Monday, August 2, 2021
Homeदेश-समाजतलाक के बाद अब राज्य भी बदलने का मूड, टीना डाबी के शौहर अतहर...

तलाक के बाद अब राज्य भी बदलने का मूड, टीना डाबी के शौहर अतहर खान ने लगाई तबादले की अर्जी

आईएएस पति-पत्नी के बारे में एक और बात सामने आई थी कि आईएएस अधिकारियों के लिए हाउसिंग बोर्ड की तरफ से एक अलग सोसाइटी बनाई गई है। जिसमें प्लॉट के लिए टीना डाबी और अतहर खान ने अलग-अलग आवेदन किया था। इस बात के सामने आते ही...

हाल ही में साल 2015 की संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) की टॉपर आईएएस अधिकारी टीना डाबी और उनके शौहर अतहर खान ने तलाक लेने के लिए जयपुर की फैमिली कोर्ट में अर्जी दायर की थी। अब ख़बरें आ रही हैं कि अतहर खान ने डेप्यूटेशन के लिए जम्मू कश्मीर जाने के लिए आवेदन किया है। ख़बरों की मानें तो उनका यह आवेदन फ़िलहाल गृह मंत्रालय में लंबित है, उस पर सुनवाई बाकी है। 

टीना और अतहर दोनों ही राजस्थान कैडर के अधिकारी हैं और दोनों को फ़िलहाल जयपुर में नियुक्ति मिली हुई है। आईएएस पति-पत्नी के अलग होने की बात सामने आने के बाद से ही चर्चाओं का बाज़ार गर्म है। नौकरशाही से लेकर सोशल मीडिया तक इस मुद्दे पर भिन्न-भिन्न तरह के कयास लगाए जा रहे हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ अतहर खान ने गृह राज्य जम्मू कश्मीर जाने के लिए आवेदन किया था, जिसके बाद ही दोनों के बीच सबसे पहली बार दरार पैदा हुई थी। फ़िलहाल टीना डाबी और अतहर खान जयपुर फैमिली कोर्ड में तलाक की अर्जी देने के बाद से चर्चा में बने हुए हैं। 

इतना ही नहीं, दोनों को मुस्लिम देशों में भी गूगल पर काफी सर्च किया जा रहा है। इसके अलावा शुक्रवार (20 नवंबर 2020) को पूरे दिन दोनों ट्विटर पर ट्रेंड करते रहे। इसके पहले आईएएस पति-पत्नी के बारे में एक और बात सामने आई थी कि आईएएस अधिकारियों के लिए हाउसिंग बोर्ड की तरफ से एक अलग सोसाइटी बनाई गई है। जिसमें प्लॉट के लिए टीना डाबी और अतहर खान ने अलग-अलग आवेदन किया था। इस बात के सामने आते ही दोनों के बीच सब कुछ सामान्य नहीं होने की अटकलें तेज हो गई थीं। 

लगभग दो दिन पहले ही टीना डाबी को श्रीगंगानगर से सचिवालय के वित्त विभाग में स्थानांतरित किया था, इस पर राज्य निर्वाचन आयोग ने रोक लगा दी थी। दरअसल सेन्ट्रल डेप्यूटेशन पर जाने के लिए 9 साल, किसी अन्य केंद्र शासित राज्य में डेप्यूटेशन पर जाने के लिए 7 साल और जम्मू कश्मीर में डेप्यूटेशन पर जाने के लिए सिर्फ 5 साल के अनुभव की आवश्यकता होती है। अतहर खान का 5 वर्ष का अनुभव आगामी दिसंबर महीने में पूरा हो जाएगा, इसके बाद जम्मू कश्मीर में डेप्यूटेशन पर तैनाती के लिए उनकी योग्यता पूरी हो जाएगी।

अतहर खान ने टीना डाबी के साथ ही UPSC परीक्षा में दूसरा स्थान हासिल किया था। दोनों की शादी साल 2018 में हुई थी। IAS टॉपर टीना डाबी और उनके पति अतहर खान की मर्जी से दायर इस अर्जी में कहा गया था, “हम आगे साथ नहीं रह सकते। ऐसे में कोर्ट हमारी शादी को शून्य घोषित करें।” उल्लेखनीय है कि टीना डाबी और अतहर आमिर-उल-शफी खान के बीच ट्रेनिंग के दौरान नजदीकियाँ बढ़ी थीं। इसके बाद इन्होंने साल 2018 में शादी कर ली। 

इसके बाद टीना ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर खान लिखने के साथ-साथ ‘कश्मीरी बहू’ का टैग भी लगा लिया था। हालाँकि, अभी कुछ दिन पहले टीना के फैंस ने नोटिस किया कि उन्होंने अपने अकाउंट से न केवल ‘कश्मीरी बहू’ का टैग हटाया है, बल्कि उसके साथ-साथ अपने पति को भी ट्विटर पर अनफॉलो कर दिया है। इंस्टास्टोरी पर भी जय श्रीराम लिखते हुए हनुमान चालीसा की चौपाई- “सब सुख लहै तुम्हारी सरना, तुम रक्षक काहु को डरना। जय श्रीराम” लिखी थी।

दोनों की शादी को 2018 में कई नेताओं और पत्रकारों सहित लिबरल गिरोह के लोगों ने सेलिब्रेट किया था। सोशल मीडिया पर उन्होंने इसे एक उदाहरण बताते हुए ख़ुशी जताई थी। किसी की शादी का राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए, लेकिन इन लोगों ने इसे ‘सांप्रदायिक सद्भाव’ की मिसाल के रूप में प्रस्तुत कर अपने एजेंडे के लिए इस मौके का इस्तेमाल किया। इसमें कॉन्ग्रेस अध्यक्ष रहे राहुल गाँधी सबसे आगे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वीर सावरकर के नाम पर फिर बिलबिलाए कॉन्ग्रेसी; कभी इसी कारण से पं हृदयनाथ को करवाया था AIR से बाहर

पंडित हृदयनाथ अपनी बहनों के संग, वीर सावरकर द्वारा लिखित कविता को संगीतबद्ध कर रहे थे, लेकिन कॉन्ग्रेस पार्टी को ये अच्छा नहीं लगा और उन्हें AIR से निकलवा दिया गया।

‘किताब खरीद घोटाला, 1 दिन में 36 संदिग्ध नियुक्तियाँ’: MGCUB कुलपति की रेस में नया नाम, शिक्षा मंत्रालय तक पहुँची शिकायत

MGCUB कुलपति की रेस में शामिल प्रोफेसर शील सिंधु पांडे विक्रम विश्वविद्यालय में कुलपति थे। वहाँ पर वो किताब खरीद घोटाले के आरोपित रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,635FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe