Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजसरकार से मास्क और सेनिटायजर माँगने वाले शाहीन बाग में चौकी तो है, लोग...

सरकार से मास्क और सेनिटायजर माँगने वाले शाहीन बाग में चौकी तो है, लोग नहीं

50 से अधिक लोगों के एक स्थान पर एकत्र न होने की चेतावनी शाहीन बाग के काम नहीं आई। शाहीन बाग पर बैठी महिला प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वह अपनी माँगों को लेकर अडिग हैं हम तब तक धरना समाप्त नहीं करेंगे जब तक कि मोदी जी इस काले कानून को वापस नहीं ले लेते।

सीएए विरोध के नाम पर पिछले तीन महीने से चल रहे दिल्ली के शाहीन बाग धरने में कोरोना के डर ने प्रवेश कर दिया है, यही कारण है कि धरने पर हर रोज प्रदर्शनकारियों की संख्या घटती चली जा रही है। हालाँकि, महिलाओं का सीएए के खिलाफ धरना प्रदर्शन अभी जारी है और वह किसी भी कीमत पर धरने से उठने को तैयार नहीं हैं।

बुधवार दोपहर को शाहीन बाग धरना स्थल पर प्रदर्शनकारियों की संख्या बेहद कम हो गई। तस्वीर में साफ देखा जा सकता है कि धरना स्थल पर कुछ मीटरों की दूरी पर जगह-जगह रहे तख्त पर इक्का-दुक्का महिलाएँ बैठी हुई दिखाई दे रही हैं। वहीं कुछ अधिंकाश प्रदर्शनकारी मुँह पर मास्क पहने दिखाई दिए, लेकिन दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना के खतरे को देखते हुए 50 से अधिक लोगों के एक स्थान पर एकत्र न होने की चेतावनी शाहीन बाग के काम नहीं आई। शाहीन बाग पर बैठी महिला प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वह अपनी माँगों को लेकर अडिग हैं हम तब तक धरना समाप्त नहीं करेंगे जब तक कि मोदी जी इस काले कानून को वापस नहीं ले लेते।

वहीं केजरीवाल सरकार की अपील के बाद मंगलवार को धरने पर पहुँचे दिल्ली पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की प्रदर्शनकारियों से धरना समाप्त कराने को लेकर तीखी बहस हो गई थी। दरअसल, अधिकारियों ने वायरस के खतरे को देखते हुए प्रदर्शन को खत्म करने की अपील की। उन्होंने कहा कि भीड़ से संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। यह प्रदर्शनकारियों के साथ-साथ आम नागरिकों के जीवन के लिए भी खतरनाक साबित हो सकता है। इस पर प्रदर्शनकारी भड़क उठे और बोले धरना जारी रहेगा। बातचीत विफल होने के बाद अधिकारी मौके से वापस चले गए थे।

गौरतलब हो कि दिल्ली सरकार ने 31 मार्च तक सभी स्कूलों और सिनेमा घरों को बंद कर दिया है साथ ही दिल्ली सरकार ने राजधानी में 50 से अधिक लोगों के एकत्रित होने पर रोक लगा दी है। वहीं दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए लोगों से भीड़-भाड़ वाली इलाकों में नहीं जाने की भी अपील की गई है। लेकिन सरकार की इस एडवाइजरी को धता बताते हुए शाहीन बाग में प्रदर्शनकारी किसी भी कीमत पर प्रदर्शन से हटने को तैयार नहीं हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe