Tuesday, September 28, 2021
Homeविविध विषयविज्ञान और प्रौद्योगिकीकोरोना के टीकों से बढ़ जाती है मर्दों की प्रजनन क्षमता: 26-36 से बढ़...

कोरोना के टीकों से बढ़ जाती है मर्दों की प्रजनन क्षमता: 26-36 से बढ़ कर 30-44 का आया रिजल्ट

टीके से पहले शुक्राणु एकाग्रता 26 मिलियन/मिलीलीटर और कुल गतिशील शुक्राणुओं की संख्या 36 मिलियन थी। वैक्सीन की दूसरी खुराक के बाद, औसत शुक्राणु सांद्रता (Concentration) बढ़कर 30 मिलियन/एमएल और औसत टीएमएससी 44 मिलियन हो गई।

एक शोध में कहा गया है कि फाइजर और मॉडर्ना के टीके पुरुषों की प्रजनन क्षमता को कोई नुकसान नहीं पहुँचाते। शोध में यह भी पाया गया है कि इन टीकों की दोनों खुराक लेने के बाद भी प्रतिभागियों में शुक्राणुओं का स्तर अच्छा बना रहा।

बृहस्पतिवार (17 जून 2021) को जामा पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन में 18 से 50 साल के 45 स्वस्थ लोगों को शामिल किया गया था। इन लोगों को फाइजर और मॉडर्ना के टीके लगने थे। इन अध्ययन में उन लोगों को बाहर रखा गया था जिन्हें 90 दिन पहले तक कोरोना का संक्रमण हुआ था या उसके लक्षण नजर आए थे।

अध्ययन में हिस्सा लेने वाले प्रतिभागियों की जाँच कर यह सुनिश्चित किया गया था कि उन्हें पहले से ही किसी प्रकार की प्रजनन समस्या ना हो।

अध्ययन में शामिल पुरुषों के पहली खुराक लेने के 2 से 7 दिन पहले और दूसरी खुराक के करीब 70 दिनों के बाद इन लोगों के वीर्य के नमूने लिए गए। इसके बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशा-निर्देशों के आधार पर प्रशिक्षित विशेषज्ञों (एंड्रोलॉजिस्ट) ने कई मानकों पर शुक्राणुओं का विश्लेषण किया।

इसमें वीर्य की मात्रा, शुक्राणु गतिशीलता और कुल गतिशील शुक्राणुओं की संख्या (टीएमएससी) मापी गई। शोधकर्ताओं को टीकों से पहले और बाद में शुक्राणुओं में किसी भी तरह की गिरावट नहीं दिखी।

अध्ययन की शुरुआत में शुक्राणु एकाग्रता 26 मिलियन/मिलीलीटर और कुल गतिशील शुक्राणुओं की संख्या 36 मिलियन थी। वैक्सीन की दूसरी खुराक के बाद, औसत शुक्राणु सांद्रता (Concentration) बढ़कर 30 मिलियन/एमएल और औसत टीएमएससी 44 मिलियन हो गई।

शोधकर्ताओं ने कहा कि वीर्य की मात्रा और शुक्राणु की गतिशीलता में भी काफी वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि टीकों में एमआरएनए होता है न कि जीवित वायरस। इसलिए, यह संभावना नहीं है कि टीका शुक्राणु मानकों को प्रभावित करेगा।

अमेरिका की मियामी यूनिवर्सिटी के इन शोधकर्ताओं का कहना है, “पहले हुए ट्रायलों में टीकों के प्रजनन क्षमता से संबंध की जाँच नहीं हुई थी। ऐसे में प्रजनन क्षमता पर नकारात्मक असर की धारणा के चलते लोग टीके लगवाने से हिचकिचा रहे हैं। यही वजह है कि हमने शुक्राणुओं को लेकर यह मूल्यांकन किया।”

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘पूरी दुनिया में अल्लाह की निजामियत कायम करनी है’: IAS इफ्तिखारुद्दीन पर धर्मांतरण को बढ़ावा देने के आरोप, 3 वीडियो वायरल

उत्तर प्रदेश स्थित कानपुर के वरिष्ठ IAS इफ्तिखारुद्दीन के वीडियोज वायरल हुए, जिसमें वो कथित रूप से इस्लामी धर्मांतरण को बढ़ावा देते दिख रहे हैं।

‘किसान विद्रोह’, ‘मालगाड़ी में नरसंहार’, पर्यटन सर्किट: मालाबार में मोपला मुस्लिमों ने हिंदुओं का किया था कत्लेआम, लीपापोती कर रही केरल सरकार

मोपला मुस्लिमों द्वारा मालाबार में किए गए हिंदू नरसंहार को 2021 में 100 वर्ष हो गए हैं। ऐसे में केरल सरकार इन प्रयासों में जुटी है कि कैसे भी इसका जिक्र धो पोंछ कर बराबर हो।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
124,837FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe