Pulwama Terror Attack: गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने शहीद जवान को दिया कंधा

प्रधानमंत्री ने भी पुलवामा आतंकी घटना पर बोलते हुए कहा: “साथियो, पुलवामा हमले के बाद, अभी मन:स्थिति और माहौल दुःख और साथ ही साथ आक्रोश का है। ऐसे हमलों का देश डटकर मुकाबला करेगा, रुकने वाला नहीं है।”

आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देने के लिए गृहमंत्री राजनाथ सिंह जम्मू-कश्मीर के पुलवामा पहुँचे। गृहमंत्री ने वहीं एक शहीद जवान के शव को कंधा दिया। समाचार एजेंसी एएनआई ने एक वीडियो ट्वीट किया है, इस वीडियो में गृहमंत्री राजनाथ सिंह और कश्मीर के DGP दिलबाग सिंह शहीद जवान को कंधा देते हुए नजर आ रहे हैं।

इसके बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह, जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक और भारतीय सेना के उत्तरी कमांड के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल सिंह ने पुलवामा हमले में शहीद सीआरपीएफ के जवानों को श्रद्धांजलि भी दी।

दरअसल, जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकियों द्वारा किए गए हमले में सीआरपीएफ के 40 से अधिक जवान शहीद हो गए हैं। श्रीनगर-जम्मू हाइवे पर स्थित अवंतीपोरा इलाके में आतंकियों ने जवानों की गाड़ी को निशाना बनाते हुए आतंकी घटना को अंजाम दिया।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

हमले के बाद दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा अलर्ट जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों के काफ़िले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया जिसमें करीब 40 से अधिक जानें गईं।

इस घटना की कड़ी निंदा करते प्रधानमंत्री ने पुलवामा आतंकी घटना पर बोलते हुए कहा: “साथियो, पुलवामा हमले के बाद, अभी मन:स्थिति और माहौल दुःख और साथ ही साथ आक्रोश का है। ऐसे हमलों का देश डटकर मुकाबला करेगा, रुकने वाला नहीं है।”

इसके अलावा प्रधानमंत्री ने कहा, “मैं पुलवामा के आतंकी हमले में शहीद जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूँ। उन्होंने देश की सेवा करते हुए अपने प्राण न्योछावर किए हैं। दुःख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएँ, उनके परिवारों के साथ हैं।”

प्रधानमंत्री ने इस मामले पर सर्वदलीय बैठक भी बुलाई है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: