देखें VIDEO: 370 हटने से पहले सेना ने पाकिस्तानी आतंकियों की बड़ी घुसपैठ की थी नाकाम

30 जुलाई को पाकिस्तानी आतंकी कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर से सटी नियंत्रण रेखा के नजदीक भारतीय सेना ने घुसपैठ करने का प्रयास कर रहे थे। भारतीय सेना ने आतंकवादियों के इस बड़े दल को देखा और उन पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसने आतंकवादियों को.....

आतंकवादियों की घुसपैठ की एक बड़ी साजिश का एक वीडियो रिलीज़ किया गया है। घुसपैठ की यह कोशिश 30 जुलाई को की गई थी। 370 हटाने के फैसले से ठीक 5 दिन पहले, एलओसी के पास कुपवाड़ा सेक्टर में पाकिस्तानी घुसपैठियों की कोशिश को नाकाम करने का एक वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में पाकिस्तानी घुसपैठियों को घुसपैठ की कोशिश करते हुए साफ देखा जा सकता है।

बता दें कि 30 जुलाई को पाकिस्तानी आतंकी कश्मीर के कुपवाड़ा सेक्टर से सटी नियंत्रण रेखा के नजदीक भारतीय सेना ने घुसपैठ करने का प्रयास कर रहे थे। भारतीय सेना ने आतंकवादियों के इस बड़े दल को देखा और उन पर फायरिंग शुरू कर दी। जिसने आतंकवादियों को वापस लौटने पर मजबूर कर दिया। भारतीय सेना की फायरिंग और मुस्तैदी से सहमे आतंकवादी किसी तरह वहाँ से जान बचाकर अपने अपने क्षेत्र में भागे।

रिपोर्ट्स के अनुसार, घुसपैठ की यह घटना जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के निरस्त होने से कुछ ही दिन पहले की है। 5 अगस्त को जम्मू कश्मीर से 370 निष्क्रिय करके जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाने का निर्णय लिया गया था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि इससे पहले भारतीय सेना ने ये कुपवाड़ा के केरन सेक्टर में एलओसी के पास पाकिस्तानी आतंकियों के घुसपैठ के प्रयास को नाकाम कर दिया था। भारतीय सेना द्वारा जारी की गई वीडियो में 5 बैट आतंकियों की लाशें और उनके हथियार दिख रहे हैं। पाकिस्तान का बैट दस्ता भारत में आतंकियों को घुसपैठ कराने के लिए कुख्यात है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: