2 कश्मीरी IAS-IPS ने दिखाया दम, सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा की कर दी छुट्टी

कश्मीर में अस्पतालों के फोन काम नहीं कर रहे - एक विदेशी पत्रकार ने यह ट्वीट करते हुए प्रोपेगेंडा फैलाने की कोशिश की। इसका जवाब देते हुआ आईएएस अधिकारी शाहिद चौधरी ने लिखा...

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के पर कतरने के बाद से ही सोशल मीडिया पर फ़र्ज़ी ख़बरों को फैला कर लोगों को भ्रमित करने का काम पाकिस्तान बड़े ज़ोर-शोर से कर रहा है। फ़र्ज़ी ख़बरों के प्रचार-प्रसार के लिए पाकिस्तान फ़र्ज़ी फ़ोटो और वीडियो का जमकर सहारा ले रहा है। ऐसा करने के पीछे पाकिस्तान की मंशा दुनिया में भारत की छवि को ख़राब करना है।

पाकिस्तान की मंशा का पर्दाफ़ाश करने में भारत कभी पीछे नहीं रहा, उसकी इस हरक़त का मुँहतोड़ जवाब भी दिया गया, दिया जा रहा है। इन्हीं में एक हैं जम्मू-कश्मीर में पाक आतंकवादियों का काम तमाम करने वाले आईपीएस अधिकारी इम्तियाज़ हुसैन, जिन्होंने सबूतों और तर्कों के साथ सोशल मीडिया के मैदान में फर्जीवाड़ा और प्रोपेगेंडा फैला रहे पाकिस्तानियों को धूल चटाई।

श्रीनगर में तैनात आईपीएस अधिकारी इम्तियाज़ हुसैन ने रविवार (18 अगस्त) को ट्विटर पर लिखा, “पाकिस्‍तान के सिंध का एक डाकू कश्‍मीर में लड़ाई लड़ना चाहता है। जैसे कि अब तक जो लोग कश्‍मीर में लड़ने के लिए आए थे, वे कमजोर डाकू थे। पाकिस्‍तानी सेना हमेशा से ही अपना काम ऐसे डाकुओं को आउट सोर्स कर करती रही है। उसका काम भी डाकू जैसा ही है। इस डाकू का भी वही हश्र होगा जो पहले के डाकुओं का हुआ है।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आईपीएस अधिकारी इम्तियाज़ हुसैन के अलावा आईएएस अधिकारी शाहिद चौधरी ने भी पाकिस्तानी प्रॉपेगैंडा की हवा निकालते हुए ट्विटर पर जम्मू-कश्मीर में शांति व्यवस्था की असली तस्वीर से लोगों को अपडेट करते रहे हैं।

एक विदेशी पत्रकार के ट्वीट जिसमें कश्मीर में अस्पतालों के फोन के काम नहीं करने के बारे में लिखा था, उसका जवाब देते हुआ आईएएस अधिकारी शाहिद चौधरी ने लिखा, “मेडिकल कॉलेज के प्रिसिंपल और अन्‍य चिकित्‍सा सुविधाओं के प्रमुखों के टेलिफोन नंबर पूरे दिन काम कर रहे हैं। कृपया तथ्‍यों का सम्‍मान करें। आपके पास अटकलों के आधार पर ट्वीट करने के लिए और भी बहुत कुछ है।”


शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नीरज प्रजापति, सीएए हिंसा
सीएए के समर्थन में आयोजित रैली में शामिल नीरज प्रजापति मुस्लिमों की हिंसा का शिकार बने थे। परिजनों ने ऑपइंडिया से बात करते हुए आरोप लगाया कि पुलिस व प्रशासन ने जल्दी-जल्दी अंतिम संस्कार कराने के चक्कर में धार्मिक रीति-रिवाज भी पूरा नहीं करने दिया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

145,329फैंसलाइक करें
36,957फॉलोवर्सफॉलो करें
166,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: