बम बनाने के सामान के साथ अब्दुल व निजामुद्दीन गिरफ्तार, पावरफूल बम बनाने का वीडियो भी लैपटॉप में

लैपटॉप के अलावा पुलिस को चार्जर, एक मोबाइल फोन, वायर कटर, टेबल घड़ी, ग्लू स्टिक, कैपेसिटर, छोटे आकार का एलइडी बल्ब, डेटोनेटर और हेक्सा ब्लेड भी मिला है।

कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स टीम ने उत्तर दिनाजपुर से बांग्लादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) के 2 आतंकियों, जिनके नाम अब्दुल बारी (28 साल) और निजामुद्दीन खान (19 साल) को गिरफ्तार किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद इन दोनों से पूछताछ हुई और फिर इन दोनों के घरों की तलाशी ली गई। तलाशी में जो चीजें बरामद हुई, उनसे पता चला कि ये लोग किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने वाले थे।

प्रभात खबर की रिपोर्ट के अनुसार एसटीएफ को निजामुद्दीन के ठिकाने से एक लैपटॉप, चार्जर, एक मोबाइल फोन, वायर कटर, टेबल घड़ी, ग्लू स्टिक, कैपेसिटर, छोटे आकार का एलइडी बल्ब, डेटोनेटर और हेक्सा ब्लेड मिला है। जबकि घर से थोड़ी दूर स्थित इनके दूसके ठिकाने से पुलिस को सिमकार्ड के अलावा एक लैपटॉप और एक चार्जर भी बरामद हुआ हैं। लैपटॉप में High caliber explosive (तीव्र क्षमता वाला विस्फोटक) बनाने संबंधी वीडियो अपलोड था।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

अब इसे देखकर कयास लगाए जा रहे हैं कि ये आतंकी अपने नए ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए इन चीजों से विस्फोटक बनाने की तैयारी कर रहे थे। एसटीएफ के ज्वायंट सीपी शुभांकर सिन्हा सरकार ने बयान जारी करते हुए बताया है कि जेएमबी के इन संदिग्ध आतंकियों से कई सवालों के जवाब जानने के लिए लगातार पूछताछ की जा रही है। जैसे- इन चीजों से क्या करने वाले थे, उनकी क्या मंसूबे थे? वह कहाँ से वह इन चीजों को लाते थे? इन इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के उपयोग करके वह कितना घातक विस्फोटक बनाने की तैयारी में थे?

गौरतलब है कि अभी कुछ दिन पहले एसटीएफ की टीम ने अबुल काशेम को कोलकाता के नारकेलडांगा से गिरफ्तार किया था। उससे पूछताछ के दौरान ही इन दोनों संदिग्धों के बारे में जानकारी मिली थी। जिसके बाद पुलिस ने गुप्त अभियान चलाकर इन दोनों को गिरफ्तार किया और इनके खतरनाक मंसूबों के बारे में पता लगाने में जुट गई।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

इमरान ख़ान, रवीश कुमार
रवीश ने कही, इमरान ने सुनी। रवीश की सलाह इमरान ने मानी। अब इमरान ख़ान न अख़बार पढ़ेंगे और न ही टीवी देखेंगे। उन्होंने न्यूज़ शो देखना बंद कर दिया है। रवीश लगातार अपने 'प्राइम टाइम' में कहते हैं कि टीवी न देखें और अख़बार न पढ़ें। उन्हीं अख़बारों की ख़बर वो शेयर भी करते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

143,993फैंसलाइक करें
36,108फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: