हाउडी मोदी: ‘PM मोदी के साथ ट्रंप का मंच साझा करना पाकिस्तान के मुँह पर करारा तमाचा’

"अमेरिकी सरकार और डोनाल्ड ट्रंप का रुख पहले ही दिन से इस मसले पर बिल्कुल साफ रहा है। 15 अक्टूबर 2016 को ट्रंप ने साफ कहा था कि अगर वह चुने जाते हैं तो व्हाइट हाउस में भारत उनका सबसे अच्छा मित्र होगा और हम हिंदुओं से प्यार करते हैं।"

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व सलाहकार शलभ शैली कुमार ने ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम को लेकर बड़ा बयान दिया है । उन्होंने कहा कि हाउडी मोदी कार्यक्रम में पीएम नरेंद्र मोदी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का स्टेज साझा करना पाकिस्तान के मुँह पर करारा तमाचा है।

बता दें कि, शलभ शैली ट्रंप के चुनावी अभियान के दौरान उनके सलाहकार थे। शैली अमेरिका में जाने-माने उद्योगपति है। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के कार्यक्रम को अमेरिका की तरफ से आयोजित करना अमेरिकी प्रशासन का भारत को बड़ा समर्थन है। शैली ने कहा कि प्रेसिडेंट ट्रंप यहाँ आने के लिए तैयार हुए और पीएम मोदी के साथ स्टेज साझा करने के लिए राजी हुए, यह पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के मुँह पर तमाचा है।

डोनाल्ड ट्रंप द्वारा जम्मू-कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की बात पर शैली ने कहा, “इस तरह के सवाल उठाए जा रहे थे कि क्या राष्ट्रपति ने कश्मीर मसले पर मध्यस्थता के लिए कदम बढ़ाया है? लेकिन मैं कहना चाहता हूँ कि कुछ मुश्किल सवाल के जवाब में राष्ट्रपति ने यह बात कही थी।” आगे उन्होंने कहा “अमेरिकी सरकार और डोनाल्ड ट्रंप का रुख पहले ही दिन से इस मसले पर बिल्कुल साफ रहा है। 15 अक्टूबर 2016 को ट्रंप ने साफ कहा था कि अगर वह चुने जाते हैं तो व्हाइट हाउस में भारत उनका सबसे अच्छा मित्र होगा और हम हिंदुओं से प्यार करते हैं।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

व्यापार को लेकर चल रहे मसलों के बारे में कुमार ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच कोई बड़ा ट्रेड विवाद नहीं है। कुछ मसले हैं, जिन्हें सुलझा लिया जाएगा। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार (सितंबर 21, 2019) को ह्यूस्टन पहुँचे। वे आज यहाँ हाउडी मोदी कार्यक्रम में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित करेंगे। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी शिरकत करेंगे। माना जा रहा है कि इस कार्यक्रम में 50,000 लोग हिस्सा लेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: