सब्जी वाले का वेश बनाकर NIA ने पकड़ा आतंकी, मजदूर बनकर रच रहा था हमले की साजिश

जाहिरुल उर्फ जाकिर पश्चिम बंगाल के नादिया का रहने वाला है और वह आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद का सक्रिय सदस्य है। उसने आतंकी विस्फोट और हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी हासिल की हुई हैं।

मध्यप्रदेश के इंदौर जिले से राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (NIA) ने स्वतंत्रता दिवस से दो दिन पहले एक आतंकी को गिरफ्तार किया। आतंकी का नाम जाहिरुल शेख है। वह साल 2014 में पश्चिम बंगाल के वर्धमान में हुए बम विस्फोट का आरोपित है।

साल 2014 में वर्धमान में हुए धमाकों के बाद एनआईए जाहिरुल की तलाश कर रही थी, लेकिन बहुत कोशिशों के बाद भी वह पकड़ नहीं आ रहा था। ऐसे में कुछ दिन पहले जाँच एजेंसी को शेख के इंदौर के आजाद नगर थाना क्षेत्र के कोहिनूर कालोनी में होने की खबर मिली। जब जाँच की गई तो पता चला आतंकी वहाँ रहकर पेंटर का काम करता है और साथ में मजदूरी करता है।

प्राप्त जानकारी के आधार पर एनआईए के अधिकारियों का दस्ता इंदौर पहुँचा और वहाँ की पुलिस को भी अपने प्लॉन के बारे में कुछ नहीं बताया। इंदौर में एनआईए ने अपने स्तर पर आतंकी के लिए जाल बिछाया और जिस इलाके में शेख रहता था वहाँ उन्होंने सब्जी बेचनी शुरू कर दी। सब्जी बेचने के बहाने एनआईए के अधिकारियों ने शेख के सही ठिकाने का पता लगाया। जब सारी जानकारियाँ एकत्रित हो गई तो उन्होंने पुलिस की मदद ली और जाहिरुल को धर पकड़ा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

खबरों के मुताबिक एडीजी वरुण कपूर ने बताया कि जिस मकान में शेख किराए पर रहता था उसके मकान मालिक शाकिर खान ने अपने किराएदार का वेरिफिकेशन नहीं करवाया था। शेख लगभग 2 सालों से उसी ठिकाने पर रह रहा था। वह अलग-अलग शहरों में मजदूर बनके काम करता था।

बता दें कि जाहिरुल उर्फ जाकिर पश्चिम बंगाल के नादिया का रहने वाला है और वह आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद का सक्रिय सदस्य है। उसने आतंकी विस्फोट और हथियार चलाने की ट्रेनिंग भी हासिल की हुई हैं। बताया जा रहा है कि इस बार भी वह किसी खूँखार आतंकी वारदात को अंजाम देने की फिराक में इंदौर में रुका हुआ था। लेकिन एनआईए की सूझ-बूझ ने उसे धर दबोचा। अब वह एजेंसी के शिकंजे में और उससे पूछताछ चल रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

राहुल गाँधी, महिला सेना
राहुल गाँधी ने बेशर्मी से दावा कर दिया कि एक-एक महिलाओं ने सुप्रीम कोर्ट में खड़े होकर मोदी सरकार को ग़लत साबित कर दिया। वे भूल गए कि इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में मोदी सरकार नहीं, मनमोहन सरकार लेकर गई थी।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

153,155फैंसलाइक करें
41,428फॉलोवर्सफॉलो करें
178,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: