीयों और भारतवंशियों के साथ उनकी मुलाकात का कार्यक्रम ‘Howdy Modi’ भी होगा।

2014 के बाद UN महासभा को संबोधन

इसी दौरान मोदी संयुक्त राष्ट्र की सबसे बड़ी सदस्य संस्था संयुक्त राष्ट्र महासभा को भी सम्बोधित करेंगे। इसके पहले उन्होंने 2014 में पहली बार प्रधानमंत्री निर्वाचित होने पर सभा को सम्बोधित किया था, जिसकी उस समय बहुत चर्चा हुई थी।

गाँधी जयंती होगी संयुक्त राष्ट्र में, महासचिव से लेकर कोरिया-जमैका के राष्ट्राध्यक्ष भी होंगे शामिल

गोखले ने जानकारी दी कि 24 सितंबर को गाँधी जी की आगामी 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में मोदी की मौजूदगी में संयुक्त राष्ट्र में विशेष समारोह होगा। कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों ने ‘Leadership matters: Relevance of Gandhi in contemporary times’ नामक समारोह में शामिल होने के लिए हामी भरी है। इनमें संयुक्त राष्ट्र के महासचिव ऍन्तोनिओ गुतेरेश के अलावा सिंगापुर, कोरिया, न्यूज़ीलैंड आदि के राष्ट्राध्यक्षों के भी शमिल होने की उम्मीद है।

22 को ‘Howdy Modi’

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

22 को मोदी भारतीय समुदाय को सम्बोधित करेंगे। इस समारोह में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी आएँगे, जो इस बार अपने पुनर्निर्वाचन के लिए भारतवंशी अमेरिकियों पर नज़र टिकाए हैं। ट्रम्प ने कश्मीर मामले पर भी पाकिस्तान के सुर में बात करने और पाकिस्तान के पक्ष में ‘गैर-हस्तक्षेप’ की नीति को पलटते हुए इस बार भारत के रुख के समर्थन में कश्मीर-विवाद को ‘दोनों देशों का आपसी मसला’ और जम्मू-कश्मीर से 370 हटा कर पूर्ण विलय को भारत का आंतरिक मुद्दा करार दिया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

ओवैसी, बाबरी मस्जिद
"रिव्यू पिटिशन पर जो भी फ़ैसला होगा, वो चाहे हमारे हक़ में आए या न आए, हमको वो फ़ैसला भी क़बूल है। लेकिन, यह भी एक हक़ीक़त है कि क़यामत तक बाबरी मस्जिद जहाँ थी, वहीं रहेगी। चाहे वहाँ पर कुछ भी बन जाए। वो मस्जिद थी, मस्जिद है... मस्जिद ही रहेगी।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

117,663फैंसलाइक करें
25,872फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: