बॉर्डर और LoC के रास्ते Pak भेज रहा हेरोइन: हजारों करोड़ की ड्रग्स ज़ब्त

पहले हेरोईन की सप्लाई सिर्फ़ एलओसी के जरिए होती थी लेकिन अब इसकी तस्करी के लिए बॉर्डर का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। सुंदरबनी और सुचेतगढ़ ऐसे बॉर्डर इलाके रहे हैं जहाँ एक ही तरह की प्लॉनिंग से हेरोईन तस्करी की कोशिश की गई हैं।

भारत-पाकिस्तान सीमा पर सुरक्षा बलों की कड़ी निगरानी के कारण पाकिस्तान को आतंकियों की घुसपैठ कराने में मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है इसलिए अब उसने अब भारत में अवैध रूप से ड्रग्स भेजना शुरू कर दिया है। हालाँकि इस तरह की कारस्तानी पाकिस्तान पहले भी करता रहा है लेकिन आजकल इसमें बढ़ोतरी दिखाई दे रही है।

अमर उजाला में प्रकाशित खबर के मुताबिक इंटरनेशनल बार्डर और एलओसी दोनों की ओर से ही बड़े पैमाने पर हेरोईन की सप्लाई आ रही है। जानकारी के अनुसार सिर्फ़ पिछले 2 सालों में 2500 करोड़ की हेरोईन पकड़ी जा चुकी है जिसमें नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ही लगभग 1500 करोड़ की हेरोईन जब्त की है। जबकि बाकी हेरोईन पुलिस की कार्रवाई में पकड़ी गई है।

खबर के मुताबिक पहले हेरोईन की सप्लाई सिर्फ़ एलओसी के जरिए होती थी लेकिन अब इसकी तस्करी के लिए बॉर्डर का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। सुंदरबनी और सुचेतगढ़ ऐसे बॉर्डर इलाके रहे हैं जहाँ एक ही तरह की प्लॉनिंग से हेरोईन तस्करी की कोशिश की गई हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस दौरान तस्करों ने प्लॉस्टिक कैन को फाड़ा, फिर पैकिंग करके उसे दोबारा जोड़ दिया और बाद में उसे भारतीय सीमा में फेंक दिया। बताया जा रहा है कि चौधरी अकरम पाकिस्तान में हेरोईन का सबसे बड़ा तस्कर है। अकरम भारतीयों के साथ लगातार संपर्क में रहता है और कठुआ से पुंछ तक नेटवर्क चलाता है। पाकिस्तानी रेंजर भी अकरम की इस काम में मदद करते हैं।

बता दें पिछले दो दिनों में ही जम्मू-कश्मीर में 13 किलो हेरोईन बरामद हुई। कल ही जम्मू कश्मीर के उधमपुर जिले में हेरोइन जैसा आठ किलोग्राम नशीला पदार्थ बरामद किया गया है। हालाँकि इस मामले में दो कथित ड्रग तस्करों की भी गिरफ्तारी हुई है। पुलिस ने बताया है कि इस मामले में काजीगुंड के निवासी सिराज अहमद और जावीद अहमद शाह को गिरफ्तार किया गया है।

इसके अलावा इस घटना से एक दिन पहले ही डीआरआई ने बीएसएफ के साथ एक संयुक्त अभियान में सुचेतगढ़ सीमा निगरानी चौकी के पास से पाँच किलोग्राम हेरोइन जब्त की थी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

गौरी लंकेश, कमलेश तिवारी
गौरी लंकेश की हत्या के बाद पूरे राइट विंग को गाली देने वाले नहीं बता रहे कि कमलेश तिवारी की हत्या का जश्न मना रहे किस मज़हब के हैं, किसके समर्थक हैं? कमलेश तिवारी की हत्या से ख़ुश लोगों के प्रोफाइल क्यों नहीं खंगाले जा रहे?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

100,227फैंसलाइक करें
18,920फॉलोवर्सफॉलो करें
106,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: