जेल में बंद नवाज़ शरीफ को मुकेश के गानों की सीडी दी जानी चाहिए: पाक मंत्री शेख रशीद

3 बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ फिलहाल भ्रष्टाचार के आरोपों में 7 वर्ष जेल की सज़ा काट रहे हैं। वहीं अगर शेख रशीद की बात करें तो कश्मीर पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लेते ही माइक से जोर का करंट लगा था।

पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद ने कहा है कि जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ को दिवंगत भारतीय गायक मुकेश के गानों की सीडी दी जानी चाहिए। 3 बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रह चुके शरीफ फिलहाल भ्रष्टाचार के आरोपों में 7 वर्ष जेल की सज़ा काट रहे हैं। 69 वर्षीय नवाज़ सबसे ज्यादा दिन पाकिस्तान के पीएम पद पर रहने वाले नेता हैं। वहीं अगर शेख रशीद की बात करें तो कश्मीर पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लेते ही माइक से जोर का करंट लगा था

शेख रशीद ने कहा कि जेल में बंद नवाज़ शरीफ को एक टेप रिकॉर्डर और साथ में मुकेश के गानों का कलेक्शन मुहैया कराया जाना चाहिए। बता दें कि नवाज़ शरीफ को जेल में AC और टीवी की सुविधा दिए जाने को लेकर हास चल रही है। पाकिस्तान के पीएम इमरान ख़ान ने कहा था कि वो इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि नवाज़ को जेल में एसी या टीवी न मिले। उन्होंने कहा था कि उनकी बेटी मरियम हंगामा करेगी लेकिन उन्हें देश का रुपया लौटना ही पड़ेगा।

शेख रशीद ने कहा कि वह जेल में बंद किसी भी नेता को मिली एसी की सुविधा हटाने के विरोध में नहीं हैं लेकिन वह नवाज़ शरीफ सहित अन्य नेताओं को टेप रिकॉर्डर और मुकेश के गानों की सीडी देने के पक्ष में ज़रूर हैं। कहा जाता है कि नवाज़ शरीफ को पुराने बॉलीवुड गानें बेहद पसंद हैं। मुकेश ने ‘मेरा जूता है जापानी’, ‘कहीं दूर जब दिन ढल जाए’, ‘आवारा हूँ’, ‘दोस्त दोस्त ना रहा’, ‘इक प्यार का नगमा है’ और ‘बोल राधा बोल’ सहित कई लोकप्रिय हिंदी गानों को आवाज़ दी है। उनके कई गानें भारत से बाहर भी काफ़ी लोकप्रिय हुए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पाकिस्तान में फिलहाल बॉलीवुड फ़िल्मों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। भारत से तनाव के बीच पाकिस्तान ने यह निर्णय लिया। शेख रशीद इससे पहले पाकिस्तान के पास एक पाव और सवा पाव के परमाणु बम होने का दावा भी कर चुके हैं।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: