Wednesday, July 28, 2021
Homeदेश-समाजयोग-वेदांत पढ़ाने वाले स्वामी तत्वबोधानंद की पीट-पीटकर हत्या, ड्रग्स-शराब का कर रहे थे विरोध

योग-वेदांत पढ़ाने वाले स्वामी तत्वबोधानंद की पीट-पीटकर हत्या, ड्रग्स-शराब का कर रहे थे विरोध

अपार्टमेंट का CCTV कैमरा भी क्षतिग्रस्त पाया गया, इसलिए पुलिस अन्य इमारतों और आसपास के अन्य CCTV कैमरों की फुटेज से हत्यारों की शिनाख्त करने की कोशिश कर रही है। घटनास्थल से फोरेंसिक नमूने इकट्ठे करने के अतिरिक्त पुलिस ने......

अपने घर के पास शराब और ड्रग्स का विरोध कर रहे पुडुचेरी के जाने-माने योग व गीता गुरु और वेदांत विद्वान स्वामी तत्वबोधानंद की मंगलवार-बुधवार (29 अगस्त, 2019) को अपने ही अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स में पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। स्वराज्य पत्रिका में स्थानीय मीडिया के हवाले से छपी खबर के अनुसार रात को हुई हत्या का खुलासा उनकी इमारत (गोकुलम अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स) के सिक्योरिटी गार्ड के सुबह आने पर हुआ। हत्यारों का अब तक कोई पता नहीं चला है। वहीं पुलिस के अनुसार यदि उसे समय पर सूचना मिल गई होती तो हत्यारों को जल्दी दबोचा जा सकता था। मिल रही जानकारी के अनुसार स्वामी तत्वबोधानंद अपने अपार्टमेंट के आस-पास ड्रग्स-शराब का विरोध कर रहे थे। पुलिस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि हत्या में उसी धंधे से जुड़े लोगों का हाथ तो नहीं है।

डर के मारे भागा गार्ड

गार्ड के अनुसार हत्या वाली रात वह अपार्टमेंट से ही जुड़ा कोई काम कर रहा था जब दो संदिग्ध शख्स जबरन घुस आए और उसके साथ गुंडागर्दी और दुर्व्यवहार करने लगे। अपने बयान के मुताबिक गार्ड अपनी जान बचाने के लिए भाग खड़ा हुआ और एक पेट्रोल पम्प में शरण ली। जब वह सुबह लौटा तो अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स के दरवाज़े पर खून के धब्बे थे। अंदर जाकर उसने स्वामी जी की लाश देखी।

CCTV कैमरा क्षतिग्रस्त, पुलिस ने लगाई स्निफर डॉग टीमें

अपार्टमेंट का CCTV कैमरा भी क्षतिग्रस्त पाया गया, इसलिए पुलिस अन्य इमारतों और आसपास के अन्य CCTV कैमरों की फुटेज से हत्यारों की शिनाख्त करने की कोशिश कर रही है। घटनास्थल से फोरेंसिक नमूने इकट्ठे करने के अतिरिक्त पुलिस ने अपने स्निफर डॉग भी इस मामले की जाँच में लगा दिए हैं। हालाँकि, पुलिस ने इस मामले की जाँच के लिए दो टीमें गठित कर दीं हैं, लेकिन उनका कहना है कि अगर हत्या की जानकारी और जल्दी मिल जाती तो हत्यारों को जल्दी गिरफ्तार करना आसान होता।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी सिर्फ हिंदुओं की सुनते हैं, पाकिस्तान से लड़ते हैं’: दिल्ली HC में हर्ष मंदर के बाल गृह को लेकर NCPCR ने किए चौंकाने...

एनसीपीसीआर ने यह भी पाया कि बड़े लड़कों को भी विरोध स्थलों पर भेजा गया था। बच्चों को विरोध के लिए भेजना किशोर न्याय अधिनियम, 2015 की धारा 83(2) का उल्लंघन है।

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe