हरियाणा की सोनिया भोपाल में कॉन्ग्रेस MLA के बंगले में लटकी मिली: दावा- गर्लफ्रेंड थी, जल्द शादी करने वाले थे

कॉन्ग्रेस नेता उमंग सिंघार (दाएँ) और महिला मित्र सोनिया (बाएँ)

मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री और कॉन्ग्रेस विधायक उमंग सिंघार के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया है। मामला सोनिया भरद्वाज की आत्महत्या से जुड़ा है। हरियाणा के अंबाला की रहने वाली 39 वर्षीय सोनिया भारद्वाज का शव रविवार (मई 16, 2021) को भोपाल स्थित विधायक के निजी बंगले से बरामद किया गया था। कथित तौर पर उसने बंगले में फंदे से लटक कर आत्महत्या कर ली थी।

उसके पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया था। बताया जाता है कि सोनिया कॉन्ग्रेस विधायक की महिला मित्र थी। दोनों जल्द शादी करने वाले थे। धारा 306 के तहत मामला भोपाल के शाहपुरा थाने में दर्ज किया गया है।

उमंग सिंघार वर्तमान में गंधवानी से विधायक हैं। ये मामला प्रकाश में आने के बाद उन्होंने भोपाल रेंज के आइजी को आवेदन लिखकर अपील की थी कि वह एक जनप्रतिनिधि हैं, इसलिए FIR से पहले मजिस्ट्रेट से जाँच कराई जाए। सिंघार ने दावा किया था, “सोनिया के सुसाइड नोट में ऐसा कुछ नहीं लिखा है, जिससे मेरे ऊपर खुदकुशी के लिए उकसाने का केस बने।” उन्होंने अपने आवेदन में टीवी पत्रकार अर्नब गोस्वामी को लेकर हाल ही में आए सुप्रीम कोर्ट के आदेश का भी हवाला दिया था। 

हालाँकि, सोमवार शाम को भोपाल के एसीपी राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि विधायक के बंगले में रहने वाले नौकरों, उनकी (कॉन्ग्रेस नेता) पत्नी, सोनिया के बेटे से पूछताछ के बाद कहा, “आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में कॉन्ग्रेस विधायक उमंग सिंघार के विरुद्ध आईपीसी की धारा 306 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।”

पुलिस की पूछताछ में सोनिया के बेटे आर्यन और नौकरों ने यह स्वीकारा कि सोनिया और उमंग के बीच नोकझोंक होती थी। पुलिस का कहना है कि सुसाइड नोट और पूछताछ में दर्ज किए गए बयानों पर कार्रवाई हुई है। 

एसीपी भदौरिया ने बताया कि पूछताछ से पता चला है कि सिंघार जल्द ही सोनिया से शादी करने वाले थे। दोनों की मुलाकात एक मेट्रिमोनियल वेबसाइट के जरिए हुई थी। सोनिया का एक 18 साल का बेटा भी है। दूसरी शादी टूटने के बाद वह माँ के साथ अंबाला में रहता था। सोनिया पिछले 25-30 दिनों से सिंघार के बंगले में रह रही थीं, जबकि कॉन्ग्रेस नेता 2 दिन से विधानसभा दौरे के लिए घर से बाहर थे।

कुछ रिपोर्ट बताती हैं कि महिला नहीं चाहती थी कि सिंघार अपने विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर जाएँ। लेकिन 2-3 दिन पहले जब वो चले गए तो महिला ने यह कदम उठाया। बताया जाता है कि सुसाइड नोट में किसी का सीधा-सीधा नाम नहीं है (कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक सिंघार का नाम नोट में है), लेकिन इसमें लिखा है, “उनका गुस्सा बहुत तेज है।” इससे कयास लगाए जा रहे हैं कि महिला कॉन्ग्रेस नेता से डरी हुईं थीं। पुलिस ने कुछ वीडियोज और फोटोग्राफ भी जब्त किए हैं।

पुलिस का कहना है कि दोनों एक-दूसरे को 2 साल से जानते थे और सोनिया दो बार भोपाल आ चुकी थी। वहीं सोनिया के अंतिम संस्कार के लिए अंबाला से भोपाल आए बेटे आर्यन और उसकी माँ ने पुलिस को दिए बयान में बताया कि सोनिया की पहचान सिंघार से सितंबर में हुई थी। इसी के बाद वह भोपाल आने-जाने लगी थी। मगर कुछ समय बाद दोनों में झगड़े होने लगे। इस बारे में सोनिया ने अपने घरवालों को भी वीडियो कॉल पर बताया था।

गौरतलब है कि उमंग सिंघार कमलनाथ सरकार में वन मंत्री थे। इसके अलावा वे पार्टी के राष्ट्रीय सचिव भी हैं। कुछ समय पहले वे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर गंभीर आरोप लगाने के कारण चर्चा में आए थे। उन्होंने कमलनाथ के मुख्यमंत्री रहते दिग्विजय को दूसरा पावर सेंटर बताया था।

ऑपइंडिया स्टाफ़: कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया