मोहम्मद लाडला ने सन्नी सिन्हा की चाकू मार कर की हत्या: बिहार पुलिस ने समझा-बुझा कर भेज दिया था घर, भड़का आक्रोश

प्रतीकात्मक तस्वीर

बिहार के पूर्णिया जिले में तीन दिनों के भीतर चार हत्याओं ने व्यापक आक्रोश पैदा कर दिया है। 13 सितंबर को एक निजी बैंक कर्मचारी सन्नी सिन्हा की उनके पड़ोसी द्वारा की गई जघन्य हत्या ने राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति पर सवाल खड़ा कर दिया है।

सिन्हा के परिवार द्वारा उनके घर पर आयोजित एक समारोह के बीच, नशे में धुत मोहम्मद लाडला अपने दोस्त मोहम्मद लाल के साथ बिन बुलाए आ धमका। इसके बाद दोनों ने सिगरेट पीना शुरू कर दिया। जब घरवालों ने उन्हें मना किया और बाहर निकलने के लिए कहा गया तो वह दबंगई और हंगामा करने लगे।

घर से बाहर निकाले जाने से बौखलाया मोहम्मद लाडला अपने गिरोह को इकट्ठा करके 20 से 25 लोगों के साथ लौट आया। सन्नी सिन्हा जब हंगामा कर रहे लाडला से बात करने गए तो उनके सीने में बेरहमी से वार कर दिया गया। सिन्हा की हत्या के तुरंत बाद लाडला और उसका ग्रुप मौके से फरार हो गया।

सिन्हा के परिवार ने पुलिस को दी थी चेतावनी

कथित तौर पर, सिन्हा की हत्या से पहले, स्थानीय लोगों ने लाडला और उसके गिरोह द्वारा किए गए उपद्रव के बारे में स्थानीय पुलिस को अलर्ट कर दिया था। हालाँकि, नशे की हालत में पाए गए लाडला को गिरफ्तार करने के बजाय, पुलिस ने उसे चेतावनी देकर जाने दिया।

घटना से आक्रोशित स्थानीय लोगों ने कहा कि सिन्हा की हत्या इसलिए की गई क्योंकि पुलिस ने समय पर और उचित कार्रवाई नहीं की। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस संरक्षण में जिले में व्यापक रूप से ड्रग्स की बिक्री की जा रही है। स्थानीय लोगों और विश्व हिंदू परिषद के कई सदस्यों ने पेट्रोलिंग कर रही पुलिस टीमों और यातायात पुलिस पर जबरन वसूली का आरोप लगाया। 

उन्होंने कहा कि शहर में खुलेआम पुलिस के संरक्षण में नशे का कारोबार किया जा रहा है। पुलिस अवैध उगाही करने में लगी रहती है। टाईगर मोबाइल, गश्ती दल, एवं ट्रैफिक पुलिस नाजायज धन उगाही में लगी रहती है। इस तरह की घटना पर रोक नहीं लगी तो बड़े जन आन्दोलन के लिए विवश होना पड़ेगा।

मोहम्मद लाडला का फेसबुक प्रोफाइल

मुख्य आरोपित मोहम्मद लाडला की फेसबुक प्रोफाइल ने सोशल मीडिया पर आक्रोश पैदा कर दिया है। स्वराज्य की पत्रकार स्वाति गोयल शर्मा ने लाडला का फेसबुक प्रोफाइल शेयर किया है। इस पर लिखा है, “सुन लो आरएसएस बजरंग दल बीजेपी वालों हम दल नहीं खौफ बनाते हैं, इसलिए मियाँ भाई कहलाते हैं।” 

https://twitter.com/swati_gs/status/1438430832792850436?ref_src=twsrc%5Etfw

इस बीच, जदयू सांसद संतोष कुशवाहा ने शोक संतप्त परिवार से मुलाकात की और उन्हें आश्वासन दिया कि सिन्हा के मामले में तेजी से सुनवाई होगी। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने एसपी दयाशंकर से बात की है, जो पहले से ही मामले की जाँच कर रहे हैं।

वहीं एक अन्य मामले में मधुबनी में कथित तौर पर नशे में धुत एक लड़के ने अपने पिता को पीट-पीट कर मार डाला। पुलिस और स्थानीय प्रशासन के खिलाफ आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

ऑपइंडिया स्टाफ़: कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया