Tuesday, September 21, 2021
Homeदेश-समाजफिरोजाबाद में पुलिस पर फायरिंग, इंस्पेक्टर की पिस्टल छीनी: जुमे की नमाज के बाद...

फिरोजाबाद में पुलिस पर फायरिंग, इंस्पेक्टर की पिस्टल छीनी: जुमे की नमाज के बाद UP में एक दर्जन+ शहरों में बवाल

अलीगढ़ में स्थित शाह जमाल ईदगाह पर उग्र हुए प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। सबसे बुरी खबर फिरोजाबाद जिले से आई है। यहाँ पर भीड़ ने पुलिस की 12 गाड़ियों जला दिया।

नागरिकता कानून के विरोध में उत्तर प्रदेश में फिर से विरोध-प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया। जिन शहरों से हिंसक वारदातों की रिपोर्ट आ रही है, उनमें प्रमुख हैं – फिरोजाबाद, हापुड़, कानपुर, बहराइच, सीतापुर, गोरखपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, अलीगढ़, बलरामपुर, बिजनौर, गोंडा और हमीरपुर।

उत्तर प्रदेश में जैसा सुरक्षा एजेंसियों को अंदेशा था, बिल्कुल वैसा ही हुआ। जुमे की नमाज के बाद CAA के विरोध की आड़ में उग्र भीड़ ने इन शहरों में पुलिस के साथ झड़प की और जगह-जगह पथराव से लेकर आगजनी की। यही कारण था कि प्रशासन ने गुरुवार की रात 10 बजे से ही राज्य के 15 जिलों में इंटरनेट को बंद कर दिया था।

अलीगढ़ में स्थित शाह जमाल ईदगाह पर उग्र हुए प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर भी पथराव किया। इसके जवाब में पुलिस ने भी प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज करके उन्हें तितर-बितर किया। सबसे बुरी खबर फिरोजाबाद जिले से आई है। यहाँ पर भीड़ ने पुलिस की 12 गाड़ियों जला दिया। पुलिस चौकी को भी आग के हवाले कर दिया। इस दौरान पुलिस पर फायरिंग भी की गई।

फिरोजाबाद के नालबंद पुलिस चौकी में दंगाईयों ने आग लगा दी। इसके बाद कानपुर हाईवे पर कब्जा भी कर लिया। जब पुलिस यहाँ पहुँची और उपद्रवियों को शांत करना चाही तो उन पर ही फायरिंग की गई। इन दंगाईयों ने इंस्पेक्टर ब्रजेश कुमार सिंह को घेरकर उनकी पिस्टल भी छीन ली। यहाँ पर इंस्पेक्टर सिंह सहित तीन पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।

वहीं दूसरी ओर बुलंदशहर में लगभग 10000 की भीड़ ने नमाज के नारेबाजी और प्रदर्शन शुरू की। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को जब रोकने की कोशिश की तो उन पर पथराव किया गया। यहाँ भी पुलिस पर फायरिंग की गई। जवाब में पुलिस ने भी फायरिंग की। हालाँकि अभी किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

दंगों से कुछ तस्वीरें, जो बताती हैं पुलिस वाले भी चोट खाते हैं, उनका भी ख़ून बहता है…

कॉन्ग्रेस कॉरपोरेटर शहज़ाद ख़ान समेत 49 दंगाई हिरासत में: शाह-ए-आलम में पुलिस पर हुआ था जानलेवा हमला

…जो सीलमपुर बवाल में बम फेंक भी नहीं पाया, हाथ भी गँवाया, उस रईस को पुलिस ने धर दबोचा

सपा सांसद शफीकुर्रहमान के ख़िलाफ़ मामला दर्ज, 3000 दंगाई हिरासत में: योगी सरकार की सख़्त कार्रवाई

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रस्सी.. सल्फास की डिब्बी.. ब्लैकमेल वाली सीडी… सपा नेता भी घेरे में: पढ़ना-लिखना नहीं जानते थे नरेंद्र गिरी, फिर 8 पन्नों का सुसाइड नोट...

महंत नरेंद्र गिरी ने गेहूँ में रखने के लिए सल्फास की गोलियाँ मँगाई थीं। सल्फास की एक डिब्बी भी मिली है। सपा सरकार का एक राज्य मंत्री भी घेरे में।

‘यूपी में किसानों को गन्ने का सबसे ज्यादा पैसा, फिर भी वहीं करेंगे प्रदर्शन’: इंटरव्यू से हट गया राकेश टिकैत का मुखौटा

राकेश टिकैत ने पूरे इंटरव्यू के दौरान सिर्फ ये दर्शाया कि उनकी समस्या किसानों से जुड़ी नहीं है बल्कि उनकी दिक्कत केंद्र और राज्य में बैठी बीजेपी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,524FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe