Thursday, September 16, 2021
Homeदेश-समाजकर्नाटक: कोलार में लॉकडाउन के दौरान नमाज अदा करने वाले 11 लोगों को पुलिस...

कर्नाटक: कोलार में लॉकडाउन के दौरान नमाज अदा करने वाले 11 लोगों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज

वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक मस्जिद के अंदर करीब दर्जन भर लोग दिखाई दे रहे हैं। इसी बीच मस्जिद में पहुँची तहसीलदार शोभिता मौजूद लोगों से बात करते हुए उन्हें समझा रही हैं। मस्जिदों के अंदर इस तरह महिलाओं का प्रवेश करना कम ही देखा जाता है। महिला अधिकारी द्वारा दिखाए गए साहस की.......

कर्नाटक के कोलार की एक मस्जिद में लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए कुछ नमाजी नमाज के लिए एकत्रित हो गए। सूचना पर पहुँची पुलिस ने मस्जिद से 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। जानकारी के मुताबिक कर्नाटक राज्य के कोलार जिले के डोड्डापेट बाजार की एक मस्जिद में शुक्रवार को कुछ लोग लॉकडाउन के नियमों की अनदेखी करते हुए नमाज अदा करने के लिए जुट गए। इस बात की जानकारी खुफिया सूत्रों से जैसे ही पुलिस प्रशासन को हुई तो तत्काल तहसीलदार शोभिता एक पुलिस टीम के साथ मस्जिद में पहुँच गई। पुलिस की टीम को देख मस्जिद में मौजूद नमाजियों के बीच हलचल पैदा हो गई।

इस दौरान तहसीलदार शोभिता ने पहले तो लॉकडाउन का हवाला देते हुए मस्जिद में मौजूद लोगों को समझाने की कोशिश की और उनसे मस्जिद में आने को लेकर कुछ सवाल जवाब भी किए। इसके बाद पुलिस ने मस्जिद में मौजूद सभी 11 नमाजियों को हिरासत में ले लिया। वहीं पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सभी के खिलाफ में कोलार सिटी पुलिस स्टेशन में मुकदमा दर्ज किया है।

दरअसल, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक मस्जिद के अंदर करीब दर्जन भर लोग दिखाई दे रहे हैं। इसी बीच मस्जिद में पहुँची तहसीलदार शोभिता मौजूद लोगों से बात करते हुए उन्हें समझा रही हैं। दरअसल, मस्जिदों के अंदर इस तरह महिलाओं का प्रवेश करना कम ही देखा जाता है। वहीं महिला अधिकारी द्वारा दिखाए गए साहस की सोशल मीडिया पर जमकर सराहना हो रही है।

वहीं तहसीलदार शोभिता ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मुस्लिम समुदाय के लोगों ने प्रतिबंधों के बावजूद मस्जिदों में इकट्ठा होकर लॉकडाउन के नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया है।

आपको बता दें कि सोमवार से देश में लागू होने वाले लॉकडाउन के तीसरे विस्तार में सरकार ने लोगों को कुछ सहूलियत दी हैं, लेकिन इस दौरान सभी प्रकार के धार्मिक कार्यक्रम पहले की तरह ही बंद रहेंगे। आपको बता दें कि कोलार जिला ग्रीन ज़ोन में है, क्योंकि जिले में अभी तक कोरोना का केस सामने नहीं आया है।

गौरतलब हो कि उलेमा काउंसिल, कर्नाटक और वक्फ बोर्ड देश में जारी लॉकडाउन को लेकर अपने समुदाय के लोगों से पहले ही अपील कर चुके हैं कि वह रमजान के दौरान अपने घरों में ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नमाज अदा करें और मस्जिदों में नमाज अदा करने के लिए इकट्ठा न हों।

इससे पहले असम के लखीमपुर जिले के दक्खिन पंडोवा गाँव की एक मस्जिद में गुरुवार रात को कुछ लोग लॉकडाउन का उल्लंघन कर नमाज अदा करने के लिए एकत्र हो गए थे। इसकी जानकारी जब नाओबीचा पुलिस को हुई तो चौकी प्रभारी बिस्वजीत नाथ एक पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुँचे। पुलिस ने मस्जिद में 12 लोगों को पाया।

इसके बाद जैसे ही पुलिस की टीम मस्जिद से निकली उस पर पथराव शुरू हो गया। इसमें ग्राम प्रधान सहित चार पुलिसकर्मी घायल हो गए। पथराव में पुलिस का वाहन भी क्षतिग्रस्त हो गया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

कोहाट दंगे: खिलाफ़त आंदोलन के लिए हुई ‘डील’ ने कैसे करवाया था हिंदुओं का सफाया? 3000 का हुआ था पलायन

10 सितंबर 1924 को करीबन 4000 की मुस्लिम भीड़ ने 3000 हिंदुओं को इतना मजबूर कर दिया कि उन्हें भाग कर मंदिर में शरण लेनी पड़ी। जो पीछे छूटे उन्हें मार डाला गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,733FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe