इंडियन आर्मी से लड़ने के लिए हमने कश्मीरियों को ट्रेनिंग दी: पूर्व राष्ट्रपति ने ही Pak को किया बेनकाब

"हम दुनिया भर से मुजाहिदीनों को लेकर आए, हमने उन्हें प्रशिक्षित किया और हथियारों की आपूर्ति की। वे हमारे हीरो थे। हक़्क़ानी हमारा हीरो था। ओसामा बिन लादेन हमारा हीरो था।"

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति सेवानिवृत्त जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ ने यह क़बूल किया है कि कश्मीर में भारतीय सेना के ख़िलाफ़ लड़ने के लिए कश्मीरियों को पाकिस्तान में प्रशिक्षित किया गया था और उन्हें ‘हीरो’ कहा गया।

ख़बर के अनुसार, मुशर्रफ़ ने कहा कि ओसामा बिन लादेन और जलालुद्दीन हक़्क़ानी जैसे आतंकवादी ‘पाकिस्तानी हीरो’ हुआ करते थे।

पाकिस्तान के राजनेता फरहतुल्लाह बाबर द्वारा बुधवार को ट्विटर पर साझा किए गए एक साक्षात्कार क्लिप में, मुशर्रफ़ को यह कहते हुए सुना जा सकता है,

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

“… 1979 में, हमने पाकिस्तान को लाभ पहुँचाने और सोवियत को देश से बाहर निकालने के लिए अफ़ग़ानिस्तान में धार्मिक उग्रवाद की शुरुआत की थी। हम दुनिया भर से मुजाहिदीनों को लेकर आए, हमने उन्हें प्रशिक्षित किया और हथियारों की आपूर्ति की। वे हमारे हीरो थे। हक़्क़ानी हमारा हीरो था। ओसामा बिन लादेन हमारा हीरो था। तब का माहौल अलग था, लेकिन अब यह अलग है। हीरो ने खलनायक की ओर रुख़ कर लिया है।”

कश्मीर में अशांति के बारे में बात करते हुए, मुशर्रफ़ ने कहा,

“… पाकिस्तान में आने वाले कश्मीरियों का हीरो के तौर पर स्वागत किया जाता था। हम उन्हें प्रशिक्षित करते थे और उनका समर्थन करते थे। हम उन्हें भारतीय सेना से लड़ने वाले मुजाहिदीन मानते थे। इस अवधि में लश्कर-ए-तैयबा जैसे विभिन्न आतंकवादी संगठन उठे। वे हमारे हीरो थे।”

मुशर्रफ़ द्वारा उगला यह ज़हर इस बात का सबूत है कि जो पाकिस्तान, कश्मीर में किसी भी तरह के हस्तक्षेप की बात को हमेशा नकारता आया है, उसका यह दावा कितना खोखला है। वही पाकिस्तान, क्षेत्र में तनाव बढ़ाने के लिए आतंकवादियों को न सिर्फ़ प्रशिक्षित कर रहा है बल्कि आतंक फैलाने के लिए उनका इस्तेमाल भी करता आया है।

भारत ने एक बार नहीं बल्कि अनेकों बार कहा कि पड़ोसी देश (पाकिस्तान) आतंक को ख़त्म करने के लिए अपनी ज़मीन का इस्तेमाल करना बंद करे। लेकिन, पाकिस्तान अपनी ओछी हरक़तों से कभी बाज नहीं आता। अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इस्लामाबाद को देश में सक्रिय आतंकवादी समूहों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने के लिए कहा है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: