Thursday, September 16, 2021
Homeदेश-समाजBJP नेता की नाबालिग बहन के कथित रेप और हत्या मामले में ABVP ने...

BJP नेता की नाबालिग बहन के कथित रेप और हत्या मामले में ABVP ने उठाई आवाज, कहा- बंगाल में अपराधियों को संरक्षण

इस रिलीज में ABVP ने पूरे मामले में सीधे तौर पर टीएमसी को जिम्मेवार ठहराया है। इसमें लिखा है कि 16 साल की बच्ची के रेप और हत्या के बाद जनता स्तब्ध है। पीड़िता ने अभी सिर्फ़ अपनी 10वीं के एग्जाम दिए थे। जिसे टीएमसी द्वारा पोषित मुस्लिम गुंडों ने उठाया और सामूहिक दुष्कर्म करके जहर दे दिया।

पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर में एक भाजपा नेता की नाबालिग बहन के साथ कथिततौर पर रेप के बाद हत्या का मामला अब महिला राष्ट्रीय आयोग तक पहुँच गया है। महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने इस मामले को अपने ट्विटर पर शेयर किया है। उन्होंने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग का ध्यान आकर्षित करवाते हुए इस पर जल्द कार्रवाई की माँग की है।

NCW अध्यक्ष रेखा शर्मा ने सोनाक्षी डोगरा नामक एबीवीपी कार्यकर्ता का ट्वीट रीट्वीट करते हुए राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग और आयोग के अंध्यक्ष प्रियांक कानूनगो को टैग किया है। साथ ही ये भी लिखा है कि बच्ची नाबालिग थी। इसलिए कृपया इसपर जल्द से जल्द संज्ञान लें।

बता दें जिस ट्वीट को रेखा शर्मा ने ट्वीट किया उसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के ओर से जारी प्रेस रिलीज है। इस रिलीज में ABVP की ओर से बच्ची के रेप और हत्या के आरोपित को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की बात है।

इस रिलीज में ABVP ने पूरे मामले में सीधे तौर पर टीएमसी को जिम्मेवार ठहराया है। इसमें लिखा है कि 16 साल की बच्ची के रेप और हत्या के बाद जनता स्तब्ध है। पीड़िता ने अभी सिर्फ़ अपनी 10वीं के एग्जाम दिए थे। जिसे टीएमसी द्वारा पोषित मुस्लिम गुंडों ने उठाया और सामूहिक दुष्कर्म करके जहर दे दिया।

रिलीज के अनुसार, बंगाल में सत्ताधारी टीएमसी महिलाओं के ख़िलाफ़ हिंसा प्रायोजित कर रही है। इसमें उनके पार्टी नेता भी शामिल होते हैं। इसके अलावा सबसे घटिया चीज ये है कि ऐसे अपराध करने के बाद राज्य पुलिस द्वारा उन अपराधियों को घर तक संरक्षित किया जाता है। इसलिए उत्तरी बंगाल में एबीवीपी की यही माँग है कि स्कूल छात्रा के साथ रेप और हत्या के आरोपित को जल्द गिरफ्तार किया जाए।

गौरतलब है कि भाजपा नेता की बहन को 19 जुलाई को कथित रूप से घर से अगवा किया गया था। इसके बाद उसकी तलाश की गई तो वो बेहोशी की अवस्था में मिली। उसे तुरंत स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। जब वहाँ पर उसकी हालत में सुधार नहीं आया तो फिर उसे इस्लामपुर सब-डिविजनल अस्पताल ले जाया गया। जहाँ उसने दम तोड़ दिया। बच्ची की मौत के बाद कई जगह इस मामले पर प्रदर्शन भी हुए। पुलिस ने मामला गर्माने के बाद पोस्टमार्टम का हवाला दिया।

पुलिस ने कहा कि रिपोर्ट में कहीं भी यौन उत्पीड़न की कोशिश या चोट का जिक्र नहीं है। बच्ची की मौत अधिक मात्रा में जहर पीने की वजह से हुई है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लड़की के शरीर पर कहीं भी खरोच के निशान नहीं हैं।

इसके अलावा आरोपित फिरोज अली को लेकर भी कुछ मीडिया रिपोर्ट में कहा गया कि जिस फिरोज को आरोपित समझकर ढूँढा जा रहा था। उसे लेकर कुछ लोगों ने दावा किया है कि उसकी लाश सोनारपुर इलाके के एक तालाब में मिली है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe