घाटी में आतंक फैलाने के लिए हाफिज सईद से करोड़ों लेते थे अलगाववादी कश्मीरी नेता: NIA दाखिल करेगी चार्जशीट

रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए कई अलगागवादी नेताओं को लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद से पैसा मिलता था। इस लिस्ट में अलगावदी नेता यासीन मलिक, शब्बीर अहमद शाह, आसिया अंद्राबी, मशरत आलम समेत 5 अलगाववादी नेताओं के नाम शामिल हैं।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है। जिसमें एक बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए कई अलगागवादी नेताओं को लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद से पैसा मिलता था। इस लिस्ट में अलगावदी नेता यासीन मलिक, शब्बीर अहमद शाह, आसिया अंद्राबी, मशरत आलम समेत 5 अलगाववादी नेताओं के नाम शामिल हैं।

अब राष्ट्रीय आतंक विरोधी कानून (UAPA) के नए कानून के तहत इन नेताओं के खिलाफ NIA चार्जशीट दाखिल करेगी। इसके लिए NIA ने 214 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है। NIA को हाफिज सईद से अलगाववादियों को आतंकियों को फंडिंग और पत्थरबाजी के लिए धन मिलने के सारे सबूत हैं। NIA ने यह खुलासा यासीन मलिक की डिजिटल डायरी से मिली जानकारी के आधार पर किया है।

बता दें कि आतंकी फंडिंग के मामले में कई अलगाववादी नेताओं की गिरफ्तारी के बाद जाँच एजेंसी NIA इस मामले को इन्वेस्टीगेट कर रही है। जिसमें एक के बाद एक कई बड़े खुलासे हुए हैं कि आतंकी फंडिंग का तार भारत के अलावा और किन देशों से जुड़ा है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

एनआईए की इंटेरोगेशन रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि सैयद अली शाह गिलानी, यासीन मलिक, उमर फारूक के रिकमेंडेशन लेटर के जरिए पाकिस्तान लीगल वीजा देकर कश्मीर के युवाओं को पाक में आतंक की ट्रेनिंग देता था। साथ ही एनआईए की रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि आसिया अंद्राबी ने यासीन मलिक के रिकमेंडेशन लेटर के जरिए पाकिस्तान में आतंक की ट्रेनिंग के लिए जाने वाले कश्मीरी युवाओं का कंफर्मेशन अपने इंटेरोगेशन रिपोर्ट में किया है।

खबर के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि एनआईए होम मिनिस्ट्री की मंजूरी मिलने के बाद अक्टूबर के पहले हफ्ते में इनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर सकती है, जिसमें पाकिस्तान के जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद का नाम भी हो सकता है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

बरखा दत्त
मीडिया गिरोह ऐसे आंदोलनों की तलाश में रहता है, जहाँ अपना कुछ दाँव पर न लगे और मलाई काटने को खूब मिले। बरखा दत्त का ट्वीट इसकी प्रतिध्वनि है। यूॅं ही नहीं कहते- तू चल मैं आता हूँ, चुपड़ी रोटी खाता हूँ, ठण्डा पानी पीता हूँ, हरी डाल पर बैठा हूँ।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

118,018फैंसलाइक करें
26,176फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: