Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजमुहर्रम के कारण ममता की पुलिस ने नहीं दर्ज किया बलात्कार का मामला, SP...

मुहर्रम के कारण ममता की पुलिस ने नहीं दर्ज किया बलात्कार का मामला, SP से लगानी पड़ी गुहार

गाँव वालों के सुझाव पर ही दोनो पति-पत्नी खेजुरी पुलिस थाने शिकायत कराने पहुँचे, जहाँ पुलिस ने मुहर्रम का हवाला देकर मामले में एफआईआर दर्ज करने से ही मना कर दिया। दोनों गुहार लगाते रहे, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

पश्चिम बंगाल में मंगलवार (सितंबर 10, 2019) को एक महिला का उसके पड़ोसी ने बलात्कार किया। लेकिन, महिला जब अपने पति के साथ पुलिस के पास शिकायत करने पहुँची, तो पुलिस ने उसे ये कहकर वापस भेज दिया कि अभी मुहर्रम चल रहा है। बाद में दंपत्ति को अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए एसपी के पास जाना पड़ा।

जानकारी के मुताबिक, महिला का पति एक मंदिर का पुजारी है और वे लोग बंगाल के मिदनापुर के खेजुरी इलाके के निवासी हैं। महिला मंगलवार की सुबह अपने घर से थोड़ी दूरी पर स्थित तालाब में स्नान करने गई थी, जब पड़ोस का एक युवक, जिसका नाम सुदीप्तो है वो उसको सीटी मारके छेड़ने लगा। तो उसने विरोध किया और नहाकर अपने घर वापस आ गई। जिस समय महिला घर पर लौटी तब घर पर कोई नहीं था। वो कपड़े बदल ही रही थी कि तभी सुदीप्तो ने उसपर कहीं से छलांग लगाई।

महिला के मुताबिक, सुदीप्तो ने पहले उसके चेहरे और प्राइवेट पार्ट्स पर चाकू रखकर उसे धमकाया और उसके मुँह में रुमाल भर दिया। बाद में उसे उसकी ही साड़ी से बाँध दिया और फिर उसका रेप किया। बलात्कार करने के बाद सुदीप्तो ने घर से निकलने से पहले उसे फिर धमकाया कि अगर उसने किसी को कुछ बताया तो वो उसे बिजली का करंट देकर मार देगा।

लेकिन, जब महिला का पति घर लौटा, तो उसने अपने साथ हुई सारी घटना के बारे में उसे बताया। पूरा वाकया जानने के बाद पहले तो उन्होंने शर्म से मर जाने की सोची। लेकिन, इस दौरान एक पड़ोस की महिला ने उन्हें बात करते सुन लिया था और जिसने जाकर बाकी गाँव वालों को सब बता दिया। बाद में गाँव वालों के सुझाव पर ही दोनो पति-पत्नी खेजुरी पुलिस थाने शिकायत कराने पहुँचे, जहाँ पुलिस ने मुहर्रम का हवाला देकर मामले में एफआईआर दर्ज करने से ही मना कर दिया। दोनों पति-पत्नी शिकायत दर्ज कराने की गुहार लगाते रहे, लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गई।

इस कारण उन्हें एक वकील से संपर्क करना पड़ा और वकील के सुझाव मुताबिक उन्होंने एसपी से मिलकर अपनी शिकायत दर्ज करवाई। जिसके बाद पुलिस ने जाँच शुरू की। हालाँकि आरोपित सुदीप्तों अभी फरार चल रहा है और पुलिस उसकी तलाश में जुटी हैं। लेकिन पुलिस ने दंपत्ति द्वारा केस दर्ज न करने के मामले को खारिज कर दिया है और बताया है कि किसी ने भी कोई शिकायत नहीं की थी। यहाँ दंपत्ति और उनका वकील इस बात पर अड़ा हुआ है कि वो थाने गए थे लेकिन पुलिस ने मुहर्रम के कारण शिकायत को लिखा ही नहीं और उन्हें एसपी के पास जाना पड़ा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe