Friday, September 17, 2021
Homeदेश-समाजसीएम योगी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले कामरान ने कबूला जुर्म,...

सीएम योगी को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले कामरान ने कबूला जुर्म, कहा- एक करोड़ के लिए दी धमकी

25 वर्षीय आरोपित कामरान से पूछताछ कर रही उत्तर प्रदेश पुलिस की एसटीएफ के सामने कामरान ने अपने जुर्म को कबूल कर लिया। इतना ही नहीं कामरान की गिरफ्तारी के बाद भी लखनऊ पुलिस को एक धमकी भरी कॉल आई है, जिसमें कहा गया है, "जिसे गिरफ्तार किया है, उसे छोड़ दो वरना अंजाम भुगतना पड़ेगा।"

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को बम से उड़ाने की धमकी देने वाले कामरान ने पुलिस की पूछताछ में अपना जुर्म कबूल लिया है। आरोपित कामरान ने कहा कि उसने एक करोड़ रुपए मिलने के वायदे के बदले में सीएम योगी को बम से उड़ाने की धमकी दी थी।

25 वर्षीय आरोपित कामरान से पूछताछ कर रही उत्तर प्रदेश पुलिस की एसटीएफ के सामने कामरान ने अपने जुर्म को कबूल कर लिया। हालाँकि, उसने यह नहीं बताया कि उसे पैसों का ऑफर किसने दिया था और वह व्यक्ति कौन है।

दरअसल रविवार (24 मई, 2020) को मुंबई से गिरफ्तार किए गए आरोपित कामरान को एक स्थानीय अदालत में पेश किया गया था, जिसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड में भेजते हुए यूपी एसटीएफ के हवाले कर दिया गया था।

जानकारी के मुताबिक मुंबई में रहने वाला आरोपित कामरान पहले एक सिक्योरिटी गॉर्ड का काम करता था, लेकिन 2017 में टीबी का ऑपरेशन होने के बाद उसने नौकरी छोड़ दी और वह फिलहाल कुछ नहीं कर रहा है। टैक्सी ड्राइवर पिता का पहले ही निधन हो चुका है।

पाँचवी पास कामरान नशे का आदी है। महाराष्ट्र एटीएस ने मुंबई के चूनाभट्टी इलाके के निवासी कामरान खान को एटीएस की कालाचौकी इकाई ने गिरफ्तार किया था। इतना ही नहीं कामरान की गिरफ्तारी के बाद भी लखनऊ पुलिस को एक धमकी भरी कॉल आई है, जिसमें कहा गया है, “जिसे गिरफ्तार किया है, उसे छोड़ दो वरना अंजाम भुगतना पड़ेगा।”

धमकी मिलते ही महाराष्ट्र एटीएस हरकत में आ गई और तत्काल कार्रवाई करते हुए एटीएस की नासिक यूनिट ने 20 साल के एक युवक को नासिक के भद्रकाली इलाके से गिरफ्तार कर लिया। कामरान से उसके संबंध के बारे में पुलिस जाँच कर रही है।

बता दें कि 21 मई, 2020 की शाम को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बम से उड़ाने की धमकी दी गई थी। यह धमकी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश- 112 के व्हाटसएप नम्बर पर दी गई थी, जिसमें कहा गया था कि उन पर बम से हमला किया जाएगा।

इसके बाद गोमती नगर थाने में इस सम्बन्ध में धारा 505 (1) बी, 506 और 507 के तहत FIR दर्ज कराई गई थी। वहीं तत्काल हरकत में आई पुलिस ने धमकी देने वाले नम्बर की जाँच शुरू कर दी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,744FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe