Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजपूर्व सांसद अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई की अवैध इमारत पर चला योगी...

पूर्व सांसद अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई की अवैध इमारत पर चला योगी सरकार का बुलडोजर: गैंग के धंधों को करता है मैनेज

अतीक अहमद की अब तक 200 करोड़ रुपए से अधिक की सम्पत्तियों को जब्त किया जा चुका है। इसके साथ ही उसके कई गुर्गों के खिलाफ भी ऐसी ही कार्रवाई की गई है। उसके गुर्गों की 50 करोड़ रुपए की संपत्ति पर बुलडोजर चला है। इस तरह से कुल आँकड़ा 250 करोड़ रुपए हो जाता है।

उत्तर प्रदेश में माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई लगातार जारी है। योगी आदित्यनाथ की सरकार मुख्य रूप से मुख़्तार अंसारी और अतीक अहमद की अवैध सम्पत्तियों पर शिकंजा कस रही है। इसी क्रम में अब पूर्व सांसद अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई की अवैध संपत्ति पर बुलडोजर चलाया गया है। मंगलवार (नवंबर 17, 2020) को अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई के अवैध निर्माण पर योगी सरकार का बुलडोजर चला।

अतीक अहमद के साढ़ू इमरान जई के जिस अवैध निर्माण को बुलडोजर से ध्वस्त किया गया, वो 2500 वर्ग गज का है और खुल्दाबाद के चकिया क्षेत्र में बनाया गया था। पीडीए से नक्शा स्वीकृत कराए बिना ही यहाँ अवैध रूप से निर्माण कर दिया गया। इमरान जई ही अतीक अहमद के सारे अवैध कारोबार को संभालता है और उसके धंधों और सम्पत्तियों का प्रबंधन करता है। उस पर कई गंभीर आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं।

हिस्ट्रीशीटर इमरान फ़िलहाल फरार चल रहा है। उत्तर प्रदेश सरकार की अलग-अलग संस्थाएँ प्रदेश भर के माफियाओं और अपराधियों पर कार्रवाई कर रही है, उसी क्रम में इस कार्रवाई को भी अंजाम दिया गया। जिस इमारत को ध्वस्त किया गया, वो इमरान जई का आवास हुआ करता था। पुलिस को उसकी तलाश है और उसकी गिरफ़्तारी के लिए दबिश दी जा रही है। अतीक अहमद गैंग के अन्य सदस्यों पर भी कार्रवाई जारी है।

इससे पहले प्रशासन ने अहमद के करीबी जुल्फिकार उर्फ तोता पर भी शिकंजा कसा था। शूटर तोता के तीन मंजिला अवैध मकान को अक्टूबर 2020 में धूमनगंज के कंसारी मसारी में पीडीए में ध्वस्त किया गया था। इस मकान की कीमत करोड़ो में थी। जुल्फिकार का ये अवैध मकान करीब 300 वर्ग गज क्षेत्रफल में बना हुआ था, जिसका नक्शा उसने पास नहीं कराया था। वो फ़िलहाल जेल में बंद है।

अक्टूबर 2020 के अंतिम सप्ताह में खबर आई थी कि अतीक अहमद की अब तक 200 करोड़ रुपए से अधिक की सम्पत्तियों को जब्त किया जा चुका है। इसके साथ ही उसके कई गुर्गों के खिलाफ भी ऐसी ही कार्रवाई की गई है। उसके गुर्गों की 50 करोड़ रुपए की संपत्ति पर बुलडोजर चला है। इस तरह से कुल आँकड़ा 250 करोड़ रुपए हो जाता है। अभी कार्रवाई रुकी नहीं है और उसकी और सम्पत्तियों को नेस्तनाबूत किया जाना है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe