Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजकर्नाटक: राज्य सरकार के मंदिरों के धन से होगा गरीब जोड़ों की शादी, सप्तपदी...

कर्नाटक: राज्य सरकार के मंदिरों के धन से होगा गरीब जोड़ों की शादी, सप्तपदी योजना के तहत होगी खर्च की व्यवस्था

कोरोना के कारण इस योजना के मूलभूत ढाँचे में बदलाव किया जा चुका है। नए बदलाव के आधार पर कर्नाटक की राज्य सरकार के चयनित मंदिरों में आगामी एक साल के दौरान हिंदू जोड़ों की सुविधानुसार शादी कराई जा सकती है। इस प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है।

कर्नाटक सरकार ने गरीब परिवार से आने वाले हिंदू जोड़ों की शादी के लिए एक अहम ऐलान किया है। कर्नाटक की राज्य सरकार ने कहा है कि मंदिरों में दान की गई राशि के एक हिस्से से सामूहिक विवाह कराए जाएँगे। यह सामूहिक विवाह सप्तपदी नाम की योजना के तहत कराए जाएँगे। योजना के अनुसार लगभग 100 से अधिक ए श्रेणी के मंदिरों को 26 अप्रैल से 24 मई के बीच हिंदू जोड़ों के सामूहिक विवाह का खर्च उठाना था।  

लेकिन कोरोना वायरस महामारी की वजह से यह आयोजन नहीं हो पाया था। जिस तरह के हालात फिलहाल बने हैं उनके आधार पर सामूहिक विवाहों के आयोजन की उम्मीदें भी कम हैं। इस बात को मद्देनज़र रखते हुए डिपार्टमेंट ऑफ़ हिंदू चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन एंड रिलीजियस इंडोमेंट ने नया विकल्प खोजा है। विभाग अब विवाहों का आयोजन सामूहिक तौर पर कराने की जगह साल भर (केस बाई केस) आधार पर करेगा।  

हिंदू चैरिटेबल इंस्टीट्यूशन एंड रिलीजियस इंडोमेंट विभाग के मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी के मुताबिक़ इस योजना के मूलभूत ढाँचे में बदलाव किया जा चुका है। नए बदलाव के आधार पर कर्नाटक की राज्य सरकार के चयनित मंदिरों में आगामी एक साल के दौरान हिंदू जोड़ों की सुविधानुसार शादी कराई जा सकती है। इस प्रक्रिया की शुरुआत हो चुकी है।  

यह योजना हर उस मंदिर पर लागू होगी जिसे सामूहिक विवाह का आयोजन कराने के लिए चुना गया था। इस मुद्दे पर जानकारी देते हुए मंत्री श्रीनिवास पुजारी ने कहा मंदिरों में विवाह कराए जाने के दौरान स्वास्थ्य विभाग के दिशा निर्देशों का पूरी तरह ध्यान रखा जाएगा। ऐसे किसी भी आयोजन के दौरान पूरी सावधानी बरती जाएगी जिससे कोई महामारी की चपेट में न आए।    

एक कन्नड़ समाचार समूह से बात करते हुए कोटा श्रीनिवास पुजारी ने इस मामले में और जानकारी दी। उन्होंने कहा, “आने वाले समय में सरकार के लिए सामूहिक विवाह कराना बहुत कठिन होगा। इसलिए हमने योजना में बदलाव लाने की तैयारी की और हमें अच्छे नतीजे भी हासिल हो रहे हैं। जिन्हें शादी करवानी हो वह एक आवेदन कर सकते हैं। इसके बाद उन्हें एक महीने के भीतर मुहूर्त दिया जाएगा।” 

इस योजना की शुरुआत 5.5 करोड़ रूपए के बजट से शुरू की गई थी। इस योजना के तहत शादी करने वाले जोड़े को 8 ग्राम सोने का मंगलसूत्र, 10 हज़ार रूपए के उपहार और 5 हज़ार रूपए नगद दिए जाएँगे। अंत में श्रीनिवास पुजारी ने बताया कि मंदिरों की गतिविधियों के संचालन के लिए केंद्रीकृत बैंकिंग तंत्र तैयार किया गया है। धीरे-धीरे इसे राज्य सरकार के अंतर्गत आने वाले सभी मंदिरों पर लागू किया जाएगा।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe