Friday, September 17, 2021
Homeदेश-समाजहत्यारा शहाबुद्दीन 3 दिन पहले मिला अपने बीवी-बच्चों से, 6 दिन पहले चंदा बाबू...

हत्यारा शहाबुद्दीन 3 दिन पहले मिला अपने बीवी-बच्चों से, 6 दिन पहले चंदा बाबू को नहीं नसीब हुआ बेटों का कंधा

तिहाड़ में बंद हत्यारा मोहम्मद शहाबुद्दीन 6-6 घंटे के लिए दिल्ली में कहीं भी परिवार से मुलाकात कर सकता है। - यह कोर्ट का आदेश था। पूरी सुरक्षा में शहाबुद्दीन अपने बीवी-बेटों से मिला भी। उधर 3 बेटों को खो देने वाले चंदा बाबू नहीं रहे।

सीवान का सांसद रहा मोहम्मद शहाबुद्दीन फ़िलहाल दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद है। दिल्ली हाईकोर्ट ने निर्देश पर उसे 18 घंटों के लिए अपने परिजनों से मुलाकात के लिए समय दिया गया। कड़ी सुरक्षा में उसे परिजनों से मुलाकात कराया गया। उच्च-न्यायालय ने सशर्त पैरोल के तहत उसे सुविधा दी थी कि वो 6-6 घंटे के लिए दिल्ली में कहीं भी मुलाकात कर सकता है। ये सब चंदेश्वर प्रसाद उर्फ़ चंदा बाबू की मृत्यु के बाद हो रहा है, जिनके 3 बेटों को शहाबुद्दीन ने मार डाला था।

चंदा बाबू ज़िंदगी भर अपने बेटों की हत्या के मामले में न्याय के लिए केस लड़ते रहे। न्यायपालिका, विधायिका या कार्यपालिका – कहीं से उन्हें कुछ नहीं मिला। बिहार में जंगलराज के दौरान जब शासन-प्रशासन के सभी अंग राजद सुप्रीमो के इशारे पर नाचा करते थे और शहाबुद्दीन उनका ही दुलारा हुआ करता था, ऐसे में भला कोई न्याय की उम्मीद करे भी तो कैसे। ये वो जमाना था, जब शहाबुद्दीन के खिलाफ चुनाव लड़ना भी मौत को दावत देने के समान था।

पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के 90 वर्षीय अब्बा शेख मोहम्मद हसीबुल्लाह का सितम्बर 19 को निधन हो गया था। अपने अब्बा को सुपुर्द-ए-ख़ाक करने की रस्म में शामिल होने के लिए उसने हाईकोर्ट से अनुमति माँगी थी। निधन के दूसरे और तीसरे दिन अवकाश था, ऊपर से कोरोना काल के कारण इस पर सुनवाई नहीं हो सकी। शहाबुद्दीन सीवान नहीं जा सका, जिसके बाद उसने अपने अब्बा के ‘चालीसवें’ में वहाँ जाने की अनुमति माँगी।

जब उच्च-न्यायालय ने उसे सीवान भेजने के सम्बन्ध में दिल्ली और बिहार की सरकारों से रिपोर्ट माँगी तो दोनों ने ही हाथ खड़े कर दिए। ये बताता है कि बिहार तो दूर, दिल्ली का शासन-प्रशासन आज 90 के दशक के ख़त्म हुए 20 वर्ष बीत जाने के बावजूद शहाबुद्दीन के क्रियाकलापों पर लगाम कसने में खुद को नाकाम पाता है, खासकर जब वो जेल से बाहर हो। उसे तिहाड़ भी इसीलिए शिफ्ट किया गया था, क्योंकि बिहार के जेल से वो बेधड़क अपना साम्राज्य चला रहा था।

दोनों राज्यों ने यहाँ तक कह दिया कि अगर एक बटालियन जवान पूरे के पूरे लगा दिए जाएँ, फिर भी शहाबुद्दीन के बाहर आने के बाद क़ानून-व्यवस्था को संभालना मुश्किल है। शहाबुद्दीन के लोग अभी भी हर जगह हो सकते हैं, ये संभावना भी जताई जा रही है। वो एक बार बाहर निकलने पर किस-किस से किस कार्य के लिए संपर्क करेगा, किसी को नहीं पता। लेकिन, फिर भी वो परिजनों से मिलने के बहाने बाहर आने में कामयाब रहा।

कोर्ट ने दिल्ली सरकार को आदेश दिया था कि वो तय दिशा-निर्देशों के हिसाब से शहाबुद्दीन को उसके परिजनों से मिलवाए। इसी प्रक्रिया के तहत उसे बाहर लाया गया। सोमवार, बुधवार और शनिवार को उसने अपने परिजनों से मुलाकात की, दिल्ली में अपने ही एक करीबी के फ्लैट पर। कहा जा रहा है कि तीन साल दो महीने के बाद उसने अपनी बीवी हेना शहाब, बेटा मोहम्मद ओसामा, अम्मी और दोनों बेटियों से मुलाकात की।

उसकी बीवी हेना शहाब भी RJD की ही नेता है और 2 बार चुनाव लड़ कर हार भी चुकी है। इस दौरान शहाबुद्दीन जेल में ही था। मीडिया के सूत्र कह रहे हैं कि उसकी एक बेटी डॉक्टर है और एक डॉक्टर बनने वाली है। एक बेटी का तो निकाह भी एक डॉक्टर से ही लगभग तय हो गया है। शहाबुद्दीन को कोर्ट ने छूट दी थी कि वो दिल्ली में कहीं भी अपने परिजनों से मुलाकात कर सकता है, अपनी चुनी हुई जगह पर।

शहाबुद्दीन मामूली अपराधी नहीं है। पाकिस्तान और ISI तक से उसके सम्बन्ध सामने आ चुके हैं, ऐसे में वो देश के लिए भी खतरा है। लोगों की नजर में वो किसी आतंकी से कम नहीं। ऐसे में उसे जेल में ही अपने परिजनों से मुलाकात करने को कहा जा सकता था। बिहार और दिल्ली की सरकारों को कम से कम हाईकोर्ट से अनुरोध करना चाहिए था कि जेल में ही परिजनों को ले जाकर उससे मुलाकात करवाई जाए।

एक तरफ एक व्यक्ति 16 वर्षों से अपने बेटे की हत्या के लिए न्याय माँगते हुए दर-दर भटकता रहा, दूसरी तरफ उसकी मौत के बाद ही हत्यारा गैंगस्टर अपने परिजनों से मजे में मिल रहा है। एक तरफ चंदा बाबू ने रोते हुए ज़िंदगी बिताई, शहाबुद्दीन के खौफ के कारण कोई उनके साथ दिखना तक नहीं चाहता था, वहीं दूसरी तरफ शहाबुद्दीन जब-जब पूर्व काल में जेल से बाहर आया, उसका भव्य स्वागत किया गया।

16 अगस्त 2004 को चंदा बाबू के दो बेटे तेजाब से नहला दिए गए थे। 16 जून 2014 को बड़े बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अब 16 दिसंबर 2020 को चंदा बाबू खुद दुनिया से विदा हो गए। चंदा बाबू ने उस वक्त शहाबुद्दीन के खिलाफ खड़ा होने का फैसला, किया जिस वक्त उसकी तूती बोलती थी। उसके डर से कोई भी खड़ा होने की हिम्मत नहीं कर पाता था। उस वक्त वे न केवल खड़े हुए, बल्कि अपना सब कुछ गवाँ भी दिया।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी के 71वें जन्मदिन पर भारत माता के मंदिर पर जलेंगे 71 हजार दीपक, टूटेगा वैक्सीनेशन का रिकॉर्ड

प्रधानमंत्री मोदी का आज 71वाँ जन्मदिन है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस अवसर पर जहाँ 2 करोड़ वैक्सीन डोज का लक्ष्य रखा है। वहीं BJP कई कार्यक्रम करके इस दिन को मनाएगी।

प्राचीन महादेवम्मा मंदिर विध्वंस मामले में मैसूर SP को विहिप नेता ने लिखा पत्र, DC और तहसीलदार के खिलाफ कार्रवाई की माँग

विहिप के नेता गिरीश भारद्वाज ने मैसूर के उपायुक्त और नंजनगुडु के तहसीलदार पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए SP के पास शिकायत दर्ज कराई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
122,744FollowersFollow
409,000SubscribersSubscribe