Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजनहीं रहे पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी, पीएम मोदी बोले- ऊर्जा स्रोत...

नहीं रहे पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी, पीएम मोदी बोले- ऊर्जा स्रोत की तरह थे

"मैंने कई मौकों पर उनसे बहुत कुछ सीखा है। मैंने हाल ही में गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर उनसे मुलाकात की थी। उनका अद्भुत ज्ञान हमेशा मेरे साथ रहा है। मेरी संवेदनाएं उनके अनुयायियों के साथ हैं।"

पेजावर मठ के प्रमुख श्री श्री विश्वेश तीर्थ स्वामी जी का रविवार (29 दिसंबर) को निधन हो गया। वह 88 वर्ष के थे और लंबे समय से बीमार थे। सांस लेने में परेशानी के बाद 20 दिसंबर को उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने शनिवार को कहा था कि श्री तीर्थ की हालत गंभीर है और उनकी तबीयत बिगड़ती जा रही है। मठ के अधिकारियों और कनिष्ठ मठ प्रमुख विश्वाप्रसन्ना तीर्थ स्वामीजी ने बताया कि श्री विश्वेश की इच्छा के अनुसार रविवार को उन्हें अस्पताल से मठ लाया गया और यहीं इलाज जारी रखने का फ़ैसला किया गया था।

प्रधानमंत्री मोदी ने विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन पर दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, “पेजावार मठ के श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी, उडुपी में उन लाखों लोगों के दिलों और दिमाग में रहेंगे, जिनके लिए वह हमेशा एक मार्गदर्शक रहे। सेवा और आध्यात्मिकता के वे ऊर्जा स्रोत थे।” उन्होंने कहा, “मैंने कई मौकों पर उनसे बहुत कुछ सीखा है। मैंने हाल ही में गुरु पूर्णिमा के पावन अवसर पर उनसे मुलाकात की थी। उनका अद्भुत ज्ञान हमेशा मेरे साथ रहा है। मेरी संवेदनाएं उनके अनुयायियों के साथ हैं।”

तटीय क्षेत्र का दौरा कर रहे मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा शनिवार को अस्पताल पहुँचे थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती आज तड़के उडुपी श्री कृष्ण मठ में पेजावर मठ के प्रमुख विश्वेश तीर्थ स्वामी के दर्शन करने पहुँची थीं। भाजपा की वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती उनकी शिष्या रही हैं।

श्री श्री विश्वेश स्वामीजी का जन्म 27 अप्रैल, 1931 को श्री नारायणाचार्य और श्रीमति कमलम्मा की दूसरी संतान के रूप में हुआ था, जो रामकुंजा के एक भक्त युगल थे। माता-पिता ने बच्चे का नाम वेंकटरमण रखा। पेजावर मठ के तत्कालीन प्रमुख वेंकटरमण, श्री श्री विश्व मानय तीर्थ स्वामीजी ने उन्हें आठ वर्ष की आयु में संन्यासी के रूप में दीक्षा दी थी। दीक्षा 3 दिसंबर 1938 को हम्पी के पास चक्रतीर्थ में हुई। दीक्षा के बाद, वेंकटरमण श्री श्री विश्वेश तीर्थ बन गए।

किसी भी आठ उडुपी मठों के प्रमुख के लिए, दो साल के लिए भगवान कृष्ण की पूजा करने के लिए पर्याय (Paraya) की ज़िम्मेदारी किसी सौभाग्य से कम नहीं होता। यह शुभ कार्य करने का अवसर श्री विश्वेश तीर्थ स्वामीजी को वर्ष 1952 में पहली बार दिया गया था।

बता दें कि पर्याय एक धार्मिक अनुष्ठान होता है जो उडुपी के श्री कृष्ण मठ (कृष्ण मंदिर) में हर एक साल पर होता है। द्वैत दार्शनिक श्री माधवाचार्य द्वारा स्थापित आष्टा मठ के स्वामीजी (द्रष्टा या भिक्षु या पोंटिफ) के बीच कृष्ण मठ की पूजा और प्रशासन का काम विभाजित किया जाता है। प्रत्येक मठ के प्रत्येक स्वामी को दो साल की अवधि के लिए उडुपी श्रीकृष्ण की पूजा करने का अवसर प्राप्त होता है।

आध्यात्मिक, सामाजिक और विद्वतापूर्ण गतिविधियों में श्री विश्वेश तीर्थ स्वामी जी की भूमिका का इतिहास में उनका पहला पर्याय बेजोड़ था। इस पर्याय के दौरान, माधव संस्कृति, अखिल भारत माधव महा मंडली (ABMM) के गौरवशाली मशालची की स्थापना की गई थी। ABMMM ने मैसूर के महाराजा महामहिम की अध्यक्षता में अपना पहला सम्मेलन आयोजित किया।

1968 में श्री स्वामीजी के दूसरे पर्याय के दौरान, उडुपी का पूरा क्षेत्र सचमुच पुनर्जीवित हो उठा था। इस पर्याय के दौरान, विश्व हिन्दू परिषद के क्षेत्रीय शिखर सम्मेलन के अवसर पर श्री स्वामी जी द्वारा दिया गया नारा (हिन्दव: सोदरा: सर्वे, न हिन्दू: पतितो भवेत्। मम दीक्षा हिन्दू रक्षा, मम मंत्र: समानता) परिषद के सभी कार्यकर्ताओं के लिए एक मंत्र बन गया। 1968 में अपने दूसरे पर्याय के दौरान, उन्होंने उडुपी में बडागुमलगे की मरम्मत की।

यहाँ तक ​​कि वर्ष 1984 में श्री स्वामीजी की तीसरी पर्याय के दौरान उडुपी के पूरे आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और भौतिक परिदृश्य में एक क्रांतिकारी परिवर्तन किया। 1984 में स्वामीजी के रूप में उन्हें अपने तीसरे पर्याय के दौरान उडुपी में कृष्ण धाम नामक एक नया हॉल मिला। श्री स्वामीजी ने 18 जनवरी, 2016 को अपना पाँचवा पर्याय शुरू किया था और 18 जनवरी, 2018 को इसे पूरा किया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe