Wednesday, August 4, 2021
Homeविविध विषयअन्य'असली' हार्वर्ड प्रोफेसर श्रीकांत दातार को मोदी सरकार ने दिया पद्मश्री, अभी हैं बिजनेस...

‘असली’ हार्वर्ड प्रोफेसर श्रीकांत दातार को मोदी सरकार ने दिया पद्मश्री, अभी हैं बिजनेस स्कूल के डीन

दातार की उपलब्धियों पर यदि बात करें तो उन्होंने विश्वविद्यालय में वरिष्ठ एसोसिएट डीन के तौर पर काम करने के अलावा, अनुंधान, एक्जिक्यूटिव एज्यूकेशन, फैकल्टी डेवलपमेंट और हार्वर्ड प्रोफाइल में फैकल्टी भर्ती के लिए के लिए काम किया है।

हार्वर्ड बिजनेस स्कूल (Harvard Business School) के 11वें डीन के तौर पर 1 जनवरी 2021 को नियुक्त होने वाले श्रीकांत दातार आज उन 119 लोगों की सूची में शामिल हैं जिन्हें 2021 के पद्म अवार्ड्स से सम्मानित किया गया। मोदी सरकार ने देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान में उनके अलावा दो अन्य भारतीय अमेरिकियों को भी यह पुरस्कार दिया।

‘फाइबर ऑप्टिक्स के जनक’ के रूप में जाने जाने वाले नरिंदर सिंह कपानी को मरणोपरांत पद्म विभूषण देने का ऐलान हुआ। वहीं अमेरिका के भारतीय मूल के नागरिक रतन लाल ओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी में मृदा विज्ञान के प्रोफेसर हैं, जिन्हें इस साल पद्म श्री से सम्मानित किया गया है।

दातार की उपलब्धियों पर यदि बात करें तो उन्होंने विश्वविद्यालय में वरिष्ठ एसोसिएट डीन के तौर पर काम करने के अलावा, अनुंधान, एक्जिक्यूटिव एज्यूकेशन, फैकल्टी डेवलपमेंट और हार्वर्ड प्रोफाइल में फैकल्टी भर्ती के लिए के लिए काम किया है।

उन्होंने बॉम्बे विश्वविद्यालय से स्नातक किया है और IIM, अहमदाबाद और इंस्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एंड वर्क्स अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया से स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी करने के बाद स्वर्ण पदक भी प्राप्त किया है। वह एक चार्टर्ड एकाउंटेंट भी हैं और स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से दो मास्टर्स डिग्री और पीएचडी की उपाधि प्राप्त कर चुके हैं।

बता दें कि दातार से पहले हार्वर्ड यूनिवर्सिटी का नाम एनडीटीवी की पूर्व कर्मचारी निधि राजदान के कारण चर्चा में आया था। उन्होंने दावा किया था कि उन्हें यूनिवर्सिटी ने पत्रकारिता पढ़ाने के लिए नियुक्त कर लिया है। बाद में पता चला कि वह तो फिशिंग अटैक का शिकार हुई थीं और वह ऑफर असली नहीं था।

राजदान के बारे में मालूम हो कि वह न्यूज़ एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया (PTI) के पूर्व एडिटर-इन-चीफ़, महाराज कृष्ण राज़दान की बेटी हैं और उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की है। साथ ही भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) से मास कम्युनिकेशन में स्नातकोत्तर की पढ़ाई की है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पोस्टमॉर्टम से भी नहीं सुलझी दिल्ली में 9 साल की बच्ची की मौत का रहस्य: राहुल गाँधी पर पहचान सार्वजनिक करने का आरोप

दिल्ली के ओल्ड नांगल में 9 साल की बच्ची की संदेहास्पद हालत में मौत हो गई। आरोप है कि श्मशान घाट के भीतर रेप करने के बाद बच्ची को जला दिया गया।

‘धर्म में मेरा भरोसा, कर्म के अनुसार चाहता हूँ परिणाम’: कोरोना से लेकर जनसंख्या नियंत्रण तक, सब पर बोले CM योगी

सपा-बसपा को समाजिक सौहार्द्र के बारे में बात करने का कोई अधिकार नहीं है क्योंकि उनका इतिहास ही सामाजिक द्वेष फैलाने का रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,945FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe