Friday, September 17, 2021
Homeदेश-समाजJNU हिंसा में नाम घसीटे जाने पर कोमल शर्मा ने की न्यूज़ चैनल के...

JNU हिंसा में नाम घसीटे जाने पर कोमल शर्मा ने की न्यूज़ चैनल के खिलाफ राष्ट्रीय महिला आयोग में शिकायत

राष्ट्रीय महिला आयोग की एक अधिकारी ने बताया कि कोमल शर्मा ने राष्ट्रीय महिला आयोग को शिकायत की है कि जेएनयू में 5 जनवरी की हिंसा के मामले में उनका नाम गलत तरीके से शामिल किया गया है और संबंधित न्यूज़ चैनल ने इस पर प्रतिक्रिया या स्पष्टीकरण के लिए उनसे संपर्क भी नहीं किया।

दिल्ली विश्वविद्यालय की छात्रा कोमल शर्मा ने एक न्यूज़ चैनल के खिलाफ राष्ट्रीय महिला आयोग (NCW) में शिकायत दर्ज करवाई है। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में गत 5 जनवरी को हुई हिंसा में DU की छात्रा कोमल शर्मा का नाम घसीटे जाने पर आज उन्होंने राष्ट्रीय महिला आयोग से संपर्क किया है।

कोमल शर्मा का आरोप है कि JNU में हुए हमले को लेकर चैनल ने उन्हें कथित तौर पर एक आरोपित के रूप में पेश करके बदनाम किया है। इसके साथ ही कोमल ने मीडिया संस्थानों और दिल्ली पुलिस को भी पत्र लिखकर इस मामले में ध्यान रखने को कहा है।

रिपोर्ट्स के अनुसार, राष्ट्रीय महिला आयोग की एक अधिकारी ने बताया कि कोमल शर्मा ने राष्ट्रीय महिला आयोग को शिकायत की है कि जेएनयू में 5 जनवरी की हिंसा के मामले में उनका नाम गलत तरीके से शामिल किया गया है और संबंधित न्यूज़ चैनल ने इस पर प्रतिक्रिया या स्पष्टीकरण के लिए उनसे संपर्क भी नहीं किया।

जेएनयू हिंसा में चेक शर्ट में दिखी लड़की को कहा जा रहा था कि वह DU में पढ़ने वाली कोमल शर्मा हैं। यही वजह है कि कोमल को राष्ट्रीय महिला आयोग के पास जाना पड़ा। हालाँकि, कोमल शर्मा का नाम मीडिया में आने के बाद दिल्ली पुलिस द्वारा भी लिया गया था। कहा गया था कि दिल्ली पुलिस ने भी मीडिया खबरों के आधार पर कोमल शर्मा को तलाश रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,761FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe