Friday, July 30, 2021
Homeदेश-समाजकोरोना में अनाथ हुए बच्चों की 'अभिभावक' बनेगी योगी सरकार, 'उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल...

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों की ‘अभिभावक’ बनेगी योगी सरकार, ‘उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ की घोषणा

मुख्यमंत्री कार्यालय ने इसको लेकर ऐलान किया है कि जिन बच्चों ने महामारी के कारण अपने माता-पिता या कानूनी अभिभावक दोनों को खो दिया है, उन्हें इस योजना में शामिल किया जाएगा।

कोरोना वायरस के कहर के बीच हजारों लोगों को अपनी जान गँवानी पड़ी है। कई बच्चे अनाथ हुए, जिनके सामने रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है। ऐसे बच्चों की मदद के लिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार आगे आई है। सीएम योगी ने शनिवार को घोषणा की कि ‘उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना’ के तहत राज्य सरकार महामारी के कारण अनाथ बच्चों के लिए अभिभावक या केयर टेकर का काम करेगी।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने इसको लेकर ऐलान किया है कि जिन बच्चों ने महामारी के कारण अपने माता-पिता या कानूनी अभिभावक दोनों को खो दिया है, उन्हें इस योजना में शामिल किया जाएगा।

इसके अलावा जिन बच्चों के घरों में इकलौता कमाने वाला शख्स महामारी के कारण नहीं रहा, उन्हें भी इस योजना में शामिल किया जाएगा।

योजना के अंतर्गत प्रदेश सरकार अभिभावक या केयर टेकर के जरिए हर बच्चे को 4,000 रुपए प्रति माह देगी।

सीएम ऑफिस ने जानकारी दी है कि 10 साल से कम उम्र के जिन बच्चों के अभिभावक या केयर टेकर नहीं होंगे, उन्हें भारत सरकार की सहायता से राज्य सरकार चिल्ड्रेंस होम में शरण देगी। रिपोर्ट के मुताबिक, मौजूदा वक्त में उत्तर प्रदेश में 0-10 साल के बच्चों के लिए मथुरा, लखनऊ, प्रयागराज, आगरा और रामपुर समेत पाँच राजकीय बाल गृह हैं।

इसके अलावा नाबालिग लड़कियों की देखरेख और उनकी पढ़ाई-लिखाई भारत सरकार द्वारा संचालित कस्तूरबा गाँधी स्कूलों में या राज्य सरकार द्वारा संचालित 18 अटल आवासीय विद्यालयों में से एक में की जाएगी। यहीं नहीं प्रदेश सरकार ने कोरोना के कारण अनाथ हुई लड़कियों की शादी के लिए भी 1,01,000 रुपए भी देगी। इसके अलावा, सरकार स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ने वाले बच्चों को टैबलेट और लैपटॉप भी देगी।

पीएम केयर्स फंड से होगी बच्चों की मदद

कोरोना वायरस के चलते माता-पिता या अभिभावकों को खोने वाले बच्चों की मदद के लिए शनिवार (29 मई 2021) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया कि ऐसे सभी बच्चों को ‘पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन’ योजना के तहत सहायता दी जाएगी।

प्रधानमंत्री ने घोषणा की कि ऐसे शोक संतप्त बच्चों को 18 साल का होने के पर पीएम केयर्स फंड से अगले पाँच वर्षों के लिए हर महीने वजीफा दिया जाएगा। इसके अलावा, 23 साल की उम्र में उन्हें 10 लाख रुपए का फंड मिलेगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

तालिबान की मददगार पाकिस्तानी फौज, ढेर कर अफगान सेना ने दुनिया को दिखाए सबूत: भारत के बनाए बाँध को भी बचाया

अफगानिस्तान की सेना ने तालिबान को कई मोर्चों पर पीछे धकेल दिया है। उनकी मदद करने वाले पाकिस्तानी फौज से जुड़े कई लड़ाकों को भी मार गिराया है।

स्वतंत्र है भारतीय मीडिया, सूत्रों से बनी खबरें मानहानि नहीं: शिल्पा शेट्टी की याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट

कोर्ट ने कहा कि उनका निर्देश मीडिया रिपोर्ट्स को ढकोसला नहीं बताता। भारतीय मीडिया स्वतंत्र है और सूत्रों पर बनी खबरें मानहानि नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,014FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe