Sunday, August 1, 2021
Homeदेश-समाजबिरयानी वाले परवेज ने 100km की स्पीड से चलाई जगुआर, बांग्लादेशी मोइनुन और फरहाना...

बिरयानी वाले परवेज ने 100km की स्पीड से चलाई जगुआर, बांग्लादेशी मोइनुन और फरहाना की कोलकाता में मौत

परवेज 100 किलोमीटर की अधिक स्पीड से गाड़ी चला रहा था। उसके के खिलाफ आईपीसी की धारा 279, 427 और 304 के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि...

कोलकाता में बिरयानी चेन रेस्तरां के मालिक के बेटे परवेज ने अपनी जगुआर से एक मर्सिडीज को टक्कर मार दी। इसमें दो बांग्लादेशी नागरिकों की मौत हो गई। पुलिस ने परवेज को गिरफ्तार कर लिया है। जानकारी के मुताबिक, शनिवार (अगस्त 17, 2019) की सुबह परवेज की तेज गति से आ रही जगुआर ने शेक्सपियर सरानी और लाउडन स्ट्रीट के क्रॉसिंग पर पुलिस बूथ के समीप खड़ी एक मर्सिडीज को टक्कर मार दी। टक्कर इतनी तेज थी कि मर्सिडीज पलट कर पुलिस बूथ से टकरा गई और इसकी चपेट में आकर दो बांग्लादेशी नागरिकों की मौत हो गई। इसके अलावा एक अन्य शख्स घायल हो गया।

दुर्घटना में मारे गए लोगों की पहचान बंग्लादेश के ढाका निवासी काजी मोहम्मद मोइनुन आलम और फरहाना इस्लाम तानिया के रूप में हुई है। इसके अलावा इनके एक अन्य शख्स की पहचान काजी सफी रहमतुल्लाह के रूप में हुई है, जिन्हें कोलकाता के अस्पताल में भर्ती किया गया है। शहर के बांग्लादेश के उप उच्चायोग के मुताबिक, काजी आँख के इलाज के लिए कोलकाता में थे और फरहान ढाका में सिटी बैंक के लिए काम करते थे।

पुलिस ने बताया कि जिस कार से टक्कर मारी गई थी, वो कोलकाता में एक प्रसिद्ध बिरयानी रेस्तरां चेन अर्सलान के मालिक के बेटे परवेज का है और रेस्तरां के नाम पर रजिस्टर्ड है। इस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन 2017 में करवाया गया था। परवेज लंदन में अपनी पढ़ाई पूरी करके 2 साल पहले कोलकाता वापस आया है।

बता दें कि आरोपित परवेज टक्कर मारकर भाग गया था, लेकिन अब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपित परवेज के खिलाफ आईपीसी की धारा 279, 427 और 304 के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस का कहना है कि परवेज 100 किलोमीटर की अधिक स्पीड से गाड़ी चला रहा था।

फॉरेंसिक अधिकारी ने बताया कि दोनो गाड़ियों की जाँच करने के लिए वो डेटा रिकॉर्ड निकालने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं, कोलकाता में बांग्लादेश उप उच्चायोग अब विदेश मंत्राालय और पश्चिम बंगाल सरकार के साथ समन्वय स्थापित कर रहा है ताकि शवों को वापस देश भेजने की व्यवस्था की जा सके।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

रसगुल्ला के कारण राजदीप ने बंगाल हिंसा पर नहीं पूछा सवाल: TheLallantop के शो में कबूली बात, देखें वीडियो-समझें पत्रकारिता

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि उन्होंने CM ममता बनर्जी से बंगाल हिंसा पर इसीलिए सवाल नहीं पूछे, क्योंकि ऐसा करने पर उन्हें रसगुल्ला नहीं मिलता।

जम्मू-कश्मीर में अब पत्थरबाजाें, देशद्रोहियों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी और पासपोर्ट: सरकार का आदेश, सर्कुलर जारी

पत्थरबाजों और देश विरोधी गतिविधियों में शामिल रहने वाले लोगों को ना तो सरकारी नौकरी दी जाएगी और न ही उनके पासपोर्ट का वेरिफिकेशन किया जाएगा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,434FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe