Friday, September 17, 2021
Homeविविध विषयअन्यअगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: ED के हाथ लगी डायरी और पेन ड्राइव, ₹423 करोड़ की...

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाला: ED के हाथ लगी डायरी और पेन ड्राइव, ₹423 करोड़ की पूरी कहानी इसमें दर्ज

मिशेल को जिस भी जेल में रखा जाएगा, वहाँ की दो महीने की सीसीटीवी फुटेज संभाल कर रखी जाएगी। मिशेल के वकीलों ने अदालत में उसके एकांत कारावास में रखे जाने की बात कही थी।

अगस्ता वेस्टलैंड घोटाले में क्रिस्चियन मिशेल के गिरफ़्तार और प्रत्यर्पित होकर भारत लाए जाने के बाद नित नए ख़ुलासे हो रहे हैं। मामले में सरकारी गवाह बने राजीव सक्सेना ने प्रवर्तन निदेशालय (ED) को एक पेन ड्राइव और डायरी सौंपी है। इस डायरी में अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी चॉपर सौदे में दी गई 423 करोड़ रुपए की घूस सम्बन्धी विवरण है। इनमें अगस्ता वेस्टलैंड इंटरनैशनल लिमिटेड से ट्यूनीशिया, मॉरिशस, दुबई स्थित शेल कंपनियों और स्विस बैंकों के अलावा भारत में बिचौलियों के पास धन पहुँचाने की पूरी कहानी है। इस डायरी और पेन ड्राइव के विश्लेषण के बाद कुछ और नए राज़ निकल कर आने की संभावना है।

राजीव सक्सेना वो शख़्स है, जो स्विट्ज़रलैंड में अलग-अलग बैंक एकाउंट्स को चलाता था। इन बैंक अकाउंट्स में अगस्ता वेस्टलैंड से आई किक बैक्स की रक़म डाली गई थी। 8 सितंबर 2017 (या यह 9 अगस्त 2017 भी हो सकता है) तक राजीव सक्सेना के इन बैंक अकाउंट्स में कुल ₹314 करोड़ की राशि जमा की गई थी। इस पर अभी जाँच जारी है कि आख़िर यह किक बैक्स किसके फ़ायदे के लिए की गई थी और किसके इशारे पर इन बैंक एकाउंट्स को रखा गया था।

सक्सेना की व्यक्तिगत डायरी में किन लोगों के नाम हैं, इस बारे में अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। लोगों का मानना है कि सक्सेना ने इस पूरे घटनाक्रम में एक मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी। सक्सेना ने जाँच एजेंसी को कहा था कि उसने सिर्फ़ बिचौलियों के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभाई थी। उसने इस पूरे घोटाले में बड़ा किरदार होने की बात नकार दी थी। अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकॉप्टर घोटाले में यूपीए-2 के कुछ बड़े नेताओं और अधिकारियों के नाम आने की संभावना है।

क्रिश्चियन पर भी गिरी गाज

उधर अदालत ने दलाल क्रिश्चियन मिशेल को एकांत कारावास से निकालकर सामान्य सेल में भेजने का निर्देश तिहाड़ जेल महानिदेशक (डीजी) को दिया है। अदालत ने मिशेल की सुरक्षा चाक-चौबंद रखने और तीन दिन के भीतर इसकी रिपोर्ट पेश करने का निर्देश जेल डीजी दिया है। पटियाला हाउस अदालत के विशेष सीबीआई जज अरविंद कुमार ने तिहाड़ जेल से मँगाई गई पाँच दिन की सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद कहा कि जिस ब्लॉक में मिशेल को रखा गया है, उसमें कुल पाँच सेल हैं। इनमें से चार सेल खाली हैं और एक में केवल मिशेल को रखा गया है। यह एकांत कारावास से भी ज्यादा है। एकांत कारावास एक सज़ा है, जो कैदी को मानसिक व शारीरिक रूप से परेशान करती है।

मिशेल को जिस भी जेल में रखा जाएगा, वहाँ की दो महीने की सीसीटीवी फुटेज संभाल कर रखी जाएगी। मिशेल के वकीलों ने अदालत में उसके एकांत कारावास में रखे जाने की बात कही थी। वकीलों ने कहा था कि उसे शहाबुद्दीन, छोटा राजन व कश्मीरी आतंकियों के साथ रखा गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,744FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe