Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजतृणमूल सांसद ने लालच देकर हज़ारों निवेशकों को ठगा, बाद में कम्पनी में लटकाए...

तृणमूल सांसद ने लालच देकर हज़ारों निवेशकों को ठगा, बाद में कम्पनी में लटकाए ताले

निवेशकों के रुपए लौटाने का समय आया तो तृणमूल संसद व अन्य आरोपितों ने कम्पनी में ताला लटका दिया। कई निवेशकों ने न सिर्फ़ अपने रुपए लगाए थे, बल्कि अपने मित्रों व रिश्तेदारों को भी निवेश करने के लिए मनाया था।

तृणमूल कॉन्ग्रेस के राज्यसभा सांसद कँवर दीप सिंह के ख़िलाफ़ निवेशकों से धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। ये मामला तृणमूल सांसद सहित 7 लोगों के ख़िलाफ़ दर्ज किया गया है। आरोपितों ने निवेशकों को रकम दुगुना करने का झाँसा दे ठगा। निवेश के एवज में निवेशकों को घर और ज़मीन देने का झाँसा दिया। मामले में तृणमूल संसद की रियल एस्टेट कम्पनी के निदेशक सत्येन्द्र कुमार सिंह, सुचेता खेमका, जयप्रकाश सिंह, बृजमोहन महाजन, छत्रसाल सिंह और नन्द किशोर सिंह को भी आरोपित बनाया गया है।

आरोपितों ने वर्ष 2010 में कानपुर के मॉल रोड इलाक़े में अलकेमिस्ट इंफ्रा रियलिटी और अलकेमिस्ट इंफ्रा टाउनशिप लिमिटेड के नाम से कम्पनियाँ खोली। उन्होंने निवेशकों को लालच दिया कि उनके द्वारा दी गई रक़म का कई गुना उन्हें वापस मिलेगा। कम्पनी की तरफ से उन्हें ज़मीन और फ्लैट देने का लालच भी दिया गया।

आरोपितों द्वारा खोली गई कंपनियों को हज़ारों निवेशक मिले। लेकिन, जब वादे के अनुसार निवेशकों के रुपए लौटाने का समय आया तब तृणमूल संसद व अन्य आरोपितों ने कम्पनी में ताला लटका दिया। कई निवेशकों ने न सिर्फ़ अपने रुपए लगाए थे, बल्कि अपने मित्रों व रिश्तेदारों को भी इसमें रुपए निवेश करने को मनाया था। पुलिस को अब तक 100 ऐसे निवेशकों के फोन आ चुके हैं, जिन्होंने अपने साथ ठगी होने की बात कही है।

पुलिस इस मामले की जाँच कर रही है। पवन मिश्रा ने इस मामले की तहरीर दी थो, जो ख़ुद तृणमूल राज्यसभा सांसद केडी सिंह द्वारा धोखाधड़ी का शिकार रहे हैं। केडी सिंह तहलका मैगजीन के भी मुख्य निवेशक थे और नारद स्कैम में भी उन पर मामला चल रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe