पाकिस्तान कर रहा है घुसपैठ, मुँहतोड़ जवाब देने के लिए हम तैयार- लेफ़्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह

ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान की यह बौखलाहट जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने के बाद और बढ़ गई है, क्योंकि कश्मीर मुद्दे पर एक के बाद एक कई देशों से उसके हाथों मायूसी ही लग रही है।

73वें स्वतंत्रता दिवस के मौक़े पर जहाँ पूरा देश आज़ादी का जश्न मना रहा है, वहीं जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में सेना के कैंप में भी इस जश्न को बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर सेना की उत्तरी कमांड के चीफ़ लेफ़्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने तिरंगा फहराया और जवानों को स्वतंत्रता दिवस की ढेरों शुभकामनाएँ दी। 

लेफ़्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने अपने संबोधन में जवानों से कहा,

“मैं आप सब को इस अवसर पर मुबारकबाद और शुभकामनाएँ देता हूँ। आज रक्षाबंधन का भी त्योहार है। आपको आपके परिवार को स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन की शुभकामनाएँ।”

इस बीच उन्होंने न्यूज़ एजेंसी ANI से बातचीत करते हुए कहा, “पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान की ओर से घुसपैठियों को खदेड़ने की कोशिश की जा रही है, घुसपैठ की ऐसी कोशिशों को संघर्ष विराम उल्लंघन का समर्थन मिला है। भारतीय सेना पूरी तरह से सतर्क है और हम ऐसे सभी प्रयासों को विफल करने में सक्षम हैं।” उन्होंने इस बात पर ज़ोर देते हुए कहा कि भारतीय सेना पाकिस्तान के मंसूबों को कभी पूरा नहीं होने देगी।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

 

जवानों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा,

“अभी तक आपने सब कुछ अच्छे तरीक़े से संभाला हुआ है, आपका आर्मी कमांडर होने के नाते मुझे आप सभी पर गर्व है, जो भी चुनौती हमारे सामने आएगी हम उस पर अच्छी तरह से फ़तह पाएँगे।”

अनुच्छेद-370 को हटाए जाने पर लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह का कहना है कि इससे राज्य में अलगाववाद और आतंकवाद को बढ़ावा मिला है। साथ ही उन्होंने कहा कि वो कश्मीर की आवाम को धन्यवाद देना चाहेंगे क्योंकि सभी ने सुरक्षा बलों के साथ मिलकर यह बात मुमकिन की है कि जम्मू-कश्मीर में शांति का माहौल बना रहे। ग़ौरतलब है कि पाकिस्तान की यह बौखलाहट जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाए जाने के बाद और बढ़ गई है, क्योंकि कश्मीर मुद्दे पर एक के बाद एक कई देशों से उसके हाथों मायूसी ही लग रही है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: