Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजहत्या के मामले में सुशील कुमार की अंतरिम बेल याचिका खारिज, कोर्ट ने पूछा-...

हत्या के मामले में सुशील कुमार की अंतरिम बेल याचिका खारिज, कोर्ट ने पूछा- केस गंभीर नहीं तो भाग क्यों रहे?

“मैं एक अंतराष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी हूँ। पद्मश्री समेत देश के तमाम प्रतष्ठित पदकों और सम्मानों से सुसज्जित हूँ। ओलिंपिक में दो बार पदक जीतने वाला खिलाड़ी हूँ। मुझे छत्रसाल स्टेडियम में मेरे आधिकारिक कर्तव्यों के वहन के लिए आवास मिला हुआ है, जहाँ मैं अपने परिवार के साथ रहता हूँ।”

23 वर्षीय पहलवान सागर राणा की हत्या मामले में फरार चल रहे ओलंपिक विजेता सुशील कुमार की अंतरिम बेल याचिका को दिल्ली की रोहिणी कोर्ट ने आज (मई 18, 2021) खारिज कर दिया है। इससे पहले रोहिणी कोर्ट इस केस में सुशील कुमार और उनके साथियों के ख़िलाफ़ गैर जमानती वारंट जारी कर चुकी है।

जानकारी के मुताबिक, रोहिणी कोर्ट में सुशील की ओर सीनियर एडवोकेट सिद्धार्थ लूथरा और बुजुर्ग वकील आरएस जाखड़ ने दलील दी। उन्होंने सुशील के हवाले से कहा कि उनका (सुशील का) केस में कोई लेना-देना नहीं है। दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने पूछा कि अगर मामला इतना गंभीर नहीं है तो फिर सुशील कुमार क्यों भाग रहे हैं। पुलिस जाँच में सहयोग करें।

सुशील कुमार के वकीलों ने क्या कहा?

वकीलों ने सुशील के हवाले से कहा कि पुलिस ने उनके विरुद्ध दुर्भावनापूर्ण तरीके से केस बनाया है। साथ ही इस मामले में कई तथ्य भी छिपाए गए हैं। दलील में सुशील की ओर से कहा गया, “मैं एक अंतराष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी हूँ। पद्मश्री समेत देश के तमाम प्रतष्ठित पदकों और सम्मानों से सुसज्जित हूँ। ओलिंपिक में दो बार पदक जीतने वाला खिलाड़ी हूँ। मुझे छत्रसाल स्टेडियम में मेरे आधिकारिक कर्तव्यों के वहन के लिए आवास मिला हुआ है, जहाँ मैं अपने परिवार के साथ रहता हूँ।” 

सुशील का कहना है कि उनकी वजह से किसी को कोई चोट नहीं लगी। पुलिस ने मामले में हेरफेर की। उनका मत ये भी है कि घायल व्यक्ति ने उनके विरुद्ध कोई बयान नहीं दिया है। इसके अलावा कार से जो हथियार मिले हैं वो भी उनके नहीं है। सुशील के वकील ने कहा कि इंजरी गन से नहीं हुई, फायरिंग हवा में की गई। मकसद हत्या का नहीं था इसलिए 302 आईपीसी नहीं लगनी चाहिए।

सुशील पर 1 लाख रुपए का इनाम

गौरतलब है कि 5 मई को छत्रसाल स्टेडियम में हुई घटना के बाद से सुशील कुमार फरार हैं। पुलिस ने उसके ऊपर एक लाख रुपए का इनाम घोषित किया है। वहीं उसके पीए अजय को पकड़ने पर 50 हजार रुपए देने की घोषाणा की है। इससे पहले सुशील कुमार के ख़िलाफ़ लुकआउट नोटिस भी जारी हुआ था। वहीं, उससे पूर्व मामले में 24 साल के प्रिंस दलाल को गिरफ्तार किया गया था। दलाल को डबल बैरेल लोडेड बंदूक के साथ दबोचा गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

‘दविंदर सिंह के विरुद्ध जाँच की जरूरत नहीं…मोदी सरकार क्या छिपा रही’: सोशल मीडिया में किए जा रहे दावों में कितनी सच्चाई

केंद्र सरकार के ख़िलाफ़ कई कॉन्ग्रेसियों, पत्रकारों, बुद्धिजीवियों ने सोशल मीडिया पर दावा किया। लेकिन इनमें से किसी ने एक बार भी नहीं सोचा कि अनुच्छेद 311 क्या है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,620FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe